scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अब गौ माता ही दूध में पैदा करेंगी इंसुलिन, ब्लड शुगर बढ़ने का झंझट ही होगा खत्म, रिसर्च के मुताबिक डायबिटीज मरीजों के लिए है ये Milk चांदी

यूनिवर्सिटी ऑफ इलीनोइस के पशु वैज्ञानिक मैट व्हीलर के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने जीन में परिवर्तन कर ऐसी गाय बनाई है जिसके दूध में इंसुलिन बेपनाह मौजूद रहेगा।
Written by: Shahina Noor
नई दिल्ली | Updated: March 20, 2024 14:05 IST
अब गौ माता ही दूध में पैदा करेंगी इंसुलिन  ब्लड शुगर बढ़ने का झंझट ही होगा खत्म  रिसर्च के मुताबिक डायबिटीज मरीजों के लिए है ये milk चांदी
वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई गाय से डायबिटीज के खिलाफ जंग में महत्वपूर्ण सफलता हाथ लेगेगी। freepik
Advertisement

डायबिटीज मरीजों के लिए ब्लड शुगर को नॉर्मल रखना बेहद जरूरी है। डायबिटीज की बीमारी में ब्लड शुगर तब हाई होता है जब पैंक्रियाज इंसुलिन का उत्पादन करना कम या फिर बंद कर देता है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए वैज्ञानिकों ने एक सफलता हासिल की है। यूनिवर्सिटी ऑफ इलीनोइस के पशु वैज्ञानिक मैट व्हीलर के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने आनुवंशिक रूप से संशोधित गाय का सफलतापूर्वक उत्पादन किया है जिसके दूध में मानव इंसुलिन होता है। बायोटेक्नोलॉजी जर्नल में प्रकाशित यह शोध इंसुलिन आपूर्ति की वैश्विक चुनौती का संभावित समाधान करता है।

रिसर्च के मुताबिक वैज्ञानिकों ने जीन में परिवर्तन कर ऐसी गाय बनाई है जिसके दूध में इंसुलिन बेपनाह मौजूद रहेगा। दुनियाभर में डायबिटीज की बीमारी से जूझ रहे लोगों के लिए ये रिसर्च बेहद असरदार साबित होगी। वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई गाय से डायबिटीज के खिलाफ जंग में महत्वपूर्ण सफलता हाथ लेगेगी।

Advertisement

मौजूदा समय में डायबिटीज मरीजों के लिए इंसुलिन मुख्य रूप से आनुवंशिक रूप से संशोधित बैक्टीरिया या खमीर का उपयोग करके उत्पाद किया जाता है। यदि यह नया दृष्टिकोण व्यवहार्य साबित हुआ तो इंसुलिन उत्पादन में क्रांति ला सकता है। आइए जानते हैं कि वैज्ञानिकों द्वारा निर्मित गाय के दूध से कैसे ब्लड शुगर कंट्रोल रहेगा।

वैज्ञानिकों ने ट्रांसजेनिक गाय से निकाला दूध

टीम ने गाय के भ्रूण में प्रोइइंसुलिन के लिए कोडिंग करने वाले एक विशिष्ट मानव डीएनए खंड को सम्मिलित करके इसे हासिल किया है। फिर इन भ्रूणों को सामान्य गायों में प्रत्यारोपित किया गया, जिसके परिणामस्वरूप एक स्वस्थ बछड़े का जन्म हुआ। जबकि इस गाय को प्राकृतिक रूप से गर्भवती करने के प्रयास असफल रहे। मैट व्हीलर के नेतृत्व में गाय के जीन में परिवर्तन किया गया। यह बायोटेक्नोलॉजी जर्नल में विस्तार से प्रकाशित हुआ है। टाइप-1 और टाइप-2 के बहुत ऐसे मरीज हैं जिन्हें ब्लड शुगर को नॉर्मल रखने के लिए रोजाना इंसुलिन लेना पड़ता है। शोधकर्ताओं में गाय में इंसुलिन जेनेटिकली मोडिफाइड बैक्टीरिया से बनाया है। गाय के दूध से डायरेक्ट इंसुलिन मिल जाए तो इसका फायदा देश और दुनिया के ज्यादातर लोगों को होगा।

Advertisement

दूध के विश्लेषण से मानव प्रोइंसुलिन और इंसुलिन के समान आणविक द्रव्यमान वाले प्रोटीन की मौजूदगी का पता चला है। रिसर्च के मुताबिक गाय के दूध ने प्रोइन्सुलिन को इंसुलिन में भी बदल दिया। मैट व्हीलर की टीम के मुताबिक गाय के भ्रुण को निकालकर उसके जीन में इंसुलिन प्रोटीन वाला इंसानी डीएनए के सेगमेंट को सेट कर दिया। इस DNA में इंसानी DNA का कोड मौजूद रहता है।

शोधकर्ताओं ने इस जीन में इंजीनियरिंग करके इस भ्रुण को नॉर्मल गाय के गर्भाशय में पहुंचा जिससे बछिया पैदा लिया। रिसर्च के मुताबिक जैसी ही ये गाय बड़ी हुई और उसने दूध देना शुरू किया तो दूध में वहीं प्रोटीन मौजूद था जो मानव इंसुलिन में है। रिसर्च के मुताबिक दूध का प्रोइंसुलिन इंसान के शरीर में जाकर इंसुलिन बन जाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो