scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

चुनाव में विपक्षी नेता सिंगल और सत्ता पक्ष के नेता ट्विन इंजन वाले हेलिकॉप्टर में करते हैं यात्रा, जानिए कितना होता है एक घंटे का किराया

हेलिकॉप्टर सेवाओं का संचालन कर रहे अनिल सियोलकर ने कहा कि इस चुनावी सीज़न में पिछले सीज़न की तुलना में पूरे भारत में चुनावी उड़ानों में वृद्धि देखी जा रही है।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: April 27, 2024 23:00 IST
चुनाव में विपक्षी नेता सिंगल और सत्ता पक्ष के नेता ट्विन इंजन वाले हेलिकॉप्टर में करते हैं यात्रा  जानिए कितना होता है एक घंटे का किराया
चुनाव के दौरान राजनेता हेलीकॉप्टर से रैलियां करते हैं। (Photo Source: Oxford Enterprises PVT LTD)
Advertisement

Shubham Tigga

चुनाव का समय है और राजनेता एक ही दिन में कई स्थानों पर बैक-टू-बैक रैलियां कर रहे हैं। इसके लिए वे किराए पर हेलिकॉप्टर सेवाएं ले रहे हैं। इसके कारण हेलिकॉप्टर सेवाएं देने वाली कंपनियां मोटी कमाई कर रही हैं। 2008 से हेलिकॉप्टर सेवाओं का संचालन कर रहे अनिल सियोलकर ने कहा कि इस चुनावी सीज़न में पिछले सीज़न की तुलना में पूरे भारत में चुनावी उड़ानों में वृद्धि देखी जा रही है, जिससे मुझे काफी लाभ हुआ है।

Advertisement

डबल इंजन हेलिकॉप्टर की अधिक मांग

पुणे के व्यापारी और ऑक्सफोर्ड ग्रुप के चेयरमैन अनिल सियोलकर ने कहा कि उनके पास दो सिंगल इंजन बेल मॉडल हेलिकॉप्टर हैं। वर्तमान में दोनों मुख्य रूप से महाराष्ट्र और गुजरात में चुनाव रैलियों में लगे हुए हैं।

जानिए कितना होता है किराया

सियोलकर ने खुलासा किया कि चुनाव के दौरान हेलिकॉप्टर किराए पर लेने का प्रति घंटा किराया एक इंजन वाले हेलिकॉप्टर के लिए 1,50,000 रुपये से 2,00,000 रुपये और दो इंजन वाले हेलिकॉप्टर का 3,50,000 रुपये तक होता है। इसी तरह पुणे में Kagiu Aviation के निदेशक ईश्वरचंद्र एजी ने भी स्वीकार किया कि उन्होंने इस चुनावी मौसम में हेलिकॉप्टरों की मांग में वृद्धि देखी है। थर्ड पार्टी के एजेंटों के पास 17 हेलिकॉप्टर और 62 निजी जेट का बेड़ा है। इसमें से हरेक हेलिकॉप्टर वर्तमान में चुनाव संबंधित कामों में लगा हुआ है।

ईश्वरचंद्र एजी ने कहा, "हमारे सभी हेलीकॉप्टर 1 मार्च से व्यस्त उड़ान भर रहे हैं और चुनाव के समापन तक ऐसा ही रहेगा। इन महीनों के दौरान वे अन्य सार्वजनिक सेवाओं जैसे सवारी, हवाई फूल बरसाना, या हवाई एम्बुलेंस सहायता के लिए उपलब्ध नहीं होंगे। कागियू एक इंजन वाले हेलिकॉप्टर के लिए 1.20 लाख रुपये से 2.5 लाख रुपये और दो इंजन वाले हेलिकॉप्टर के लिए 2.5 लाख रुपये से 7 लाख रुपये प्रति घंटे का चार्ज करता है। वर्तमान में पूरे भारत में 200 से अधिक हेलिकॉप्टर हैं। राजनीतिक दलों के लिए हेलिकॉप्टरों की कमी है। ट्विन-इंजन की बुकिंग पिछले दिसंबर में शुरू हुई थी।''

Advertisement

भारत में कुल 231 हेलीकॉप्टर

आधिकारिक आंकड़ों का हवाला देते हुए अनिल सियोलकर ने कहा कि भारत में कुल 231 हेलीकॉप्टर हैं, जिनमें से 176 एनएसओपी हैं, जिन्हें अक्सर टैक्सी हेलिकॉप्टर कहा जाता है। इसके अलावा 37 निजी हेलिकॉप्टर और 19 सरकारी स्वामित्व वाले हेलिकॉप्टर हैं। उन्होंने कहा, "केवल एनएसओपी हेलिकॉप्टरों का उपयोग चुनाव अभियान, फूल गिराने, पर्यटन, राइडिंग और कॉर्पोरेट यात्रा जैसे व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। इसके लिए उन्हें नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) से परमिट की आवश्यकता होती है। वर्तमान में पुणे में केवल 6 एनएसओपी काम कर रहे हैं, जिनमें से दो ट्विन-इंजन और चार सिंगल-इंजन हेलिकॉप्टर हैं।"

अनिल सियोलकर ने कहा कि पारदर्शी वित्तीय लेनदेन और भारत के चुनाव आयोग (ECI) द्वारा निर्धारित फाइनेंसियल कानूनों का पालन बहुत महत्वपूर्ण है। चुनाव के समय राजनेताओं द्वारा बुक की गई सभी उड़ानों का विवरण ईसीआई को प्रदान करना होगा। सुरक्षा कारणों से ट्विन इंजन वाले हेलिकॉप्टरों की अधिक मांग है। अकसर सत्ता में रहने वाली पार्टी ट्विन इंजन में और विपक्ष सिंगल इंजन में यात्रा करता है। मेरा मानना ​​है कि ट्विन इंजन वाले हेलिकॉप्टरों के रखरखाव में अधिक खर्च आता है। हालांकि डबल इंजन वाला हेलिकॉप्टर सिंगल इंजन की तुलना में अधिक स्थिर होता है।"

अनिल सियोलकर ने बताया कि इस बिजनेस में प्रमुख चुनौती हेलीपैड के लिए सीमित जगह है। उन्होंने कहा कि पुणे में केवल दो से तीन हेलीपैड हैं। चुनाव के दौरान यदि हेलीपैड अनुपलब्ध हैं, तो हेलिकॉप्टर 'लैंड, ड्रॉप एंड गो' प्रक्रिया का पालन करेगा या प्रशासन से एक दिन का परमिट प्राप्त करेगा। ईश्वरचंद्र ने कहा कि हेलिकॉप्टर व्यवसाय में कई कठिनाइयां हैं और चुनाव प्रचार के लिए जिला कलेक्टर या मजिस्ट्रेट या पुलिस आयुक्त की अनुमति से अस्थायी हेलिपैड तैयार किया है।

अनिल सियोलकर का मानना ​​है कि निगमों को हेलिकॉप्टर उतारने और पार्क करने की अनुमति देने से बिजनेस में वृद्धि हो सकती है। अनिल सियोलकर ने कहा, "पुणे बाजार हिस्सेदारी में महत्वपूर्ण योगदान देता है और कई उद्योगपति इंदापुर और सोलापुर जैसी जगहों पर अपनी सुविधाओं का दौरा करने के लिए हेलिकॉप्टर किराए पर लेते हैं। भारत में पायलटों के लिए प्रशिक्षण केंद्रों की भी कमी है, जिससे सेवा की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो