scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

फिट रहने के लिए Monk Fast करते हैं ब्रिटिश PM Rishi Sunak, जानें क्या है ये तरीका, क्या इसकी मदद से मोटापे से छुटकारा मिल सकता है?

मॉन्क फास्टिंग मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में मददगार है, जिससे आप अधिक कैलोरी बर्न कर पाते हैं और इस तरह भी आपको वजन घटाने में मदद मिल सकती है।
Written by: लाइफस्टाइल डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | February 03, 2024 18:21 IST
फिट रहने के लिए monk fast करते हैं ब्रिटिश pm rishi sunak  जानें क्या है ये तरीका  क्या इसकी मदद से मोटापे से छुटकारा मिल सकता है
ऋषि सुनक ने बताया है कि वे रविवार शाम करीब 5 बजे के बाद से खाना बंद कर देते और इसके बाद मंगलवार सुबह 5 बजे अपना उपवास तोड़ते हैं। (P.C- Freepik)
Advertisement

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (PM Rishi Sunak) राजनीति से अलग अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर भी अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं। इस बार ब्रिटिश पीएम अपनी फिटनेस को लेकर चर्चा में हैं। दरअसल, हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया है कि खुद को हमेशा सेहतमंद रखने के लिए वे 'मॉन्क फास्टिंग' करते हैं और यही उनकी फिटनेस का राज भी है। ऐसे में आइए जानते हैं कि इस खास तरीके के बारे में, साथ ही जानेंगे कि क्या इसे अपनाकर मोटापे से छुटकारा पाया जा सकता है?

क्या होती है मॉन्क फास्टिंग?

दरअसल, ये एक खास तरह का उपवास होता है, जो ज्यादातर 5:2 डाइट पर आधारित होता है। इसमें व्यक्ति हफ्ते में पांच दिन सामान्य रूप से भोजन करता है और बचे हुए दो दिनों में अपनी कैलोरी इंटेक को 300-500 कैलोरी तक लिमिट कर देता है। आसान भाषा में समझें तो अपने इंटरव्यू में ऋषि सुनक ने बताया है कि वे रविवार शाम करीब 5 बजे के बाद से खाना बंद कर देते और इसके बाद मंगलवार सुबह 5 बजे अपना उपवास तोड़ते हैं। 36 घंटे तक चले इस उपवास के दौरान वे केवल पानी या ब्लैक कॉफी ही पीते हैं। इससे उन्हें बॉडी को डिटॉक्स करने में मदद मिलती है।

Advertisement

कितना फायदेमंद है ये तरीका?

मामले को लेकर मैक्स हेल्थकेयर में डिपार्टमेंट ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स विभाग की रिजनल हेड, ऋतिका समद्दर बताती हैं, मॉन्क फास्टिंग में दो दिन आप बेहद कम कैलोरी इंटेक करते हैं, ऐसे में एनर्जी के लिए शरीर जमा एक्ट्रा फैट को जलाने लगता है, जिससे आपको मोटापे को कम करने में मदद मिल सकती है। इतना ही नहीं, ये तरीका कई ओर तरह से भी वेट लॉस करने में मददगार साबित हो सकता है।

मॉन्क फास्टिंग मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में मददगार है, जिससे आप अधिक कैलोरी बर्न कर पाते हैं और इस तरह भी आपको वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

इससे अलग अपोलो हॉस्पिटल की मुख्य पोषण विशेषज्ञ डॉ. प्रियंका रोहतगी बताती हैं कि वजन घटाने से अलग ये तरीका ऑटोफैगी को भी एक्टिव करने में मदद करता है। वहीं, ऑटोफैगी एक तरह की नेचुरल सेलुलर प्रक्रिया होती है, जो डैमेज हुई सेल्स को खत्म करने और हेल्दी सेल्स को बनने में मदद करती है। साथ ही ये हृदय रोग, मधुमेह, कैंसर और न्यूरोडीजेनेरेटिव विकारों से बचाने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में भी मददगार हो सकती है।

Advertisement

किन बातों का रखें ध्यान?

डॉ. प्रियंका रोहतगी के मुताबिक, 5:2 डाइट का ये तरीका यकीनन वजन घटने के लिए फायदेमंद हो सकता है। हालांकि, इसे अपनाने के दौरान कैलोरी का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। फास्टिंग के दौरान कम से कम कैलोरी इंटेक करने की कोशिश करें, साथ ही बाकी के 5 दिन भी अधिक कैलोरी फूड लेने से बचें। अगर आपको भूखे रहने से थकान, नींद, सिर दर्द या कमजोरी का सामना करना पड़ रहा है, तो हेल्दी चीजों को डाइट का हिस्सा बनाएं। इस दौरान आप कम कैलोरी वाले फ्रूट्स खा सकते हैं। इन सब से अलग 25 साल से कम उम्र, गर्भवती महिलाएं और किसी गंभीर रोग से जूझ रहे व्यक्ति वेट लॉस के लिए इस तरीके को अपनाने से बचें।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो