scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'प्लीज चुनावी बॉन्ड पर हमारा सीलबंद लिफाफा वापस कर दीजिए…' आखिर चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से क्यों की अपील?

सुप्रीम कोर्ट ने 11 मार्च को SBI को निर्देश दिया था कि वह 12 मार्च तक निवार्चन आयोग को बॉन्ड के विवरण का खुलासा करे।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
नई दिल्ली | Updated: March 15, 2024 12:10 IST
 प्लीज चुनावी बॉन्ड पर हमारा सीलबंद लिफाफा वापस कर दीजिए…  आखिर चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से क्यों की अपील
सुप्रीम कोर्ट। (इमेज- इंडियन एक्सप्रेस)
Advertisement

भारत के चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से शीर्ष अदालत को सौंपे गए चुनावी बॉन्ड के दस्तावेजों को सीलबंद कवर में वापस करने का अनुरोध किया है। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि एसबीआई ने चुनावी बॉन्ड की संख्या का खुलासा नहीं किया है, जो उसे करना था। सुप्रीम कोर्ट ने SBI को बॉन्ड नंबर का खुलासा करने को कहा।

सुप्रीम कोर्ट ने रजिस्ट्रार को कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट मे जमा डाटा को कल शाम 5 बजे तक चुनाव आयोग को सौंपे। डाटा डिजिटल फॉर्मेट में सुप्रीम कोर्ट के पास मौजूद रहेगा।

Advertisement

EC ने मांगी अदालत को सौंपे गए दस्तावेजों की कॉपी

उच्चतम न्यायालय शुक्रवार को निर्वाचन आयोग की उस अर्जी पर सुनवाई करेगा जिसमें चुनावी बॉन्ड मामले में उसके 11 मार्च के आदेश के एक हिस्से में संशोधन का अनुरोध किया गया है। निर्वाचन आयोग ने कहा कि आदेश में कहा गया था कि सुनवाई के दौरान सीलबंद लिफाफे में उसके द्वारा शीर्ष अदालत को सौंपे गए दस्तावेजों की प्रतियां निर्वाचन आयोग के कार्यालय में रखी जाएंगी। निर्वाचन आयोग ने कहा कि उसने दस्तावेजों की कोई प्रति नहीं रखी है।

हमारे पास नहीं है डॉक्यूमेंट की कोई कॉपी

चुनावी बॉन्ड मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 11 मार्च को एसबीआई को निर्देश दिया था कि वह 12 मार्च तक निवार्चन आयोग को बॉन्ड के विवरण का खुलासा करे। जिसके बाद अब निर्वाचन आयोग ने नयी अर्जी में कहा है कि शीर्ष अदालत ने 11 मार्च के अपने आदेश में कहा था कि ‘इस अदालत के समक्ष निर्वाचन आयोग द्वारा दाखिल विवरण की प्रतियां निर्वाचन आयोग के कार्यालय में रखी जाएंगी। अर्जी में कहा गया, ‘‘न्यायालय द्वारा पारित आदेशों के अनुपालन में और डेटा की गोपनीयता बनाए रखने के लिए, निर्वाचन आयोग ने उसकी कोई भी प्रति अपने पास रखे बिना प्राप्त दस्तावेजों को सीलबंद लिफाफे में न्यायालय को भेज दिया।’’ अर्जी में कहा गया कि मामले में इस अदालत के समक्ष निर्वाचन आयोग द्वारा दाखिल किए गए दस्तावेजों की कोई भी प्रति उसके पास कभी नहीं रखी गई थी।

चुनावी बॉन्ड के यूनीक अल्फा-न्यूमेरिक नंबर का खुलासा

वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि SBI को राजनीतिक दलों से मिले चुनावी बॉन्ड के यूनीक अल्फा-न्यूमेरिक नंबर का खुलासा करना चाहिए था। न्यायालय ने इस संबंध में बैंक से जवाब मांगा। कोर्ट ने अपने पंजीयक (न्यायिक) को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि निर्वाचन आयोग द्वारा सीलबंद कवर में सौंपे गए आंकड़ों को स्कैन किया जाए और उन्हें डिजिटल माध्यम से उपलब्ध कराया जाए। पीठ ने कहा कि इस काम को शनिवार शाम पांच बजे तक पूरा करना बेहतर रहेगा और एक बार यह काम हो जाने के बाद मूल दस्तावेज निर्वाचन आयोग को वापस कर दिए जाएं।

Advertisement

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए वकील प्रशांत भूषण और वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल के इन अभ्यावेदनों पर गौर किया कि एसबीआई ने चुनावी बॉन्ड के यूनीक अल्फा-न्यूमेरिक नंबर का खुलासा नहीं किया है। पीठ ने बैंक को नोटिस जारी किया और मामले में आगे की सुनवाई के लिए 18 मार्च 2024 की तारीख तय की।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो