scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

श्रद्धालुओं की आस्था प्रशासन की व्यवस्था पर पड़ी भारी, यमुनोत्री में पर्यटकों का ट्रैफिक जाम, हरकत में आई पुलिस

भीड़ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर अफसरों में भी हड़कंप मच गया। व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: May 12, 2024 12:23 IST
श्रद्धालुओं की आस्था प्रशासन की व्यवस्था पर पड़ी भारी  यमुनोत्री में पर्यटकों का ट्रैफिक जाम  हरकत में आई पुलिस
सोशल मीडिया पर वायरल तीर्थयात्रियों की भीड़ की तस्वीरें।
Advertisement

देवभूमि उत्तराखंड के चार धामों में शामिल केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री के कपाट खुलते ही पहले दिन ही भक्तों का रेला टूट पड़ा। यमुनोत्री के मार्ग पर भक्तों और पर्यटकों की भीड़ इतनी ज्यादा थी कि पुलिस को अपील करनी पड़ी कि अब और यात्री आज यहां नहीं आएं। तीनों धामों के कपाट शुक्रवार को ही अक्षय तृतीया के पर्व पर खोल दिये गये थे, जबकि बद्रीनाथ के कपाट रविवार की सुबह खोले गये। यमुनोत्री में पहले दिन करीब 32 हजार तीर्थयात्री दर्शन करने के लिए वहां पहुंचे। पुलिस ने भक्तों की संख्या बढ़ने पर अव्यवस्था की आशंका जताई थी। भीड़ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर अफसरों में भी हड़कंप मच गया। व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे।

उत्तरकाशी पुलिस ने सोशल मीडिया पर लोगों से की अपील

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि स्थिति नियंत्रण में है, सब कुछ ठीक है, कहीं कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन उन्होंने यह जरूर कहा कि बाकी तीर्थयात्री अपनी यात्रा फिलहाल स्थगित कर दें और अगले दिन दर्शन की योजना बनाएं। रविवार सुबह उत्तरकाशी पुलिस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट किया। इसमे लिखा, "आज श्री यमुनोत्री धाम पर क्षमता के अनुसार पर्याप्त श्रद्धालु यात्रा के लिये पहुंच चुके हैं। अब और अधिक श्रद्धालुओं को भेजना जोखिम भरा है। जो भी श्रद्धालु आज यमुनोत्री यात्रा पर आने जा रहे हैं, उनसे विनम्र अपील है कि आज यमुनोत्री जी की यात्रा स्थगित करें।"

Advertisement

बदरीनाथ धाम में ब्रह्म मुहूर्त में कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हुई

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कपाट खुलने के अवसर पर सभी श्रद्धालुओं को बधाई दी। बदरीनाथ धाम में ब्रह्म मुहूर्त में सुबह चार बजे से कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हुई। हल्की बारिश के बीच सेना के बैंड एवं ढोल नगाड़ों की धुन पर स्थानीय महिलाओं के पारंपरिक संगीत और नृत्य ने श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। पहले कुबेर जी, उद्धव जी एवं गाडू घड़ा को दक्षिण द्वार से मंदिर परिसर में लाया गया फिर मंदिर के मुख्य पुजारी रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी समेत अन्य पदधिकारियों, मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय, चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना, तीर्थ पुरोहितों और श्रद्धालुओं की मौजूदगी में विधि विधान के साथ मंदिर के कपाट खोले गए।

रावल ने इसके बाद गर्भगृह में भगवान बदरीनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की। मंदिर के कपाट खुलने के एक दिन पहले से ही बदरीनाथ में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी थी। गंगोत्री, यमुनोत्री और केदारनाथ के बाद अब बदरीनाथ के कपाट खुलने के साथ ही सभी चारों धामों के कपाट खुल चुके हैं और चारधाम यात्रा पूरी तरह से शुरू हो गयी है।

Advertisement

पिछले साल बदरीनाथ में दर्शन के लिए रिकार्ड 1839591 श्रद्धालु पहुंचे थे और लोगों के उत्साह को देखते हुए राज्य सरकार को इस बार और श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है । आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, शनिवार शाम चार बजे तक सात लाख 37 हजार 885 श्रद्धालु बदरीनाथ के लिए अपना आनलाइन पंजीकरण करवा चुके थे ।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो