scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Parenting Tips: बच्चों को खुश रखने में टॉप पर है ये देश, जानें ऐसा क्या करते हैं यहां के मां-बाप?

Dutch Parenting Tips: इस देश के बच्चे दुनिया के सबसे खुशहाल बच्चों में से एक हैं और इसका पूरा श्रेय इनके माता पिता को जाता है। ऐसे में जानते हैं कैसे करते हैं यहां के माता-पिता अपने बच्चों की परवरिश।
Written by: pallavi kumari
नई दिल्ली | May 14, 2024 15:50 IST
parenting tips  बच्चों को खुश रखने में टॉप पर है ये देश  जानें ऐसा क्या करते हैं यहां के मां बाप
Dutch Parenting Tips: बच्चों की परवरिश के तरीके अगर आपको सीखना है तो इस देश के माता-पिता से सीखें। (P.C. Pexels)
Advertisement

Dutch Parenting Tips: दुनिया में एक ऐसा देश है जो अपनी पेरेंटिंग टिप्स के लिए जाना जाता है। दरअसल, इस देश के बच्चे दुनिया के सबसे खुशहाल बच्चों में से एक हैं। ये फिजिकल एक्टिविटी से लेकर मोरल वैल्यू तक में बेहतरीन है। साथ ही इन बच्चों की मानसिक सेहत भी अच्छी रहती है। इसलिए इस देश के बारे में और यहां के माता-पिता के परवरिश के तरीकों के बारे में आपको जानना चाहिए। साथ ही हम जानेंगे कि सबसे अच्छी पेरेंटिंग स्टाइल कौन सी है और क्यों। पर उससे पहले जानते हैं कौन सा है ये देश जो है बच्चों को खुश रखने में टॉप पर।

बच्चों को खुश रखने में टॉप पर है ये देश

नीदरलैंड (Netherlands) जिसे डच (Dutch) कंट्री भी कहते हैं यहां के बच्चे सबसे ज्यादा खुशहाल रहते हैं। दरअसल, डच माता-पिता आपसी सहयोग, सामाजिक शिक्षा और व्यक्तिगत उपलब्धि पर ज्यादा जोर देते हैं और बच्चों पर पढ़ाई-लिखाई और स्कूल में अच्छी परफॉर्मेंस के लिए प्रेशर नहीं बनाते। ये माता पिता अपने बच्चों को अपने मन की चीजों को करने की आजादी देते हैं। फिजिकल एक्टिविटी, म्यूजिक, खेल-कूद और क्रिएटिव कामों के लिए बच्चों को मोटिवेट करते हैं। इसलिए यहां के बच्चे मानसिक रूप से जहां तेज होते हैं वहीं, क्रिएटिव और स्मार्ट भी होते हैं।

Advertisement

Authoritative parenting style से करते हैं परवरिश

परवरिश के इस तरीके में माता-पिता बच्चों का पालन-पोषण करने साथ उन्हें जिम्मेदार बनाने पर जोर देते हैं और इसके लिए सहायक भूमिका निभाते हैं। फिर भी अपने बच्चों के लिए सीमाएं निर्धारित करते हैं। वे नियमों को समझाकर, चर्चा करके और तर्क करके बच्चों के व्यवहार को नियंत्रित करने का प्रयास करते हैं। वे बच्चे के दृष्टिकोण को सुनते हैं लेकिन हमेशा उसे स्वीकार नहीं करते हैं। इस शैली में पले-बढ़े बच्चे मिलनसार, आत्मनिर्भर, ऊर्जावान, हंसमुख, आत्म-नियंत्रित, जिज्ञासु, सहयोगी और एक स्मार्ट बच्चे के रूप में तैयार होते हैं।

तो, अपने बच्चों की परवरिश के लिए आप इन टिप्स को अपना सकते हैं। आपको करना ये है कि बच्चों को आराम से अपने और अपने आस पास की चीजों के बारे में जानने दें। उन पर किसी चीज का प्रेशर न बनाएं। उन्हें खुश रहने दें पर साथ ही अनुशासित रहना भी बताएं। इससे आपको उन्हें पढ़ने के लिए कहना नहीं पड़ेगा। साथ ही फिजिकल एक्टिविटी और आस-पास के लोगों से भी जुड़ने की कला आएगी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो