scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Arvind Kejriwal in Tihar: 'CM पद पर रहने का अधिकार खो चुके केजरीवाल', पूर्व AAP MLA ने दिल्ली हाईकोर्ट से की ये बड़ी मांग

Delhi Liquor Scam Case: राउज एवेन्यू कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल को 15 अप्रैल तक के लिए न्यायिक हिरासत पर भेजा है, जिसके बाद से CM केजरीवाल तिहाड़ जेल में बंद हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: April 06, 2024 23:16 IST
arvind kejriwal in tihar   cm पद पर रहने का अधिकार खो चुके केजरीवाल   पूर्व aap mla ने दिल्ली हाईकोर्ट से की ये बड़ी मांग
Delhi High Court में की गई केजरीवाल को सीएम पद से हटाने की मांग (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Arvind Kerjiwal in Tihar: दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (Aam Adami Party) के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के एक पुराने साथी ने उनकी मुसीबतें बढ़ा दी हैं और यह दावा कर दिया है कि जेल में होने के कारण अरविंद केजरीवाल ने सीएम पद पर रहने के अधिकार खो दिए हैं और उन्हें सीएम की कुर्सी हटाया जाना चाहिए। इसको लेकर उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में याचिका दायर की है।

दरअसल, आम आदमी पार्टी (AAP) के पूर्व विधायक संदीप कुमार ने अपने ही पूर्व बॉस को दिल्ली के सीएम पद से हटाने की मांग के मामले में हाईकोर्ट के समक्ष एक याचिका दायर की थी। संदीप कुमार का कहना है कि केजरीवाल ने हिरासत में जाने के बाद मुख्यमंत्री पद पर रहने का अधिकार खो दिया है और इसलिए उनसे सीएम पद छीना जाना चाहिए।

Advertisement

बता दें कि आम आदमी पार्टी के पूर्व विधायक ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में क्वो वारन्टो याचिका दायर की है। अब यह बड़ा सवाल है कि आखिर क्वो वारन्टो याचिका क्या होती है तो बता दें कि इस याचिका में किसी व्यक्ति से यह पूछा जाता है कि उसने किस अधिकार या शक्ति के तहत अमुक काम किया है या निर्णय लिया है।

पहले खारिज हो चुकी हैं ऐसी ही याचिकाएं

Advertisement

ध्यान देने वाली बात यह है कि इससे पहले भी अरविंद केजरीवाल को सीएम पद से हटाने वाली दो याचिकाओं को दिल्ली हाईकोर्ट (HC) यह कहते हुए खारिज कर चुका है कि इसमें कोर्ट के दखल का कोई औचित्य नहीं है। कोर्ट ने कहा थि कि हिरासत में रहते हुए केजरीवाल को सीएम (CM) पद पर बने रहना है या नहीं, ये फैसला उन्हें खुद लेना है।

Advertisement

हाई कोर्ट ने इससे पहले की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा था कि अगर कोई संवैधानिक संकट की स्थिति होगी, तो उसके मुताबिक उपराज्यपाल (LG) या राष्ट्रपति फैसला लेंगे। कोर्ट इसमें अपनी ओर से कोई निर्देश नहीं दे सकता।

बता दें कि बीते गुरुवार को भी सीएम केजरीवाल को मुख्यमंत्री पद से हटाने वाली दिल्ली हाईकोर्ट में दायर हुई थी, हालांकि कोर्ट ने सीएम पद पर रहने या न रहने को केजरीवाल का निजी फैसला बताया था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो