scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दिल्ली के ओखला विधायक और AAP नेता अमानतुल्लाह खान से ED की पूछताछ शुरू, इस मामले में हैं आरोपी

लोकसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के नेता अमानतुल्लाह खान के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ और मनी लॉड्रिंग के आरोप से भड़के अमानतुल्लाह खान और उनके समर्थकों का कहना है कि यह सिर्फ बदनाम करने की साजिश है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 18, 2024 13:58 IST
दिल्ली के ओखला विधायक और aap नेता अमानतुल्लाह खान से ed की पूछताछ शुरू  इस मामले में हैं आरोपी
आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के ओखला से विधायक अमानतुल्लाह खान। (फाइल फोटो)
Advertisement

दिल्ली में ओखला के विधायक और आम आदमी पार्टी के नेता अमानतुल्लाह खान (Amanatullah Khan) गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) के दफ्तर पहुंचे। ईडी के अफसर उनसे दिल्ली वक्फ बोर्ड मनी लॉड्रिंग केस में पूछताछ कर रहे हैं। यह मामला 2018-2022 का है। उन पर आरोप है कि इस दौरान अमानतुल्लाह खान दिल्ली वक्फ बोर्ड के चेयरमैन रहते हुए कई कर्मचारियों की नियुक्तियों में अनियमितता बरतीं। इतना ही नहीं वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को भी गलत तरीके से पट्टे पर दे दिया। इस पूरी कवायद में उन्होंने आर्थिक लाभ भी कमाए। ईडी के छापे में इसके सबूत मिले हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने अपील पर विचार करने से मना कर दिया

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दिल्ली वक्फ बोर्ड मामले में अग्रिम जमानत के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक अमानतुल्ला खान की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था। खान की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ उनकी अपील पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और दीपांकर दत्ता की पीठ ने हाईकोर्ट के आदेश में कुछ टिप्पणियों पर भी आपत्ति व्यक्त की। और कहा कि उन्हें साक्ष्य से संबंधित गुण-दोष के आधार पर निष्कर्ष या ईडी द्वारा भरोसा की गई सामग्री के रूप में नहीं माना जाएगा।

Advertisement

पीठ ने कहा, “हम अपील में उस हद तक नोटिस जारी करने के इच्छुक नहीं हैं, जहां तक यह अग्रिम जमानत से इनकार करता है। हालांकि, हम स्पष्ट करते हैं कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की धारा 50 की व्याख्या के संबंध में निर्णय की टिप्पणियों और योग्यता के आधार पर हमारी कुछ आपत्तियां हैं। हम स्पष्ट करते हैं कि निर्णय में की गई टिप्पणियों को ईडी द्वारा भरोसा किए गए साक्ष्य या सामग्री से संबंधित गुण-दोष के आधार पर निष्कर्ष के रूप में नहीं माना जाएगा। मुद्दा खुला छोड़ दिया गया है।''

खान की ओर से पेश होते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता विक्रम चौधरी ने दलील दी कि अपराध को स्थापित करने के लिए कोई सबूत नहीं है। हालांकि, न्यायमूर्ति खन्ना ने वकील से कहा कि बार-बार समन का जवाब न देकर खान ने अपना ही मामला गड़बड़ कर दिया है, और पूछा: "इसे कैसे माफ किया जा सकता है?"

Advertisement

उन्होंने ईडी की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू से यह भी कहा कि हालांकि पीएमएलए धारा 50 के तहत सह-अभियुक्त के बयान की विश्वसनीयता इस स्तर पर स्थापित करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन अदालत के समक्ष ठोस सबूत क्या है। व्यक्ति द्वारा अदालत में दिया गया वास्तविक बयान, न कि पहले वाला।

Advertisement

लोकसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के नेता अमानतुल्लाह खान के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ और मनी लॉड्रिंग के आरोप से भड़के अमानतुल्लाह खान और उनके समर्थकों का कहना है कि यह सिर्फ बदनाम करने की साजिश है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो