scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बांग्लादेश से सटी इन चार लोकसभा सीटों पर दिलचस्प मुकाबला, मुस्लिम फैक्टर के बाद भी BJP को यहां से उम्मीदें, जानिए क्या हैं मुद्दे और कौन प्रत्याशी

Central West Bengal Seat: सेंट्रल वेस्ट बंगाल के अंतर्गत लोकसभा की चार सीटें आती हैं। जिनमें मुस्लिम आबादी सबसे ज्यादा है, लेकिन उसके बावजूद भी बीजेपी को यहां से उम्मीद है। आइए जानते हैं इन चारों सीटों की समीकरण।
Written by: vivek awasthi
कोलकाता | Updated: May 01, 2024 22:46 IST
बांग्लादेश से सटी इन चार लोकसभा सीटों पर दिलचस्प मुकाबला  मुस्लिम फैक्टर के बाद भी bjp को यहां से उम्मीदें  जानिए क्या हैं मुद्दे और कौन प्रत्याशी
West Bengal Elections: पश्चिम बंगाल की चार सीटों पर मुकाबला दिलचस्प होगा। यहां 7 मई को मतदान होगा। (जनसत्ता.कॉम)
Advertisement

Central West Bengal Seat: लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान (7 मई) से पहले इंडिया गठबंधन में फूट और अधिक साफ हो गई है। जिसमें बांग्लादेश से सटी मध्य पश्चिम बंगाल के चार निर्वाचन क्षेत्रों (मालदा उत्तर, मालदा दक्षिण,जंगीपुर और मुर्शिदाबाद) में मतदान होना है। मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी, जिन्होंने इंडिया ब्लॉक की कुछ बैठकों में भाग लिया था। आखिरकार उन्होंने राज्य के सभी 42 लोकसभा क्षेत्रों से उम्मीदवार उतारने का फैसला किया। उन्होंने चुनावी सहमति नहीं बना पाने के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था।

अपने अभियान के दौरान बनर्जी कहती रही हैं कि पश्चिम बंगाल में कोई इंडिया गठबंधन नहीं है और वामपंथी दल और कांग्रेस भाजपा के लिए काम कर रहे हैं। अधीर रंजन चौधरी के नेतृत्व वाली कांग्रेस और मोहम्मद सलीम के नेतृत्व वाली सीपीआई (एम) भी मुख्यमंत्री और उनकी सरकार पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं।

Advertisement

मुर्शिदाबाद के डोमकल में एक रैली में सलीम ने चौधरी के साथ मंच साझा करते हुए 2026 के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री को राज्य सचिवालय से बाहर करने की कसम खाई।

मालदा दक्षिण में किस समुदाय की कितनी आबादी-

Caste (जाति)Population (आबादी) %
Buddhist0.01%
Christian0.31%
Jain0.03%
Muslim55.56%
SC18.53%
ST6.02%
Sikh0.02%

इस क्षेत्र का एक अलग भूगोल और जनसांख्यिकी है, और मुद्दे निर्वाचन क्षेत्र-विशिष्ट हैं। मालदा और मुर्शिदाबाद दोनों जिलों में बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक आबादी है और तृणमूल, वामपंथी और कांग्रेस नेतृत्व मुस्लिम समुदाय का समर्थन हासिल करना चाहते हैं। भाजपा उम्मीद कर रही है कि मुस्लिम वोटों में विभाजन और मतदाताओं के ध्रुवीकरण से पार्टी को मदद मिलेगी।

मालदा उत्तर में किस समुदाय की कितनी आबादी-

CastePopulation %
Buddhist0.01%
Christian0.33%
Jain0.02%
Muslim45%
SC23.8%
ST10.3%
Sikh0.02%

2019 के लोकसभा चुनाव में चार निर्वाचन क्षेत्रों में से भाजपा ने मालदा उत्तर जीता था, कांग्रेस ने मालदा दक्षिण जीता था और तृणमूल ने जंगीपुर और मुर्शिदाबाद जीता था। इस बार बीजेपी ने न सिर्फ मालदा बल्कि मुर्शिदाबाद जिले में भी जोरदार अभियान चलाया है।

Advertisement

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने मालदा में चुनाव प्रचार किया है, जबकि भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने मुर्शिदाबाद में रैलियां की हैं। बनर्जी और तृणमूल महासचिव अभिषेक बनर्जी क्षेत्र में बड़े पैमाने पर प्रचार कर रहे हैं।

Advertisement

जंगीपुर में किस समुदाय की कितनी आबादी-

CastePopulation %
Buddhist0%
Christian0.25%
Jain0.04%
Muslim63.2%
SC16.3%
ST2%
Sikh0.01%

इन निर्वाचन क्षेत्रों में दिलचस्प लड़ाई है। सीपीआई (एम) के सलीम मुर्शिदाबाद से तृणमूल के मौजूदा सांसद अबू ताहिर खान के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। जंगीपुर में मौजूदा सांसद और बीड़ी कारोबारी खलीलुर रहमान का मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार मोहम्मद मुर्तजा हुसैन से है, जो कांग्रेस नेता अबू हेना के पोते हैं।

मालदा दक्षिण में कांग्रेस उम्मीदवार ईशा खान चौधरी अपने पारिवारिक गढ़ का बचाव कर रहे हैं। उनके पिता अबू हासेम खान चौधरी 2006 से निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, और इससे पहले उनके चाचा दिवंगत ए बी ए गनी खान चौधरी सांसद थे। कांग्रेस उम्मीदवार का मुकाबला तृणमूल के शाहनवाज अली रैहान से है, जो ऑक्सफोर्ड से पढ़े हैं। जबकि भाजपा ने यहां से मौजूदा विधायक श्रीरूपा मित्रा चौधरी को मैदान में उतारा है। मालदा उत्तर में मौजूदा भाजपा सांसद खगेन मुर्मू और पूर्व आईपीएस अधिकारी और टीएमसी उम्मीदवार प्रसून बनर्जी के बीच मुकाबला होगा।
यह क्षेत्र राज्य के आर्थिक रूप से सबसे पिछड़े क्षेत्रों में से एक है, जहां लाखों युवा काम की तलाश में पलायन करते हैं। जहां पुरुष उच्च मजदूरी के लिए दक्षिण और उत्तर के राज्यों में जाते हैं, वहीं महिलाएं अपनी आय बढ़ाने के लिए बीड़ी बनाती हैं।

मुर्शिदाबाद में किस समुदाय की कितनी आबादी-

CastePopulation %
Buddhist0.01%
Christian0.31%
Jain0.04%
Muslim68.5%
SC10.2%
ST1.3%
Sikh0.02%

इन जिलों को नदी के कटाव का भी खामियाजा भुगतना पड़ा है, जिससे हजारों लोग बेघर हो गए हैं और पिछले कई दशकों में राज्य को लगभग 200 वर्ग किलोमीटर भूमि का नुकसान हुआ है। पिछले चुनावों की तरह, केंद्र और राज्य दोनों सत्ता में बैठे राजनेता प्रवासियों और नदी कटाव से प्रभावित लोगों को आश्वासन दे रहे हैं कि वे चुनाव के बाद ठोस कदम उठाएंगे।

CAA-NRC मुद्दा हावी

एक अन्य प्रमुख मुद्दा जो चुनाव अभियान पर हावी है वह नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (NRC) है। मुख्यमंत्री सहित तृणमूल नेतृत्व इस बात पर जोर दे रहा है कि सीएए (CAA) और मार्च में अधिसूचित नियम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के पूर्ववर्ती हैं और इसका उद्देश्य "मुसलमानों को शिविरों में भेजना" है। जबकि इस क्षेत्र को कांग्रेस का गढ़ माना जाता था।

तृणमूल ने सीएए-एनआरसी के मुद्दे पर 2021 में विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की। वाम-कांग्रेस नेतृत्व का दावा है कि "सीएए बीजेपी-टीएमसी की राजनीतिक बाइनरी बनाने का एक प्रयास है" और इसका लोकसभा चुनाव में क्षेत्र के मतदाताओं पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

2019 लोकसभा चुनाव में इन लोकसभा सीटों पर किस पार्टी को कितना वोट शेयर मिला- कौन जीता?

2019 लोकसभा चुनाव में इन चार सीटों पर वोट शेयर की बात करें तो मालदा उत्तर लोकसभा सभा सीट से बीजेपी- 37.61, टीएमसी को 31.39 प्रतिशत वोट शेयर हासिल हुआ था और यह सीट बीजेपी के खाते में गई थी। खगेन मुर्मू यहां से सांसद बने थे। मालदा दक्षिण लोकसभा सीट से कांग्रेस- 34.73, बीजेपी-34.09 प्रतिशत वोट शेयर हासिल हुआ था। यहां से कांग्रेस प्रत्याशी अबू हासेम खान चौधरी ने जीत हासिल की थी। जंगीपुर लोकसभा सीट से टीएमसी- 43.15, बीजेपी को 24.3 प्रतिशत वोट शेयर हासिल हुआ था। यहां टीएमसी उम्मीदवार खलीलुर्रहमान ने जीत हासिल की थी। वहीं मुर्शिदाबाद लोकसभा सीट से टीएमसी - 41.57, कांग्रेस- 26 प्रतिशत वोट हासिल करने में कामयाब रही थी। यहां से टीएमसी के अबू ताहिर खान ने जीत हासिल की थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो