scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

तरबूज के रंग पर न जाएं! हो सकती है मिलावट, 2 मिनट में ऐसे पता करें Adulteration

Real watermelon vs fake: इन दिनों आपको बाजार में हर तरफ तरबूज ही नजर आएंगे। पर इस फल की रंगत पर न जाएं क्योंकि आपके साथ धोखा हो सकता है। कैसे, जानते हैं।
Written by: pallavi kumari
नई दिल्ली | April 24, 2024 12:02 IST
तरबूज के रंग पर न जाएं  हो सकती है मिलावट  2 मिनट में ऐसे पता करें adulteration
Real watermelon vs fake: तरबूज में मिलावट हो सकती है और अगर आप इसकी पहचान करना चाहते हैं तो Fssai testing video को देखें। (P.C. Freepik)
Advertisement

Real watermelon vs fake: गर्मियां यानी तरबूज और खरबूज का मौसम। इस मौसम में आपको ये फल हर तरफ मिल जाएगा। लेकिन, आंख बंद करके तरबूज बिलकुल भी न खाएं क्योंकि इसमें जिन चीजों की मिलावट होती है वो आपको पूरी तरह से बीमार कर सकती है। तो, अब से तरबूज खाने से पहले इसकी मिलावट को एक बार जरूर चेक कर लें। इसके लिए आपको ज्यादा मेहनत करने की भी जरूरत नहीं है और न ही कोई टेस्टिंग औजार चाहिए, आपके घर में रखी चीजों से ही आप मिलावटी तरबूज की पहचान कर लेंगे। पर उससे पहले जानते हैं तरबूज में किस चीज की मिलावट हो सकती है।

तरबूज में होती है इस चीज की मिलावट

तरबूज को लाल और मीठा दिखाने के लिए इसके अंदर कुछ कैमिकल्स का इंजेक्शन दिया जाता है। दरअसल, एरिथ्रोसिन-बी / रेड-बी (Erythrosine-B / Red-B) एक लाल रंग की डाई है जिसे तरबूज में इंजेक्ट किया जाता है। ये तरबूज को चमकदार लाल रंग देती है और आपको लगता है कि तरबूज पका हुआ, पानी से भरपूर और मीठा होगा।

Advertisement

मिलावटी तरबूज खाने के नुकसान

मिलावटी तरबूज खाने के नुकसान (injected watermelon side effects) कई हैं जिसमें पहला नुकसान ये है कि इसमें मिलाया जाने वाला कैमिकल एरिथ्रोसिन-बी (Erythrosine-B) फूड प्वाइजिंग की वजह बन सकता है। दूसरा, ये आपकी किडनी के सेल्स को डैमेज करके इसके फंक्शन को खराब करता है। साथ ही ये दस्त और उल्टी समेत लंबे समय तक रहने वाली पेट से जुड़ी समस्याओं का कारण बन सकता है।

तरबूज में मिलावट की पहचान कैसे करें

तरबूज में मिलावट की पहचान (how to check watermelon adulteration) करने के दो तरीके हैं।

Advertisement

पहले तो तरबूज को दो भागों में काट लें। अब एक कॉटन यानी रूई की लोई लें और इसे तरबूज पर रंगड़ें। अगर रूई में लाल या नारंगी रंग निकल आए तो समय जाएं ये मिलावटी है। अगर कोई रंग न निकले तो समझें ये असली तरबूज है।

दूसरा, तरीका ये है कि आप एक टिशू पेपर लें और कटे हुए तरबूज पर रगड़ दें। अगर टिशू पेपर पानी के साथ रंग को सोख ले रहा है और इसका रंग नजर आ रहा है तो ये मिलावटी है। अगर, टिशू पेपर साफ नजर आ रहा है और बस गीला है तो समझें ये पानी से भरपूर एक हेल्दी तरबूज है। इसे आप खा सकते हैं।

तो, इस तरह से दो मिनट में आप तरबूज में होने वाली मिलावट की पहचान कर सकते हैं। तो, अपनी सेहत का ध्यान रखते हुए आप इन ट्रिक को अपना सकते हैं।

Source: fssai.gov.in

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो