scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

CM हाउस में स्वाति मालीवाल से मारपीट मामले में आसानी से बच पाएंगे बिभव कुमार? जानें क्या हैं कानूनी विकल्प

आम आदमी पार्टी और राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल मामले में अपने खिलाफ एफआईआर को रद्द कराने के लिए भी बिभव कुमार कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | May 17, 2024 16:42 IST
cm हाउस में स्वाति मालीवाल से मारपीट मामले में आसानी से बच पाएंगे बिभव कुमार  जानें क्या हैं कानूनी विकल्प
स्वाति मालीवाल और केजरीवाल के पीए बिभव कुमार। (इमेज- फाइल फोटो)
Advertisement

Swati Maliwal Assault Case: आप नेता और राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल पर अरविंद केजरीवाल के पीए बिभव कुमार के द्वारा किया गया हमला इस समय देश में राजनीतिक चर्चा का विषय बन गया है। दिल्ली पुलिस ने बिभव कुमार के खिलाफ कई धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। ऐसे में अब हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि क्या सीएम केजरीवाल के पीए के पास पुलिस के शिकंजे से बचने के लिए क्या-क्या कानूनी ऑप्शन हैं।

Advertisement

मुख्यमंत्री आवास में मारपीट के आरोपों में घिरे केजरीवाल के करीबी बिभव कुमार के पास इस समय केवल दो ही ऑप्शन हैं। पहले विकल्प की बात करें तो वह अग्रिम जमानत के लिए आवेदन दायर कर सकते हैं। वहीं, दूसरे ऑप्शन में उनके खिलाफ दर्ज दिल्ली पुलिस की एफआईआर को रद्द करवाने के लिए उनको कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा।

Advertisement

अग्रिम जमानत का पहला ऑप्शन

अब हम सबसे पहले ऑप्शन यानि की अग्रिम जमानत की बात करेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पीए बिभव कुमार अपने ऊपर लगे आरोपों के बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं। सीआरपीसी की धारा 438 के तहत गिरफ्तारी से बचने के लिए वह कोर्ट में अग्रिम जमानत दायर कर सकते हैं। इसमें एक बात और ध्यान देने लायक है कि कोर्ट भी जमानत उसी स्थिति में मंजूर करता है, जब उसे लगे कि आरोप बेबुनियाद हैं या फिर आरोपी कहीं पर फरार नहीं होगा।

एफआईआर रद्द कराने के लिए कोर्ट में याचिका दायर करना

आम आदमी पार्टी और राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल मामले में अपने खिलाफ एफआईआर को रद्द कराने के लिए भी बिभव कुमार कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं। वह सीआरपीसी की धारा 482 के तहत एफआईआर रद्द कराने के लिए कोर्ट का रूख कर सकते हैं। अगर कोर्ट को लगता है कि कुमार के ऊपर लगाए गए आरोप सही नहीं हैं या बेबुनियाद हैं तो एफआईआर को कोर्ट रद्द कर सकता है।

पुलिस ने किन धाराओं में दर्ज किया केस

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने केजरीवाल के पीए विभव कुमार के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 354 (किसी महिला की गरिमा को ठेस पहुंचाने के इरादे से उस पर हमला या आपराधिक बल) के अलावा धारा 506 (आपराधिक धमकी), धारा 509 (किसी महिला की गरिमा का अपमान करने के इरादे से कोई शब्द बोलना या कोई इशारा करना) और धारा 323 (हमला करना) के तहत मामला दर्ज किया है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो