scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Assam Accord: केंद्र सरकार और ULFA के बीच हुए समझौते की पूरी कहानी यहां जानिए

असल में 29 दिसंबर को ULFA ने केंद्र और असम सरकार के साथ समझौता किया है। इसे एक त्रिपक्षीय समझौता माना जा रहा है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: December 30, 2023 20:14 IST
assam accord  केंद्र सरकार और ulfa के बीच हुए समझौते की पूरी कहानी यहां जानिए
उल्फा और केंद्र के बीच शांति समझौता
Advertisement

असम में शांति का एक नया समझौता पूरा कर लिया गया है। केंद्र सरकार ने अरबिंद राजखोवा के नेतृत्व वाले उल्फा गुट के साथ शांति समझौता किया है। इस समझौते को ऐतिहासिक माना जा रहा है, कहा जा रहा है कि 45 साल का संघर्ष अब खत्म हो चुका है। अब ये समझौता है क्या, इससे असम में क्या बदल जाएगा, समझौते के क्या पहलू हैं, सबकुछ सरल भाषा में यहां जान लीजिए।

असल में 29 दिसंबर को ULFA ने केंद्र और असम सरकार के साथ समझौता किया है। इसे एक त्रिपक्षीय समझौता माना जा रहा है। शुक्रवार को जब इस करार को पूरा किया गया तो गृह मंत्री अमित शाह, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा मौजूद रहे। समझौते के तहत कुल 700 कैडरों ने भी समर्पण कर दिया है, यानी कि बड़े स्तर पर इस एक करार का असर देखने को मिल रहा है।

Advertisement

अब पूरे देश में जब दूसरे मुद्दों पर चर्चा चल रही थी, राजधानी दिल्ली में ULFA के नेता केंद्र सरकार के साथ बैठक कर रहे थे। यहां ये समझना जरूरी है कि जिस गुट के साथ सरकार ने ये शांति समझौता किया है, उसने 2011 से ही कोई हथियार नहीं उठाया है, यानी कि वो लंबे समय से शांति समझौते के तहत मुख्यधारा में आना चाहता था। बड़ी बात ये है कि अभी सिर्फ उल्फा के सिर्फ एक गुट ने हथियार डाले हैं, परेश बरुआ की अध्यक्षता वाला उल्फा गुट अभी भी इस समझौते से दूर चल रहा है। ऐसे में वो कब इस शांति समझौते के साथ जुड़ेगा, ये देखने वाली बात रहेगी।

उल्फा गुट की बात करें तो ये असम का सबसे पुराना कट्टरपंथी संगठन है जिसने राज्य को स्वतंत्र करने के लिए हिंंसक रास्ता चुना था। इस संगठन की वजह से 45 सालों से असम हिंसा की चपेट में था और कुल 10 हजार लोगों की मौत भी हो गई थी। इसमें 4500 चो आम नागरिक रहे तो वहीं 700 के करीब सुरक्षाबल भी रहे। उल्फा के भी कई सदस्य इस हिंसा में मौत के घाट उतारे गए। वैसे पिछले कुछ समय से उल्फा गुट असम कम सक्रिय हो गया था, उसकी हिंसक घटनाओं में भी भारी कमी आई थी।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो