scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Chandrayaan-3: विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर फिर शुरू करेंगे काम! दक्षिणी ध्रुव पर सूर्योदय को लेकर ISRO ने दी बड़ी जानकारी

चंद्रयान-3 को लेकर इसरो ने बड़ी जानकारी दी है। इसरो ने बताया है कि चांद के क्षिणी ध्रुव पर आज ही सूर्योदय हो सकता है। इसरो 22 सितंबर को लैंडर और रोवर को शुरू करने की कोशिश करेगा।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Kuldeep Singh
Updated: September 20, 2023 16:48 IST
chandrayaan 3  विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर फिर शुरू करेंगे काम  दक्षिणी ध्रुव पर सूर्योदय को लेकर isro ने दी बड़ी जानकारी
भारत का चंद्रयान 3 मिशन
Advertisement

चंद्रयान-3 को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। इसरो ने बताया है कि चंद्रमा के शिव शक्ति प्वाइंट पर आज सूर्योदय हो सकता है। आज यहां धूप निकलने की उम्मीद है। यहीं पिछले महीने भारत के विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर उतरे थे। इसरो ने कहा कि 22 सितंबर को विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर को जगाने की कोशिश की जाएगी। फिलहाल यह स्लीप मोड में हैं।

भारत रचेगा इतिहास?

बता दें कि 4 सितंबर को इसरो ने चंद्रयान-3 के लैंडर और रोवर को सुला दिया था। आम तौर पर चंद्रमा पर पृथ्वी के 14 दिन (दिनरात मिलाकर) की रात होती है। इस दौरान लैंडर और रोवर दोनों स्लीप मोड में रहे। अगर ISRO विक्रम और प्रज्ञान को उनकी नींद से जगाने में कामयाब हो जाता है तो यह एक उल्लेखनीय इंजीनियरिंग उपलब्धि होगी।

Advertisement

Chandrayaan-3 का रोवर ‘प्रज्ञान’ नहीं जागा तो क्या होगा?

चंद्रयान 3 के रोवर ‘प्रज्ञान’ के नहीं जागने की स्थिति में क्या होगा, इसका एक परिदृश्य समझाते हुए पोस्ट में आगे कहा गया है कि ‘वर्तमान में, बैटरी पूरी तरह से चार्ज है। चांद के दक्षिणी ध्रुव पर अगला सूर्योदय 22 सितंबर, 2023 को होगा तो उम्मीद जताई जा रही है कि इसका सौर पैनल उस समय सूर्य से ऊर्जा प्राप्त करने के लिए तैयार होगा। असाइनमेंट के दूसरे दौर के लिए रोवर और लैंडर के जागने की उम्मीद है। अन्यथा, यह हमेशा के लिए भारत के चंद्र राजदूत के रूप में वहां रहेगा।’

क्यों डाला गया ‘स्लीप मोड’ में?

लैंडर और रोवर को चांद पर 14 दिन के लिए कार्य करने के लिए डिजाइन किया गया था। यह पूछे जाने पर कि इसे क्यों जल्दी स्लीप मोड में भेजा गया? चंद्रयान -3 परियोजना निदेशक पी वीरमुथुवेल ने कहा, ‘हम पहले दो और आखिरी दो दिन नहीं गिन सकते। चंद्र दिवस 22 अगस्त को शुरू हुआ और हमारी लैंडिंग लगभग दूसरे दिन के अंत में थी। वहां से, विक्रम और प्रज्ञान दोनों ने हमारी उम्मीदों से बढ़कर असाधारण प्रदर्शन किया है। मिशन के सभी उद्देश्य पूरे हो गए हैं, इसलिए इसे स्लीप मोड में डाला गया है।’

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो