scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'सही लोग आपको सुझाव नहीं दे रहे, हम चिंतित हैं', तमिलनाडु के राज्यपाल पर बरसे CJI चंद्रचूड़

सुनवाई के दौरान सीजेआई चंद्रूचड़ ने कहा कि राज्यपाल इस समय सुप्रीम कोर्ट की ही अवहेलना कर रहे हैं। मैं केंद्र से पूछना चाहता हूं कि अगर राज्यपाल ही संविधान का पालन नहीं करेगा, तो सरकार को क्या करना चाहिए।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: March 21, 2024 18:59 IST
 सही लोग आपको सुझाव नहीं दे रहे  हम चिंतित हैं   तमिलनाडु के राज्यपाल पर बरसे cji चंद्रचूड़
CJI DY Chandrachud: सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़ (फोटो सोर्स: ANI)
Advertisement

तमिलनाडु के राज्यपाल एन रवि से सुप्रीम कोर्ट खासा नाराज हो गया है। यहां तक कहा गया है कि उनकी तरफ से संविधान का पालन नहीं किया जा रहा है। असल में कुछ समय पहले ही कहा गया था कि डीएमके नेता K Ponmud को मंत्री के रूप में फिर कैबिनेट में शामिल करवाया जाए। लेकिन संविधान का ही हवाला देकर राज्यपाल ने ऐसा करने से मना कर दिया। उस वजह से डीएमके सरकार सुप्रीम कोर्ट चली गई जहां पर अब सीजेआई चंद्रचूड़ ने एन रवि को बुरी तरह सुनाया है।

सुनवाई के दौरान सीजेआई चंद्रूचड़ ने कहा कि राज्यपाल इस समय सुप्रीम कोर्ट की ही अवहेलना कर रहे हैं। मैं केंद्र से पूछना चाहता हूं कि अगर राज्यपाल ही संविधान का पालन नहीं करेगा, तो सरकार को क्या करना चाहिए। अब अगर आपके शख्स ने कल तक कोई एक्शन नहीं लिया तो हम आदेश पास करेंगे और तब संविधान के तहत राज्यपाल को काम करना ही पड़ेगा। इस समय हमे राज्यपाल के व्यवहार से चिंता हो रही है। वे सुप्रीम कोर्ट को ही चुनौती देने का काम कर रहे हैं।

Advertisement

आगे सीजेआई ने कहा कि राज्यपाल महोदय जो आपको सुझाव दे भी रहे हैं, वो सही नहीं दे रहे हैं। हमारे किसी शख्स के लिए अलग विचार हो सकते हैं, लेकिन सभी को संविधान और कानून के हिसाब से ही चलना पड़ता है। अगर सीएम चाहते हैं कि किसी शख्स को मंत्री बनाया जाए, राज्यपाल को लोकतंत्र जिम्मेदारी निभाते हुए वैसा करना भी चाहिए।

अब जानकारी के लिए बता दें कि Ponmudi को एक मामले में हाई कोर्ट ने दो साल की सजा दी थी। लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने उसी सजा पर रोक लगा दी जिसके बाद डीएमके सरकार ने फिर उन्हें मंत्री बनाने की बात कही। लेकिन क्योंकि राज्यपाल ने ऐसा नहीं गया तो मामला सुप्रीम कोर्ट चला गया जहां से अब राज्यपाल को ही बड़ा झटका लगा है।

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो