scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

महंगाई

Test for shorts
Written by: विजय कुमार झा
नई दिल्ली | April 18, 2024 13:26 IST
महंगाई
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 में भले ही प‍िछले चुनावों की तुलना में महंगाई का ज्‍यादा शोर नहीं सुनाई दे रहा हो, लेक‍िन यह एक अहम चुनावी मुद्दा जरूर रहेगा। भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अपने घोषणापत्र (ज‍िसे पार्टी ने संकल्‍प पत्र कहा था) में महंगाई का ज‍िक्र क‍िया था और इसे कम करने के ल‍िए कई वादे क‍िए थे।

2014 के घोषणापत्र में बीजेपी ने आसन्‍न चुनौत‍ियों में महंगाई को सबसे पहले रखा था और कहा था क‍ि भाजपा (या एनडीए) की सरकार आई तो उसका तात्‍काल‍िक काम महंगाई पर लगाम लगाना होगा और इसके ल‍िए ये कदम उठाए जाएंगे-

Advertisement

जमाखोरी और कालाबाजारी रोकने के बड़े उपाय करना और व‍िशेष अदालतें गठ‍ित करना

दाम स्‍थि‍रीकरण कोष बनाना

भारतीय खाद्य न‍िगम की क्षमता बढ़ाने के ल‍िए खरीद, भंडारण व व‍ितरण का काम अलग-अलग करना

Advertisement

एकल राष्‍ट्रीय कृष‍ि बाजार का गठन करना

Advertisement

लोगों की खान-पान की आदतों से संबंध‍ित फसलों और सब्‍ज‍ियों के क्षेत्र को प्रोत्‍साहन और समर्थन देना

इन वादों पर अमल की स्‍थ‍ित‍ि तो म‍िली-जुली रही, लेक‍िन महंगाई कम करने का मूल मकसद क‍ितना पूरा हुआ? आंकड़ों की नजर से समझ‍िए क‍ि महंगाई क‍ितनी काबू में रही? महंगाई दर (Inflation Rate) के इन आंकड़ों के मुताब‍िक दस साल में महंगाई दर घट कर करीब आधी रह गई। देख‍िए टेबल:

वर्षऔसत महंगाई दरसालाना बदलाव
20235.69% (दिसंबर 2023)-1.6%
20226.7%1.57%
20215.13%-1.49%
20206.62%2.89%
20193.73%-0.21%
20183.94%0.61%
20173.33%-1.62%
20164.95%0.04%
20154.91%-1.76%
20146.67%-3.35%
201310.02%0.54%

यह तो सरकारी आंकड़ा है, पर आपके ल‍िए इसका क्‍या मतलब है? तो महंगाई के मोर्चे पर सरकार के प्रदर्शन का आंकलन एक और पैमाने पर क‍िया जा सकता है। आप खुद की आर्थ‍िक स्‍थ‍ित‍ि से भी इसका आंकलन कर सकते हैं। महंगाई की तुलना में आप की आमदनी क‍ितनी बढ़ी है?

ये है फार्मूला

अगर चार फीसदी सालाना महंगाई दर बढ़ रही है तो इसका सीधा मतलब हुआ क‍ि आप जो सामान सौ रुपए में खरीद सकते थे, वह पहले साल 104 रुपए में, दूसरे साल 108 रुपए में और इसी क्रम में अध‍िक कीमत में खरीद पाएंगे। इस रफ्तार से पांचवे साल तक कीमत 122 रुपए पहुंच जाएगी।

क्‍या है आंकड़ा?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में कीमतें 24 प्रत‍िशत बढ़ीं। उनके दूसरे कार्यकाल में 32 प्रत‍िशत। दस साल के कुल कार्यकाल में सामान्‍य कीमत वृद्धि की दर 64 प्रत‍िशत रही। इस महंगाई को झेलते हुए आपकी आर्थ‍िक हालत कैसी रही, इसका आंकलन आप पांच या दस साल पहले की अपनी स्‍थत‍ि से कर सकते हैं।

कैसे करें अपनी वास्‍तव‍िक स्‍थ‍ित‍ि का आंकलन?

2019 में जो आपकी आय थी, आज 32 फीसदी बढ़ी है क्‍या? या 2014 की तुलना में 64 प्रत‍िशत आमदनी बढ़ी है? अगर हां, तो महंगाई ने आपको आर्थ‍िक मोर्चे पर पीछे नहीं धकेला।

अब जरूरी सामान की कीमत (औसत खुदरा मूल्‍य) के आधार पर महंगाई के बदले रूप का अंदाज लगाइए। ये आंकड़े सरकार (उपभोक्‍ता मामलों के मंत्रालय) की ओर से जारी क‍िए गए हैं। देख‍िए टेबल:

बाजार जाने पर आपको ये चीजें क‍िस भाव म‍िलती हैं, इससे म‍िलान कर आप अपना आंकलन कर सकते हैं। प‍िछले कुछ महीनों की कई चीजों की महंगाई आपको याद होगी। जैसे- टमाटर का 250 रुपए प्रत‍ि क‍िलो तक पहुंच जाना, पेट्रोल का सौ के पार चला जाना, एलपीजी स‍िलेंडर हजार के करीब हो जाना। कुछ ही महीने पहले अदरक, लहसुन की महंगाई ने भी अपना भीषण रूप द‍िखाया था, जब इनकी कीमतें 400 रुपए प्रत‍ि क‍िलो के करीब पहुंच गई थीं।

महंगाई के मोर्चे पर सरकार के प्रदर्शन का आंकलन एक और पैमाने पर क‍िया जा सकता है। आप खुद की आर्थ‍िक स्‍थ‍ित‍ि से भी इसका आंकलन कर सकते हैं। महंगाई की तुलना में आप की आमदनी क‍ितनी बढ़ी है?

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो