scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लवली के इस्तीफे के बाद देवेंद्र यादव बने दिल्ली कांग्रेस के नए अंतरिम अध्यक्ष, मल्लिकार्जुन खड़गे ने लिया फैसला

अरविंदर सिंह लवली के इस्तीफे के बाद उन्हें पार्टी से निकालने की मांग तेज हो गई है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: April 30, 2024 14:53 IST
लवली के इस्तीफे के बाद देवेंद्र यादव बने दिल्ली कांग्रेस के नए अंतरिम अध्यक्ष  मल्लिकार्जुन खड़गे ने लिया फैसला
देवेंद्र यादव दिल्ली कांग्रेस के नए अध्यक्ष होंगे। (PHOTO SOURCE: @devendrayadavinc)
Advertisement

कांग्रेस के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष रहे अरविंदर सिंह लवली के इस्तीफे के बाद अब पार्टी ने बड़ा फैसला लिया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने देवेंद्र यादव को दिल्ली कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया है। देवेंद्र यादव पंजाब कांग्रेस कमेटी के प्रभारी भी हैं।

देवेंद्र यादव कांग्रेस के कद्दावर नेता हैं। वह दो बार दिल्ली की बादली विधानसभा सीट से विधायक भी चुने जा चुके हैं। वर्ष 2008 और 2013 के विधानसभा चुनाव में देवेंद्र यादव कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुने गए थे। देवेंद्र यादव कांग्रेस वोर्किंग कमेटी के भी परमानेंट सदस्य हैं। 2015 के चुनाव में वह बादली विधानसभा सीट से दूसरे नंबर पर थे जबकि 2020 के विधानसभा चुनाव में तीसरे नंबर पर थे।

Advertisement

लवली ने क्यों दिया था इस्तीफा?

अरविंदर सिंह लवली ने अपने इस्तीफे में कहा था कि दिल्ली कांग्रेस आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के पक्ष में नहीं है, लेकिन इसके बावजूद राष्ट्रीय नेतृत्व ने फैसला लिया। उनका कहना था कि दिल्ली कांग्रेस के फैसले राष्ट्रीय नेतृत्व मंजूर नहीं कर रहा था।

बड़ा सिख चेहरा माने जाते हैं लवली

अरविंदर सिंह लवली दिल्ली में कांग्रेस पार्टी का एक बड़ा सिख चेहरा माने जाते हैं। इसीलिए पार्टी ने उन्हें दिल्ली के सरदार के तौर पर प्रदेश अध्यक्ष का पद दिया था लेकिन चुनावी समर में लवली का इस्तीफा पार्टी के लिए एक बड़ा झटका है।

Advertisement

पार्टी से लवली को निकालने की मांग

अरविंदर सिंह लवली के इस्तीफे के बाद उन्हें पार्टी से निकालने की मांग तेज हो गई है। दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनिल चौधरी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म X पर लिखा, "अरविंदर सिंह लवली ने जो काम किया है वो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। जिस तरीके से सूरत में कांग्रेस उम्मीदवार नीलेश खुमानी ने भाजपा से सांठगांठ करके भाजपा को वॉकओवर दिया, उसी तरीके से भाजपा से मिलीभगत करके लवली ने ये काम किया है।"

Advertisement