scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

महाराष्ट्र में एक बाघ कर रहा दूसरे बाघों का शिकार, दो को मारकर खा गया, जानिए विशेषज्ञों ने क्या कहा

नागपुर के ताडोबा-अंधारी टाइगर रिजर्व में एक बाघ दूसरों बाघों का शिकार कर उनका मांस खा रहा है। इस घटना के बारे में जानकर वैज्ञानिकों ने भी हैरानी जताई है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: January 24, 2024 18:02 IST
महाराष्ट्र में एक बाघ कर रहा दूसरे बाघों का शिकार  दो को मारकर खा गया  जानिए विशेषज्ञों ने क्या कहा
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर। फोटो- (इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

महाराष्ट्र के नागपुर से एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है। यहां ताडोबा-अंधारी टाइगर रिजर्व के कोलसा वन रेंज में दो बाघों का क्षत-विक्षत शव मिला। जब शवों की जांच की गई तो पता चला कि उनका शिकार एक अन्य बाघ ने ही किया था। उस बाघ ने ही दोनों का मांस खाया था। इस घटना के बारे में विशेषज्ञ पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। वे इसकी विस्तृत जांच कर रहे हैं कि आखिर शिकारी बाघ ने ऐसा क्यों किया।

दरअसल, शवों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि दोनों बाघ क्षेत्रीय विवाद में किसी दूसरे बाघ का शिकार बन गए थे। दोनों बाघों की उस तीसरे बाघ से हिंसक लड़ाई हुई थी। इस घटना में शिकारी बाघ (टी-92) दूसरे दो बाघों का मांस खा गया। विशेषज्ञों का कहना है कि यह घटना यह बताती है कि बाघों के बीच अपने एरिया को लेकर संघर्ष कितना हिंसक हो सकता है। शवों में से दो साल के बाघ के पिछले हिस्से का मांस खाया हुआ था। वहीं 6 साल के दूसरे बाघ (टी-14) का शव थोड़ी ही दूर पर क्षत-विक्षत हालत में पाया गया।

Advertisement

विशेषज्ञों ने आगे कहा कि शव की जांच से पता चलता है कि बाघों के बीच क्षेत्रीय लड़ाई हुई। इसके बाद एक बाघ ने दोनों को मार दिया और उनका मांस खा गया। जांच के बाद अधिकारियों ने पाया कि शिकारी बाघ को उसी क्षेत्र के सीसीटीवी कैमरे में कैद किया गया था। उसी ने बाकी दो बाघों को मारा है।

सीसीटीवी में कैद हुआ बाघ

रिजर्व के उप निदेशक नंदकिशोर काले ने कहा कि बाघ को उसी क्षेत्र के कैमरा में कैद किया गया है। उन्होंने आगे कहा, "हम यह पता लगा रहे हैं कि क्या यह वही बाघ है जिसने अन्य दो को मार डाला।" काले ने आगे कहा कि पनघाट सेफ्टी हट के कर्मचारियों ने दो दिनों में बाघों के बीच खतरनाक लड़ाई देखी थी। यहीं पर बाघों की मौत हुई थी। यह क्षेत्र गैर-पर्यटन क्षेत्र हैं। उन्होंने कहा, "यह cannibalism (सेम प्राणी का मांस खाना) का मामला लगता है, लेकिन जिन परिस्थितियों में यह घटना हुई उनकी जांच होनी चाहिए।"

Advertisement

वहीं बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के निदेशक किशोर रिठे ने कहा, Cannibalism एक प्राकृतिक घटना है, जहां बाघ उन शावकों को निशाना बनाते हैं जिन्हें वे नहीं पालते हैं। हालांकि बाघों का उन्हें खाना खिलाना एक ऐसी चीज है, जिसका अध्ययन करने की जरूरत है। यह पार्कों में होता है, जहां बाघों का घनत्व अधिक होता है।"

Advertisement

जीतने वाला बाघ हारने वाले को खा जाता है

मामले में वन्यजीव संरक्षण ट्रस्ट के आदित्य जोशी ने दावा किया कि बाघ आदतन दूसरे बाघों के मांस नहीं खाते हैं लेकिन कुछ परिस्थितियों में ऐसा हो सकता है। उन्होंने आगे कहा, "जब क्षेत्रीय लड़ाई में एक बाघ दूसरे बाघ द्वारा मारा जाता है तो जीतने वाला टाइगर हारने वाले का मांस खा सकता है।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो