scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'त्योहार नहीं मना सकते तो वोट की क्या जरूरत…' बंगाल में रामनवमी हिंसा पर हाईकोर्ट सख्त, कहा- हम रद्द कर देंगे चुनाव

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में राम नवमी के मौके पर हुई हिंसा के मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट ने सख्त टिप्पणी की है। उसने आचार संहिता के दौरान हिंसा को लेकर प्रशासन पर भी सवाल उठाए हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
कोलकाता | Updated: April 24, 2024 08:39 IST
 त्योहार नहीं मना सकते तो वोट की क्या जरूरत…  बंगाल में रामनवमी हिंसा पर हाईकोर्ट सख्त  कहा  हम रद्द कर देंगे चुनाव
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(इंडियन एक्सप्रेस)।
Advertisement

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में राम नवमी पर हुई हिंसा को लेकर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है। कोर्ट ने कहा कि आचार संहिता के दौरान भी अगर ऐसी घटनाएं सामने आती हैं तो इन जिलों में लोकसभा चुनाव नहीं करा सकते हैं। अगर लोग ही शांति और सद्भाव के साथ रहने में असमर्थ हैं तो ऐसे लोग निर्वाचित प्रतिनिधित्व के लायक नहीं हैं। कोर्ट ने कहा कि लोग 8 घंटे शांति से अपना त्योहार नहीं मना सकते तो ऐसी स्थिति में अभी वोट कराने की जरूरत नहीं है।

हिंसा में घायल हुए थे 19 लोग

बता दें कि राम नवमी के मौके पर पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में हिंसा हुई थी। इसमें कई जगहों पर झड़प देखने को मिली जिसमें 19 लोग घायल हो गए थे। मामला हाईकोर्ट तक पहुंचा। कोर्ट ने इस घटना को लेकर नाराजगी जताई है। मामले की सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस टीएस शिवगणनम और जस्टिस हिरण्मय भट्टाचार्य की बेंच ने कहा कि 7 मई और 13 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव को रद्द कर दिया जाना चाहिए। बेंच ने कहा कि ‘अगर लोग शांति और सद्भाव में नहीं रह सकते हैं, तो हम चुनावों को रद्द कर देंगे… अगर आदर्श आचार संहिता लागू होने के बावजूद दो संप्रदायों के लोग इस तरह लड़ रहे हैं, तो उन्हें चुनाव की आवश्यकता नहीं है..’

Advertisement

हाईकोर्ट पहुंचा था हिंसा का मामला

राम नवमी पर हिंसा का मामला हाईकोर्ट पहुंचा था। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) की ओर से इस मामले में याचिका दाखिल कर मुर्शिदाबाद के बेलडांगा और शक्तिपुर में हिंसा की एनआईए या सीबीआई जांच की मांग की गई थी। कोर्ट ने कहा कि कलकत्ता में कई जगहों पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था लेकिन वहां कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। कोर्ट ने यह भी पाया कि जिन जगहों पर इस बार हिंसा हुई है वहां पहले ऐसे मामले सामने नहीं आए थे। कोर्ट ने पूछा कि क्या इसके पीछे बाहरी लोगों का हाथ है?

क्या चुनाव की बदली जाएगी तारीख

कोर्ट ने कहा कि जहां लोग शांति से त्योहार नहीं मना सकते वहां अभी वोट कराने की जरूरत नहीं है। चीफ जस्टिस ने कहा कि हम चुनाव आयोग से दरखास्त करेंगे कि बरहमपुर के चुनाव की तारीख आगे बढ़ा दी जाए। अभी हाईकोर्ट की ओर से कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। फिलहाल कोर्ट ने राज्य सरकार से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। अब इस मामले में अगली सुनवाई 26 अप्रैल को होगी।

इनपुट-एजेंसी

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो