scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

S Jaishankar on China: 'अगर मैं आपके घर का नाम बदल दूं तो...?' जयशंकर ने चीन को फिर सुनाई खरी-खरी

S Jaishankar on China: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश का नाम बदलने की पहले को सिरे से खारिज कर दिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: April 01, 2024 23:40 IST
s jaishankar on china   अगर मैं आपके घर का नाम बदल दूं तो      जयशंकर ने चीन को फिर सुनाई खरी खरी
S Jaishankar का अरुणाचल पर बड़ा बयान (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

S Jaishankar on China: चीन लगातार भारत के पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा ठोकता रहा है और हाल ही में उसने अरुणाचल प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों के 30 नए नामों की चौथी लिस्ट जारी की है। इसके चलते एक नया विवाद खड़ा हो गया है, जिसको लेकर अब विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बीजिंग की एस हरकत पर कड़ी फटकार लगाई है। भारत ने चीन के इस कदम को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि अरुणाचल भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और रहेगा।

दरअसल, गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स में बोलते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि काल्पनिक नाम रखने से इस वास्तविकता में कोई बदलाव नहीं आएगा। एस जयशंकर ने कहा कि अगर आज मैं आपके घर का नाम बदल लूं तो वो मेरा घर नहीं हो जाता है।

Advertisement

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि जैसे किसी के घर का नाम बदलने से घर किसी दूसरे का नहीं हो जाता, ठीक वैसा ही अरुणाचल प्रदेश के साथ भी है। अरुणाचल प्रदेश भारत का राज्य था, है और रहेगा। उन्होंने कहा कि नाम बदलने से कोई असर नहीं पड़ने वाला है।

LAC पर तैनात है भारतीय सेना

बता दें कि भारतीय क्षेत्र का नाम बदलने को लेकर कार्यक्रम में विदेश मंत्री से सवाल पूछा गया था। इसको लेकर उन्होंने कहा कि हमारी सेना वहां एलएसी पर तैनात है, इसलिए ये सारी बातें बेबुनियाद ही हैं। गौरतलब है कि चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने रविवार को बताया था कि चीनी नागरिक मामलों के मंत्रालय ने जंगनान में बदले गए भौगोलिक नामों की चौथी सूची जारी की है। ध्यान देने वाली बात यह है कि चीन अरुणाचल प्रदेश को जंगनान ही कहता है।

Advertisement

पहले भी चीन बदल चुका है कई नाम

चीनी मंत्रालय ने आधिकारिक वेबसाइट पर क्षेत्र के लिए 30 अतिरिक्त नाम पोस्ट किए गए है। यह लिस्ट 1 मई से प्रभावी मानी जाएगी। हालांकि इस लिस्ट को भारत ने सिरे से खारिज कर दिया है। ऐसा नहीं है कि चीन ने कोई पहली बार अरुणाचल प्रदेश में नाम बदलने का खेल किया है, बल्कि साल 2023 में 11 स्थानों के नाम बदले थे। 2017 में 6 नाम बदले थे। 15 स्थानों के नाम 2023 बदले थे।

Advertisement

ॉध्यान देने वाली बात यह भी है कि चीन पिछले कुछ वक्त से अरुणाचल को लेकर विवादित बयान दे रहा है। इसकी वजह यह है कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य के दौरे पर गए थे और 13000 फुट पर बनीं सेला सुरंग का लोकार्पण किया था।

पीएम मोदी के इसी दौरे के चलते एक बार फिर अरुणाचल प्रदेश को अपना हिस्सा बताने के बयान देने लगा है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो