scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Happy New Year 2024: साल का पहला दिन 1 जनवरी क्यों है? आखिर नया साल 1 January को ही क्यों मनाया जाता है? जानिए इस दिन का इतिहास और उस से जुड़ी बातें

हमारा कलैंडर ग्रिगोरियन कैलेंडर है सूर्य चक्र पर आधारित है। इसे ज्यादातर देशों में इस्तेमाल किया जाता है।
Written by: लाइफस्टाइल डेस्क | Edited By: Shahina Noor
नई दिल्ली | Updated: January 01, 2024 08:12 IST
happy new year 2024  साल का पहला दिन 1 जनवरी क्यों है  आखिर नया साल 1 january को ही क्यों मनाया जाता है  जानिए इस दिन का इतिहास और उस से जुड़ी बातें
Happy New Year 2023: जब रोमन शासक जूलियस सीजर ने कलैंडर में बदलाव किया तो जूलियस सीजर ने एक जनवरी को नया साल मनाने की घोषणा की थी। freepik
Advertisement

Happy New Year 2024: नए साल की शुरुआत हो चुकी है। देश और दुनियाभर के लोगों ने नए साल का स्वागत बड़े उत्साह के साथ किया। 31 दिसंबर की रात को जैसे ही घड़ी की सुईयां 12 पर पहुंची लोग एक दूसरे को एक साल की शुभकामनाएं देने लगे। अंग्रेजी कलैंडर के मुताबिक 1 जनवरी नए साल का पहला दिन हैं जिसे सारी दुनिया मनाती है। अब सवाल ये उठता है कि आखिर नया साल 1 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है,12 महीनों में किसी दूसरे दिन और दूसरे महीने में क्यों नहीं मनाया जाता।

नया साल 1 जनवरी को क्यों मनाया जाता है?

1582 से पहले नया साल मार्च के महीने से वसंत ऋतु पर शुरू होता था। रोमन कैलेंडर के मुताबिक उस समय साल में 10 महीने होते थे। रोम के राजा नूमा पोंपिलस ने रोमन कैलेंडर में बदलाव कर आठवीं शताब्दी ईसा पूर्व के बाद जनवरी और फरवरी महीने को भी साल में जोड़ दिया। एक जनवरी को नया साल मनाने की शुरूआत 1582 ई.के ग्रेगेरियन कैलेंडर की शुरुआत के बाद हुई। 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्म के बाद 1 जनवरी को नए साल के तौर पर मनाया जाता है। पोप ग्रेगोरी ने जूलियन कैलेंडर में सुधार करके 1 जनवरी को नए साल को पहला दिन बताया।

Advertisement

सूर्य च्रक पर अधारित है ग्रिगोरियन कैलेंडर

जब रोमन शासक जूलियस सीजर ने कलैंडर में बदलाव किया तो जूलियस सीजर ने एक जनवरी को नया साल मनाने की घोषणा की थी। धरती 365 दिन और 6 घंटे सूरज के चारों ओर चक्कर लगाती है। ऐसे में जब जनवरी और फरवरी के महीने को जोड़ा गया तो सूरज की गणना के साथ उसका तालमेल नहीं बैठा। इसके बाद खगोलविदों ने इस पर काफी रिसर्च की।

कोई भी कलैंडर सूर्य चक्र और चंद्र चक्र की गणना पर आधारित होता है। जो कैलेंडर चंद्र चक्र पर आधारित होते हैं उनमें 354 दिन होते हैं जबकि जो कैलेंडर सूर्य चक्र पर आधारित होते हैं उसमें 365 दिन होते हैं। ग्रिगोरियन कैलेंडर सूर्य चक्र पर आधारित है जिसे ज्यादातर देशों में इस्तेमाल किया जाता है।

Advertisement

प्राचीन बेबीलोनियन सभ्यता के दौरान यानि 4000 साल पहले नए साल को ग्यारह दिनों तक मनाया जाता था। इस सेलिब्रेशन को उस समय अकितू कहा जाता था जिसमें हर दिन को नई रस्मों रिवाज के साथ मनाया जाता था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो