scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

सेहत: साइटिका यानी कमर से लेकर एड़ी तक दर्द से बेचैनी

इस रोग में आमतौर पर हड्डियों की जोड़ वाली जगहों पर जो चिकनी सतह पाई जाती है, वह उम्र के साथ घिसने लगती है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 05, 2024 14:15 IST
सेहत  साइटिका यानी कमर से लेकर एड़ी तक दर्द से बेचैनी
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

सही-सलामत सेहत और जिंदगी किसी दिन कांप जाती है, जब एक पांव अचानक दर्द से भर उठता है और फिर एक कदम भी उठाने से जी डरने लगता है। इस हालत के कुछ दूसरे कारण हो सकते हैं, लेकिन अगर किसी एक पैर की कोई नस कहीं से दब गई है तो कमर से लेकर नीचे एड़ी तक पांव में दर्द चैन नहीं लेने देता।

दरअसल, इसे साइटिका का नतीजा कहते हैं, जिसमें कमर से संबंधित नसों में सूजन आ जाती है और इसकी वजह से पूरे पैर में बेहिसाब दर्द होने लगता है। फिर रोजमर्रा के कामकाज की तो दूर, बिस्तर पर से उठ कर दैनिक क्रिया की जरूरत से भी डर लगने लगता है। ऐसे में परेशानी का स्तर समझा जा सकता है। मगर जरूरी है कि ठीक समय पर इसकी पहचान की जा सके।

Advertisement

पीड़ा की पहचान

इस स्थिति में पहुंचने के बाद दर्द नितंबसंधि के पीछे से शुरू होकर नीचे उतरती हुई पैर के अंगूठे तक पहुंच जाती है। यों पीड़ा तो पूरे पांव में होती है, मगर घुटने और टखने के पीछे दर्द कई बार सहने की सीमा पार कर जाती है। कई बार पीड़ा इतनी अधिक होती है कि प्रभावित हिस्सा सुन्न भी पड़ गया लगता है। अगर यह कुछ ज्यादा वक्त खिंच जाए तो पैर में कमजोरी और सिकुड़न भी आ सकती है। मजबूरन कई मरीजों को गंभीर अवस्था और असहनीय पीड़ा की वजह से बिस्तर पर पड़े रहना पड़ता है, ताकि कुछ राहत मिल सके।

वजह की बात

आयुर्वेद में इसे वात रोगों के अंतर्गत रखा गया है, जो बेहिसाब डिब्बाबंद भोजन, शुष्क और शीतल पदार्थ, बीन्स, कड़वा और कषाय रसयुक्त द्रव्यों के सेवन से होता है। इसके अलावा, बहुत ज्यादा उपवास करने, बहुत देर खड़े या बैठे रहने से भी वातदोष में बढ़ोतरी हो जाती है। ऐसे में व्यक्ति आसानी से साइटिका की चपेट में आ जा सकता है।

Advertisement

यों यह रोग भारी वजन उठाने वाले वैसे लोगों को हो सकता है, जो आमतौर पर अपनी उम्र के पचास बसंत पार कर चुके हों। दरअसल, हड्डियों की जोड़ वाली जगहों पर जो चिकनी सतह पाई जाती है, वह उम्र के साथ घिसने लगने लगती है। इसके बाद अगर हड्डियों से पहले की क्षमता की तरह काम लिया जाता है, तो उसका बुरा असर पड़ता है और असहनीय दर्द हो सकता है। अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि सर्दी लगने, ज्यादा चलने, मल त्याग में अवरोध होने, स्त्रियों में गर्भ की अवस्था के दौरान भी इस तरह का दर्द शुरू हो सकता है।

Advertisement

राहत की राह

कोशिश यह हो कि ऐसी स्थिति में जकड़े ही न जाएं। मगर किन्हीं वजहों से इसकी चपेट में आ ही गए तो सबसे पहले यह हो कि ज्यादा देर तक किसी एक ही जगह पर न बैठा जाए। थोड़ी-थोड़ी देर पर कुछ देर के लिए खड़े होने या सुविधाजनक हो तो इधर-उधर टहलने का भी प्रयास किया जाए। अगर कुर्सी पर बैठ कर काम करना पड़ता हो तो कुर्सी में कमर के पीछे एक छोटा तकिया लगा लिया जाए और सीधे बैठने की कोशिश हो।

कमर की हड्डियों को आराम मिलेगा, तो राहत की राह आसान होगी। इसके अलावा, ध्यान देकर ऐसी स्थिति में झुक कर ज्यादा वजह वाली वस्तुएं न उठाई जाएं। ज्यादा दर्द हो तो उस समय कोई भी काम करने से बचा जाए।

(यह लेख सिर्फ सामान्य जानकारी और जागरूकता के लिए है। उपचार या स्वास्थ्य संबंधी सलाह के लिए विशेषज्ञ की मदद लें।)

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो