scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कुश्ती सिखाने के दौरान कोच ने नाबालिग लड़कियों का किया यौन उत्पीड़न, कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा

42 वर्षीय कुश्ती कोच पर राज्य स्तरीय खेल टूर्नामेंट की आड़ में एक रिसॉर्ट में ले जाकर छात्राओं का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है।
Written by: Sadaf Modak | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: May 30, 2023 11:26 IST
कुश्ती सिखाने के दौरान कोच ने नाबालिग लड़कियों का किया यौन उत्पीड़न  कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा
प्रतीकात्मक तस्वीर
Advertisement

मुंबई में एक कुश्ती के कोच को यौन उत्पीड़न मामले में पांच साल कैद की सजा सुनाई गई है। आरोपी एक पब्लिक स्कूल में कुश्ती का कोच था और उसने कई नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण (Sexual harassment) किया। सोमवार को उसे विशेष अदालत ने सजा सुनाई।

42 वर्षीय कुश्ती कोच पर राज्य स्तरीय खेल टूर्नामेंट की आड़ में एक रिसॉर्ट में ले जाकर छात्राओं का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है। पांच छात्रों ने अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के बारे में बयान दिया था। इसके और अन्य साक्ष्यों के आधार पर अदालत ने कोच को यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (POCSO) अधिनियम के तहत दोषी ठहराया है।

Advertisement

विशेष लोक अभियोजक वीना शेलार द्वारा प्रस्तुत दलीलों के अनुसार 2016 में आरोपी को छात्रों से लागोरी कोच के रूप में पेश किया गया था। उन्हें स्कूल के मैदान में कक्षा 7 से कक्षा 9 तक की लड़कियों को कोच करने के लिए नियुक्त किया गया था और इसके लिए 15 लड़कियों का चयन किया गया था। लड़कियों में से एक ने अपने बयान के दौरान कहा कि आरोपी उन्हें कुश्ती में प्रशिक्षित भी कर रहा था और अभ्यास के दौरान एक छात्र को गलत तरीके से छुआ भी था।

बाद में आरोपी ने उन 15 लड़कियों को सूचित किया जिन्हें वह कोचिंग दे रहा था कि जुलाई 2016 में अलीबाग में एक राज्य स्तरीय लागोरी टूर्नामेंट था और प्रत्येक 15 लड़कियों को खर्च के लिए 2,000 रुपये जमा करने का निर्देश दिया। बाद में उन्होंने बताया कि भारी बारिश के कारण प्रतियोगिता स्थगित कर दी गई है। 30 जुलाई 2016 को लड़कियों को उनके घर के पास इकट्ठा होने के लिए कहा गया, जहां से उन्हें टूर्नामेंट के लिए अलीबाग जाना था। उनमें से एक ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर पढ़ाई छोड़ दी, जबकि 14 अन्य एक महिला कर्मचारी और आरोपी के साथ घूमने गए।

Advertisement

रास्ते में कोच ने छात्रों को सूचित किया कि टूर्नामेंट रद्द कर दिया गया है, लेकिन उन्हें निराश नहीं होना चाहिए और वह उन्हें इसके बजाय एक रिसॉर्ट में ले जाएंगे। इसके बाद वह उन सभी को रायगढ़ जिले के पेन स्थित एक रिसॉर्ट में ले गया। पुलिस ने दावा किया कि उसने लड़कियों से कहा कि वे अपने माता-पिता को सूचित करें कि उन्होंने टूर्नामेंट में भाग लिया और एक पुरस्कार जीता।

Advertisement

रिसॉर्ट में पुलिस ने दावा किया कि आरोपी ने पानी के खेल के एक दौर के बाद लड़कियों को कतार में खड़ा कर दिया और उन्हें असहज महसूस कराया। कुछ लड़कियों को आरोपी ने रिजॉर्ट और बस में गलत तरीके से छुआ भी था। छात्राओं के घर पहुंचने के बाद उनमें से एक ने इसकी जानकारी अपने माता-पिता को दी।

माता-पिता ने तब स्कूल के प्रिंसिपल से संपर्क किया लेकिन दावा किया कि कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिसके बाद उन्होंने मुंबई के तत्कालीन पुलिस आयुक्त को लिखा। सितंबर 2016 में गिरफ्तार किए गए आरोपी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। जनवरी 2017 में उसे जमानत मिल गई थी।

मुकदमे के दौरान आरोपी ने दावा किया कि उसे झूठा फंसाया गया था और वह लड़कियों को उनके आग्रह पर रिसॉर्ट में ले गया था। उन्होंने लड़कियों द्वारा बस में महिला कर्मचारी या बस चालक से तुरंत कोई शिकायत नहीं करने पर भी संदेह जताया था। अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में लाए गए रिसॉर्ट के मैनेजर ने खुलासा किया कि आरोपी ने दो दिन पहले ही रिसॉर्ट बुक कर लिया था। परीक्षण के दौरान पांच छात्रों, शिकायतकर्ता के एक माता-पिता, प्रबंधक और जांच अधिकारी सहित 10 गवाहों ने गवाही दी थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो