scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

MP: 4 लाख करोड़ के कर्ज में डूबा मध्य प्रदेश, BJP के वादों को पूरा करने के लिए RBI के सामने फिर फैलाई झोली

Madhya Pradesh: मोहन ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज से जब सत्ता संभाली तो उन्हें लगभग 4 लाख करोड़ का कर्ज विरासत में मिला।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: December 24, 2023 14:43 IST
mp  4 लाख करोड़ के कर्ज में डूबा मध्य प्रदेश  bjp के वादों को पूरा करने के लिए rbi के सामने फिर फैलाई झोली
Madhya Pradesh: मोहन यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जब सत्ता संभाली तो उन्हें लगभग 4 लाख करोड़ का कर्ज विरासत में मिला। (फोटो सोर्स: ANI)
Advertisement

MP News: शपथ लेने के दो हफ्ते से भी कम समय बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI) से 2,000 करोड़ रुपये का ऋण मांगा है। मुख्यमंत्री ने यह ऋण राज्य के खर्चों को पूरा करने के लिए मांगा है। मुख्यमंत्री मोहन यादव का कदम यह बताने के लिए काफी है कि राज्य की वित्तीय स्थिति ठीक नहीं है। जो राज्य पर बढ़ते कर्ज का नया संकेत है। क्योंकि सत्तारूढ़ भाजपा ने हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों से पहले अपने वादों को पूरा की कोशिश करने में जुटी है।

मोहन यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जब सत्ता संभाली तो उन्हें लगभग 4 लाख करोड़ का कर्ज विरासत में मिला।

Advertisement

चौहान की लाडली बहना जैसी कल्याणकारी योजनाओं को भाजपा को करीबी मुकाबले में जीत दिलाने में मदद करने का श्रेय दिया गया। लेकिन इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी। शिवराज सिंह चौहान सरकार ने अकेले 2023 में 44,000 करोड़ रुपये का कर्ज लिया, जिसमें चुनाव आचार संहिता लागू होने के दौरान 5,000 करोड़ रुपये भी शामिल था। अब, नई सरकार आने के बाद, राज्य सरकार का खजाना खाली है, क्योंकि उसके पास वादों की लंबी सूची है।

CM मोहन यादव बोले- कोई संकट नहीं

हालांकि, सीएम मोहन यादव ने विधानसभा में आश्वासन दिया है कि "कोई संकट नहीं" है और कोई भी कल्याणकारी योजना धन की कमी के कारण नहीं रुकेगी। उन्होंने कहा, "कुछ लोगों ने मुद्दे उठाए हैं और कहा है कि योजनाएं बंद हो जाएंगी। यह एक अनावश्यक डर है। लाडली लक्ष्मी योजना सहित कोई भी योजना बंद नहीं की जाएगी।"

राज्य की विपक्षी कांग्रेस सरकार के इस रवैये से सहमत नहीं है। पार्टी प्रवक्ता अब्बास हफीज ने कहा कि मध्य प्रदेश का हर नागरिक कर्ज में डूबा हुआ है। उन्होंने कहा, 'मध्य प्रदेश में जन्म लेने वाला हर बच्चा अब 40,000 रुपये के कर्ज में है। भाजपा लगातार मध्य प्रदेश को दिवालियापन की ओर धकेल रही है।' हफीज ने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती और सरकार बनाती, तो वह राजस्व उत्पन्न करने के नए स्रोत खोजने की कोशिश करती।

Advertisement

वहीं सीएम यादव ने कहा कि भाजपा का घोषणापत्र रामायण और गीता जैसा है और आश्वासन दिया कि पिछली सरकार की सभी योजनाएं जारी रहेंगी।
उपमुख्यमंत्री जगदीश देवड़ा ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस को कर्ज को लेकर सरकार पर निशाना साधने के बजाय अपनी करारी हार पर "आत्ममंथन" करना चाहिए। "हमें उधार लेने की ज़रूरत है। अगर ज़रूरत पड़ी तो हम सड़क निर्माण, सिंचाई परियोजनाओं जैसे विकास कार्यों के लिए उधार लेंगे।"

देवड़ा ने आरोप लगाया कि राज्य की पिछली कांग्रेस सरकारों ने भी कर्ज लिया, लेकिन उसका उपयोग विकास में नहीं किया। उन्होंने आरोप लगाया कि इसके बजाय, उन्होंने धन की हेराफेरी की।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो