scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

स्थानीय लोगों ने की मदद, आतंकियों के पास थी US मेड M-4 कार्बाइन… कठुआ मामले में सेना को मिले ये इनपुट

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सैनिकों की शहादत पर दुख जताया है और कहा है,'मैं जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकवादी हमले में हमारे पांच बहादुर भारतीय सेना के जवानों की शहादत से बहुत दुखी हूं।'
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: July 09, 2024 09:39 IST
स्थानीय लोगों ने की मदद  आतंकियों के पास थी us मेड m 4 कार्बाइन… कठुआ मामले में सेना को मिले ये इनपुट
आतंकियों के पास अमेरिका निर्मित एम 4 कार्बाइन थी (Representative/ Express file photo by Shuaib Masoodi)
Advertisement

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में सेना के वाहन पर हुए हमले में 5 जवानों के शहीद होने के बाद अब आतंकियों को खोज निकालने के लिए सर्च ऑपरेशन जारी है। कठुआ के माचेडी इलाके में यह तलाशी अभियान चल रहा है। उधमपुर में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। यह हमला ग्रेनेड से किया गया था।

Advertisement

आसपास के इलाकों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। शुरुआती जांच में कहा गया है कि सेना के वाहन पर हमला पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा किया गया था जिन्हें लोकल लोगों तरह इनपुट मिलने के संकेत भी सामने आ रहे हैं। आतंकियों के पास US मेड M-4 कार्बाइन भी मौजूद थी।

Advertisement

राजनाथ सिंह ने जताया दुख, कहा-देश सैनिकों के साथ मजबूती से खड़ा है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सैनिकों की शहादत पर दुख जताया है और कहा है,"मैं जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकवादी हमले में हमारे पांच बहादुर भारतीय सेना के जवानों की शहादत से बहुत दुखी हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं, इस कठिन समय में राष्ट्र उनके साथ मजबूती से खड़ा है। आतंकवाद विरोधी अभियान जारी हैं, और हमारे सैनिक क्षेत्र में शांति और व्यवस्था कायम करने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं। मैं इस नृशंस आतंकवादी हमले में घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।"

जम्मू-कश्मीर भाजपा अध्यक्ष रविंदर रैना ने कहा, "कायर पाकिस्तानी आतंकवादियों ने जम्मू-कश्मीर में कायरतापूर्ण हमला किया है। उन्होंने कठुआ के माचेडी इलाके में रात के समय सेना के वाहन को निशाना बनाया।"

स्थानीय लोग क्या कहते हैं?

सूत्रों ने बताया कि बदनोटा गांव बेहतर सड़क नहीं है जिससे वाहन 10-15 किलोमीटर प्रति घंटे सेतेज गति से नहीं चल सकते। आतंकवादियों को इसका फायदा मिला है। सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया, "2-3 आतंकवादी और 1-2 स्थानीय गाइड पहाड़ियों के ऊपर पोजिशन ले चुके थे।

Advertisement

आतंकवादियों ने पहले सेना के वाहनों पर ग्रेनेड फेंके और फिर उन पर गोलीबारी की। पिछले आतंकी हमलों की तरह ड्राइवर पहला निशाना था।" शुरुआती जांच में पाया गया है कि आतंकी पहले से हमले की पूरी योजना बना चुके थे। एक स्थानीय गाइड ने उनकी मदद भी की थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो