scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Haldwani Violence:'घटना के वक्त नोएडा में बीजेपी के पूर्व सांसद के घर पर था', DGP को दिए पत्र में 'मास्टरमाइंड' ने किए ये दावे

8 फरवरी को प्रशासन के अतिक्रमण हटाओ अभियान के बाद हिंसा भड़क उठी थी। इस दौरान मलिक के मालिकाना वाली एक मस्जिद और एक मदरसे को भी ध्वस्त कर दिया गया था।
Written by: AVANEESH MISHRA | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: March 01, 2024 11:19 IST
haldwani violence  घटना के वक्त नोएडा में बीजेपी के पूर्व सांसद के घर पर था   dgp को दिए पत्र में  मास्टरमाइंड  ने किए ये दावे
हलद्वानी हिंसा के कथित मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। (फोटो: पीटीआई)
Advertisement

हलद्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड बताया जा रहा अब्दुल मलिक की गिरफ्तारी के कुछ दिनों बाद उत्तराखंड पुलिस ने उसके बेटे अब्दुल मोईद को गिरफ्तार कर लिया। यह इस मामले में 84वीं गिरफ्तारी है। मलिक की ओर से अधिकारियों को सौंपे गए पत्र में दावा किया गया है कि हिंसा के समय वह नोएडा, दिल्ली और ग्रेटर नोएडा में था। 8 फरवरी को प्रशासन के अतिक्रमण हटाओ अभियान के बाद हिंसा भड़क उठी थी। इस दौरान मलिक के मालिकाना वाली एक मस्जिद और एक मदरसे को भी ध्वस्त कर दिया गया था।

आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस की छह टीमें बनाई गई थीं

जैसे ही पथराव हुआ, कारों में आग लगा दी गई और स्थानीय पुलिस स्टेशन को भीड़ ने घेर लिया। इसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देखते ही गोली मारने के आदेश दे दिए थे। हिंसा में जहां चार नागरिकों की मौत हो गई, वहीं पुलिस कर्मियों समेत कई लोग घायल हो गए। नैनीताल पुलिस ने गुरुवार को कहा, “वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, नैनीताल ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए छह विशेष पुलिस टीमों का गठन किया था। टीमों में से एक ने अब्दुल मोईद को दिल्ली से सफलतापूर्वक गिरफ्तार कर लिया।”

Advertisement

पुलिस की रिपोर्ट में अब्दुल मलिक पर उकसाने का है आरोप

बनभूलपुरा थाने में दर्ज एफआईआर संख्या 21/24 में मोइद और मलिक को आरोपी बनाया गया था। रिपोर्ट थाना प्रभारी नीरज भाकुनी की शिकायत पर दर्ज की गई थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि जब अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शुरू हुई, तो पिता-पुत्र और 14 अन्य लोगों ने भीड़ का नेतृत्व किया। एफआईआर में आरोप है कि उन्होंने भीड़ को यह कहते हुए उकसाया कि "वे अभियान नहीं होने देंगे क्योंकि बनभूलपुरा उनका क्षेत्र है, यहां हमारा शासन चलता है, सरकार का नहीं"।

पुलिस को दिए पत्र में अनुचित तरीके से फंसाने की बात कही

हालांकि मलिक की ओर से उनके एक कानूनी प्रतिनिधि ने उत्तराखंड के डीजीपी को सौंपे पत्र, जिसकी कॉपी नैनीताल के डीएम और एसएसपी को भी दी गई है, में कहा है कि मलिक को अनुचित तरीके से फंसाया गया है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पत्र अधिकारियों को हाथ से दिया गया है।

पत्र में दावा किया गया है कि मलिक उस समय हलद्वानी में नहीं थे। इसमें दावा किया गया है कि 7 फरवरी को उन्होंने और उनके ड्राइवर ने एक व्यावसायिक बैठक के लिए नोएडा के एक फाइव स्टार होटल के रेस्तरां में करीब तीन घंटे बिताए। इसके बाद उन्होंने अपने वकील सुधीर तिवारी से परामर्श किया। इसके बाद शाम करीब 5 बजे वह और तिवारी सेक्टर 31 में सुप्रीम कोर्ट के एक वकील के आवास पर गए, जहां वे एक घंटे तक रुके। दावा किया गया है कि एक रेस्तरां में खाना खाने के बाद मलिक और उनका ड्राइवर दिल्ली के एक होटल में रुके थे।

Advertisement

अगले दिन 8 फरवरी को दोपहर लगभग 12:30 बजे मलिक तिवारी की बेटी की शादी का निमंत्रण कार्ड देने के लिए तिवारी के साथ नोएडा में पूर्व राज्यसभा सदस्य भाजपा के बलबीर पुंज के आवास पर गए। पत्र में कहा गया है कि वहां पुंज ने अपने द्वारा लिखित 'ट्रिस्ट विद अयोध्या' नामक पुस्तक भेंट की। इसके बाद तिवारी और मलिक नई दिल्ली में कांग्रेस के पूर्व सांसद के आवास की ओर रवाना हुए।

पत्र में दावा किया गया है कि इसके बाद दोपहर 3 बजे के करीब, वे नई दिल्ली में एक पूर्व केंद्रीय मंत्री के आवास पर गए। इसके बाद तिवारी और मलिक ने नोएडा के रेडिसन होटल में भोजन किया। इसमें कहा गया है कि रात के खाने के बाद मलिक तिवारी को ग्रेटर नोएडा ले गए, जहां वह आधे घंटे तक रुके, इसके बाद वह हरियाणा के फरीदाबाद में अपनी बेटी के घर गए। वहां उन्होंने रात बिताई।

पत्र में दावा किया गया है कि घटना के बाद से मलिक ने हलद्वानी का दौरा नहीं किया है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, बीजेपी के पुंज ने पुष्टि की कि मलिक और उनका बेटा 8 फरवरी को तिवारी के साथ नोएडा में उनके आवास पर गए और दोपहर 12.15 बजे से लगभग 45 मिनट तक वहां रहे। हालांकि उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि उक्त समय से पहले और बाद में मलिक कहां थे।

तिवारी ने द इंडियन एक्सप्रेस से यह भी पुष्टि की कि वह 7 फरवरी की दोपहर से (उस रात को छोड़कर जब मलिक एक होटल में रुके थे) 8 फरवरी की रात लगभग 8 बजे तक मलिक के साथ थे। तिवारी ने कहा, “उसने 7 फरवरी की रात एक होटल में बिताई और सीसीटीवी फुटेज भी इसकी पुष्टि करता है। अगले दिन हमारी मुलाकात बलबीर पुंज से हुई… बाद में रेडिसन होटल में कॉफी पीने के बाद हम अपने दोस्त ललित सक्सेना की बेटी के घर गए। रात 8 बजे के बाद मलिक अपनी बेटी मुनीबा के घर फ़रीदाबाद के लिए रवाना हो गए।'' पेशे से वकील सक्सेना ने यह भी पुष्टि की कि मलिक, उनका बेटा और तिवारी, 8 फरवरी को हलद्वानी हिंसा के दिन रात 8 बजे तक लगभग 30 मिनट के लिए उनकी बेटी के घर पर थे।

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार ने कहा, “जब से यह मेरे संज्ञान में लाया गया है, हमने (पत्र का) संज्ञान लिया है और इसे जिले को इस निर्देश के साथ भेजा है कि जो भी दावा किया गया है उसकी अच्छी तरह से जांच की जानी चाहिए। यदि आरोपी अपने पक्ष में आवेदन दे रहा है तो उसकी जांच करना हमारा कर्तव्य है. जांच के बाद, यदि पत्र वास्तविक है और (किए गए दावे) सही हैं तो एक रिपोर्ट हमें भेजी जानी चाहिए। पहले हम पत्र की प्रामाणिकता की जांच करेंगे और फिर तथ्यों की जांच करेंगे।''

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो