scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

रविवारी दाना-पानी: शाही मशरूम का व्यंजन परोसें शान से

सर्दी की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे मौसम में अधिक मसालों वाले या तले-भुने व्यंजन-सब्जियां खाने का खूब मन करता है। रसोई में भिन्न-भिन्न प्रकार के पकवान खूब बनाए जाते हैं सर्दियों में। मिठाइयों के शौकीन भी इस मौसम में निराश नहीं होते, क्योंकि इस दौरान मिठाइयों के नुकसान करने या अपच का खतरा बहुत कम रहता है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
Updated: November 05, 2023 14:04 IST
रविवारी दाना पानी  शाही मशरूम का व्यंजन परोसें शान से
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।(फोटो-इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

सर्दी में मशरूम

मशरूम लोकप्रिय सब्जियों में है। स्वाद में तो लाजवाब है ही, यह सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। सब्जी के साथ-साथ मशरूम से समोसा, पास्ता, टिक्का, सैंडविच और ‘स्टफ्ड मशरूम’ आदि व्यंजन भी बनाए जाते हैं, जिन्हें बड़े चाव से खाया जाता है। मशरूम औषधीय गुणों का खजाना माना जाता है। इसमें वसा की मात्रा बहुत कम होती है, इसलिए इसे खाने से वजन बढ़ने का खतरा नहीं रहता।

हां, मशरूम में प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन बी, विटामिन डी, कापर, पोटैशियम, फास्फोरस, सेलेनियम, फाइटोकेमिकल्स और एंटीआक्सिडेंट जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं, जो कई बीमारियों से बचाव करते हैं। सर्दियों में शाही मशरूम खूब खाया जाता है। इसे मेहमानों के सामने भी शान से परोस सकते हैं।

Advertisement

सामग्री

शाही मशरूम बनाने के लिए 300 ग्राम बटन मशरूम, स्वादानुसार नमक, एक चम्मच घी, एक चम्मच मक्खन, शाही गरम मसाला बनाने के लिए थोड़ी सी दालचीनी, एक चम्मच शाही जीरा, एक चम्मच सामान्य जीरा, एक चम्मच काली मिर्च, दस ग्राम सूखा अदरक, एक या दो बड़ी इलायची, जावित्री, थोड़े से पत्थर के फूल, आधा चम्मच धनिया, दो या तीन लौंग, तीन या चार हरी इलायची और जायफल। इन मसालों के अलावा शोरबा तैयार करने के लिए एक चम्मच घी, तेजपत्ता, आधा चम्मच जीरा, अदरक, लहसुन, प्याज, हरी मिर्च, हल्दी, पिसा जीरा, धनिया, पिसी लाल मिर्च, नमक, टमाटर, थोड़ी सी चीनी, काजू और क्रीम। साथ में थोड़ा सा नींबू भी।

बनाने की विधि

शाही मशरूम खुशबूदार मसालों से तैयार किया जाता है। इसमें मशरूम को भून कर मक्खन, घी और शाही गरम मसालों से तैयार शोरबे में डाला जाता है। इस शोरबे में काजू, जावित्री, जीरा, इलाइची जैसे गरम मसाले खास तौर से इस्तेमाल किए जाते हैं। इन्हीं की वजह से यह स्वादिष्ट व्यंजन तैयार होता है। सबसे पहले एक बर्तन में घी गर्म करें और इसमें मशरूम, नमक एवं मक्खन डालें। मशरूम को हल्का भून कर एक बर्तन में निकाल लें। अब एक बर्तन में सभी मसालों को डालकर दो से तीन मिनट के लिए सूखा भूनें।

Advertisement

फिर मिक्सी या ओखली में पीस लें। अब नंबर आता है ग्रेवी या शोरबा बनाने का, तो इसके के लिए कड़ाही या भगोने में घी गर्म करें, इसमें तेजपत्ता, जीरा, पिसा हुआ अदरक-लहसुन डालें। फिर बारीक कटी हुई प्याज को भून लें। इसमें हरी मिर्च डालें। इसके बाद इसमें हल्दी, जीरा, धनिया, लाल मिर्च और स्वाद अनुसार नमक डालें और थोड़ा सा पानी डालकर पकने रख दें।

Advertisement

इस मिश्रण में बारीक कटे टमाटर और थोड़ी सी चीनी भी डालें। इसके बाद एक-एक कर पिसे काजू, कुटा हुआ गरम मसाला, क्रीम और आधा नींबू का रस डाल दें। यह शानदार शोरबा लगभग तैयार है। इसमें अब पहले से भून कर रखे मशरूम डालें और कुछ देर के लिए धीमी आंच पर छोड़ दें। शाही मशरूम तैयार है, जिसे रोटी, नान या पराठे के साथ परोसा जा सकता है।

खाएं गोंद के लड्डू

द के लड्डू बनाने के लिए खाने वाला गोंद, आटा, देसी घी, बूरा, काजू, बादाम, पिस्ता, तरबूज और खरबूजे के बीज (मगज) आदि सामग्री जरूरत मुताबिक ले लें। लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले कड़ाही में घी गर्म कर लें। जब घी खूब गर्म हो जाए तो उसमें खाने का गोंद डालकर मध्यम आंच पर अच्छी तरह भून लें। गोंद का रंग हल्का सुनहरा होने पर गैस बंद कर दें और गोंद को कड़ाही से निकाल लें। गोंद को ठंडा होने के बाद बारीक कूट लें या मिक्सी में दरदरा कर लें। अब दोबारा कड़ाही को गैस पर चढ़ाकर इसमें एक चम्मच घी डालें। जब घी गर्म हो जाए तो उसमें एक कप आटा डालकर मध्यम आंच पर इसे भी भून लें।

आटे को लगातार चलाते रहें, ताकि यह जले नहीं और जब इसका रंग हल्का भूरा होने लगे तो उसमें गोंद, काजू, तरबूज के बीज, पिस्ता और बादाम डाल दें तथा अच्छी तरह मिलाकर गैस बंद कर दें। पूरा मिश्रण जब ठंडा हो जाए तो इसमें जरूरत मुताबिक बूरा या पिसी हुई चीनी डालें और इसे मिलाएं। अब इस मिश्रण के लड्डू बांध लें। इस तरह बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक गोंद के लड्डू तैयार हो चुके हैं। इन लड्डुओं को एक से दो घंटे खुली हवा में रखें और फिर बंद जार में रख दें, ताकि हवा न लगे। इसके बाद इन्हें दो महीने तक यानी पूरी सर्दियां आराम से खा सकते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो