scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

संजय सिंह को राहत लेकिन सिसोदिया की मुश्किलें कायम, जानिए ED की दलीलें कैसे बनीं सिरदर्द

Delhi Liquor Scam: ईडी ने संजय सिंह की जमानत की अर्जी के दौरान ज्यादा आपत्ति नहीं जताई थी लेकिन Manish Sisodia के खिलाफ एजेंसी ने कई गंभीर आरोप लगाए हैं, जिसके चलते उनकी जमानत याचिकाएं लगातार खारिज हो रही हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | April 06, 2024 17:41 IST
संजय सिंह को राहत लेकिन सिसोदिया की मुश्किलें कायम  जानिए ed की दलीलें कैसे बनीं सिरदर्द
मनीष सिसोदिया को फिर कोर्ट ने दिया झटका (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Delhi Excise Policy Case: दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े केस में प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी द्वारा आरोपी बनाए गए दिल्ली के पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सोसिदया को आज एक बार फिर झटका लगा और ईडी की दलीलों के चलते राउज एवेन्यू कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी। सिसोदिया को 18 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। इसके चलते सवाल उठने लगे हैं कि जब इसी केस में संजय सिंह को जमानत की राहत मिल गई तो आखिर सिसोदिया की जमानत का रोड़ा क्या है?

हाल ही में आप नेता और राज्य सभा सांसद संजय सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी थी और खास बात यह है कि उनकी याचिका का ईडी द्वारा भी कुछ ज्यादा विरोध नहीं किया गया था। संजय सिंह की जमानत के बाद सिसोदिया को भी जमानत की उम्मीद जगी थी। उन्होंने कोर्ट में सुनवाई से ठीक एक दिन पहले एक चिट्ठी भी जारी की थी, जिसमें दावा किया था कि वे जल्द ही बाहर आएंगे लेकिन आज कोर्ट ने उनकी बेल याचिका खारिज कर दी।

Advertisement

मनीष सिसोदिया दिल्ली की विवादित आबकारी नीति से जुड़े मामले में ईडी द्वारा आरोपी बनाए गए हैं। ईडी का कहना है कि सिसोदिया उस नीति को बनाने के लिए जिम्मेदार है, जिसके जरिए भ्रष्टाचार हुआ। ईडी ने अपनी दलीलों के जरिए एक बार फिर सिसोदिया की जमानत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

ट्रायल में देरी के लिए लगातार हो रहे आवेदनों का बताया जिम्मेदार

दरअसल, ईडी के विशेष वकील ज़ोहेब हुसैन ने राउज एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा कि मुकदमें देरी की सबसे बड़ी वजह भी सिसोदिया द्वारा लगातार जमानत की मांग करना है। उन्होंने कहा कि ट्रायल में देरी आरोपी के कारण हो रही है, न कि अभियोजन पक्ष के कारण समस्या आ रही है। उन्होंने कहा कि करीब 90 से ज्यादा आवेदन दायर किए गए हैं।

Advertisement

सुप्रीम कोर्ट पहले खारिज कर चुका है कई याचिका

आज कोर्ट ने सुबह सिसोदिया की न्यायिक हिरासत 18 अप्रैल तक बढ़ा दी और वह 10 अप्रैल को उनकी जमानत याचिका पर आगे की दलीलें सुनेगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा सिसोदिया की जमानत याचिका खारिज करने के कुछ महीने बाद उनके वकील ने राउज एवेन्यू कोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। ईडी ने तब शीर्ष अदालत से कहा था कि वह अगले छह से आठ महीनों में सुनवाई पूरी कर लेगी। लगभग छह महीने बीत चुके हैं, और मामला अभी भी दस्तावेजों की जांच के लिए सूचीबद्ध है और उत्पाद शुल्क नीति मामले में अभी भी आरोप तय नहीं किए गए हैं।

सिसोदिया के बिना नहीं हो सकती थी मनी लॉन्ड्रिंग

ईडी के वकील ने सिसोदिया की जमानत याचिका का विरोध करते हुए यह भी कहा कि एक्साइज पॉलिसी केस में मनी लॉन्ड्रिंग का अपराध सिसोदिया के बिना संभव नहीं हो सकता था। ईडी के आरोपों के मुताबिक, थोक वितरकों ने 581 करोड़ रुपये की निश्चित फीस हासिल की थी क्योंकि नई पॉलिसी में कमीशन 5 से बढ़कर 12 परसेंट हो गया था। वहीं बाद में इसे खत्म कर दिया गया था। थोक विक्रेताओं द्वारा कमाए गए बड़े मुनाफे के चलते ही सुप्रीम कोर्ट ने अक्टूबर में पूर्व डिप्टी सीएम की याचिका खारिज की थी। ईडी का कहना है कि य अतिरिक्त मुनाफा करीब 338 करोड़ रुपये का था।

ईडी के वकील ने यह भी तर्क दिया है कि अपराध के सबूत नष्ट कर दिए गए। वकील जोहेब हुसैन ने कहा कि विजय नायर, सिसदिया के निर्देशों के तहत और पूरे विश्वास के साथ काम कर रहा था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो