scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Security: संसद की सुरक्षा होगी और चाक-चौबंद, CISF के 250 से ज्यादा जवानों की जल्द होगी तैनाती

सरकार ने संसद सुरक्षा में अब 250 से ज्यादा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) जवानों को संसद भवन तैनात करने का फैसला लिया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: March 19, 2024 15:17 IST
lok sabha security  संसद की सुरक्षा होगी और चाक चौबंद  cisf के 250 से ज्यादा जवानों की जल्द होगी तैनाती
Parliament Security Breach: संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान संसद भवन के बाहर सुरक्षाकर्मी। (फोटो सोर्स: PTI)
Advertisement

भारत की संसद से जुड़ी सुरक्षा को लेकर काफी सख्ती बरती जाती है। कई स्टेप्स के चेक-पॉइंट्स के बाद संसद के अंदर प्रवेश होता है। किसी सांसद की सिफ़ारिश या स्पेशल इनवाइट के बिना आप संसद परिसर तक नहीं पहुंच सकते। लेकिन पिछले साल 13 दिसंबर को कुछ ऐसा हुआ कि हर कोई स्तब्ध रह गया। दो लोग संसद की कार्यवाही के दौरान नारे लगाते हुए स्पीकर की तरफ बढ़ने लगे तब ही कुछ सांसदों ने उन्हें पकड़ लिया।

खैर, एक बार फिर यह याद दिलाने की वजह सुरक्षा में हुए ताजा अपग्रेड से जुड़ी है। सरकार ने संसद सुरक्षा में अब 250 से ज्यादा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) जवानों को संसद भवन तैनात करने का फैसला लिया है।

Advertisement

चाक-चौबंद सुरक्षा

जानकारी के मुताबिक CISF जवानों की तैनाती के अलावा 12 इंस्पेक्टर, 45 सब-इंस्पेक्टर, 30 सहायक सब-इंस्पेक्टर, 35 हेड कांस्टेबल और 85 कांस्टेबल भी संसद की सुरक्षा में शामिल होंगे। जनवरी में संसद में 140 CISF जवानों को तैनात किया गया था। तब से सुरक्षा पर खास तौर पर ध्यान रखा गया है और चेक-पोस्ट्स पर खासतौर से सुरक्षा बढ़ा दी गई है। दिसंबर 2023 हुई घटना के बाद सुरक्षा को लेकर काफी सवाल उठाए गए थे। जो दो लोग संसद के भीतर गए थे उन्हें मैसूर सीट से भाजपा सांसद प्रताप सिम्हा ने एंट्री पास दिए थे।

इस बार बीजेपी ने प्रताप सिम्हा को टिकट नहीं दिया है और उनकी जगह मैसूरु शाही वंशज यदुवीर कृष्णदत्त चामराजा को मैदान में उतारा गया है।

संसद की सुरक्षा से जुड़े मामले में अब तक छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें दो घुसपैठिए सागर शर्मा और मनोरंजन डी. शामिल हैं। इस घटना के बाद 13 दिसंबर 2001 के उस आतंकवादी हमले को भी याद किया गया जब देश की संसद पर हमला हुआ था और संसद भवन के गार्ड, दिल्ली पुलिस के जवान समेत कुल 9 लोग शहीद हुए थे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो