scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या आप अपने बॉयफ्रेंड पर हर वक्त निगाह रखती हैं? नॉर्मल नहीं ये आदत 'लव ब्रेन' नाम की बीमारी के हो सकते हैं संकेत, जानिए इश्क़ की खुमारी से जुड़े इस डिजीज को 

हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक लव ब्रेन बीमारी के लक्षणों की बात करें तो इसमें मरीज का किसी एक इंसान के प्रति आकर्षण बेहद बढ़ जाता है।
Written by: Shahina Noor
नई दिल्ली | April 25, 2024 13:50 IST
क्या आप अपने बॉयफ्रेंड पर हर वक्त निगाह रखती हैं  नॉर्मल नहीं ये आदत  लव ब्रेन  नाम की बीमारी के हो सकते हैं संकेत  जानिए इश्क़ की खुमारी से जुड़े इस डिजीज को 
लव ब्रेन की बीमारी का खुलासा चीन के चेंगदू के द फोर्थ पीपुल्स हॉस्पिटल में हुआ जहां 18 साल की ज़िआयु को इलाज के लिए लाया गया था। freepik

ये इश्क़ भी क्या अजब बीमारी है ज़िंदगी हमारी और तलब तुम्हारी है...प्यार और इश्क सच में एक अजीब जुनून है जिसमें इंसान अपनी जिंदगी भूल जाता है और सिर्फ अपने साथी के बारे में सोचता है। प्यार में पड़ने वाले कपल्स एक-दूसरे का बराबर ख्याल रखें तो रिश्ते में गर्मजोशी बनी रहती है और प्यार भी गहरा होता है। प्यार, इश्क और मोहब्बत कहने को तो एक ही मायने है लेकिन इसकी गहराई में जाएं तो हर लफ्त में अलग जुनून है। प्यार, इश्क और मोहब्बत में इंसान की जिंदगी बदल जाती है। हम जिससे प्यार करते हैं उस पर अपना अधिकार भी बताते हैं, लेकिन आप जानते हैं कि अपने साथी पर आप जरूरत से ज्यादा अधिकार बताएंगे तो आपके साथी को इस रिश्ते से घुटन महसूस होने लगेगी।

वैसे प्यार है तो अधिकार जताना भी जरूरी है लेकिन बदलते दौर ने प्यार, इश्क और मोहब्बत का मतलब ही बदल दिया। ये शब्द सिर्फ प्यार का इज़हार करने का जरिया बनकर रह गए हैं। आज-कल लव बर्ड्स प्यार तो करना चाहते हैं लेकिन उसमें घुटन नहीं चाहते। प्यार में दखल अंदाजी उन्हें पसंद नहीं है।

हाल ही में चीन में एक ऐसी बीमारी सामने आई है जो प्यार से जुड़ी है। चीनी वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक चीन के सिचुआन प्रांत में ज़िआयु नाम की 18 साल की लड़की को एक लड़के से प्यार हो गया। प्यार की खुमारी दोनों में कुछ समय तक बराबर रही, लेकिन कुछ वक्त बाद लड़का प्यार में थम गया लेकिन लड़की अपनी हदें पार करती रही।

लड़की अपने साथी से इस कदर प्यार करने लगी की उसके लिए अपने दोस्त की हर पल की खबर रखना आदत बन गया था। लड़का अपनी गर्लफ्रेंड की इस आदत से घुटन महसूस करने लगा था। एक दिन लड़की पर प्यार की खुमारी इतनी ज्यादा चढ़ी कि उसमे दिन भर में लड़के को 100 से ज्यादा बार कॉल कर दिया जिससे लड़का तंग आ गया। बॉयफ्रेंड का रिस्पॉन्स नहीं मिलने पर लड़की अपनी जान देने पर उतारू हो गई, पुलिस ने समय पर पहुंचकर उस लड़की की जान बचाई और उसे हॉस्पिटल पहुंचाया।

अस्पताल में जाकर पता चला कि लड़की की ये आदत प्यार नहीं बल्कि इश्क से जुड़ी एक बीमारी है जिसे लव ब्रेन के नाम से जाना जाता है।  आइए जानते हैं कि लव ब्रेन कौन सी बीमारी है और इस बीमारी के लक्षण कौन-कौन से हैं और इसका उपचार कैसे किया जाता है।

लव ब्रेन कौन सी बीमारी है और क्यों होती है?

लव ब्रेन की बीमारी का खुलासा चीन के चेंगदू के द फोर्थ पीपुल्स हॉस्पिटल में हुआ जहां 18 साल की ज़िआयु को इलाज के लिए लेकर आया गया था। डॉक्टर के मुताबिक ज़ी आयु को बॉर्डरलाइन पर्सनैलिटी डिसऑर्डर (Borderline Personality Disorder) बीमारी है जिसे Love Brain के नाम से भी जाना जाता है। इस बीमारी में मरीज को बाइपोलर डिसऑर्डर,  डिप्रेशन और एंग्जायटी होती है। डॉक्टर के मुताबिक ये बीमारी उन लोगों को होती है जिन्हें बचपने से अपने परिवार का साथ प्यार नहीं मिलता। इस बीमारी से पीड़ित इंसान अपने इमोशन को कंट्रोल नहीं कर पाता।

लव ब्रेन बीमारी के लक्षण कौन-कौन से हैं

  • हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक लव ब्रेन बीमारी के लक्षणों की बात करें तो इसमें मरीज का किसी एक इंसान के प्रति आकर्षण बेहद बढ़ जाता है।
  • बीमारी से पीड़ित इंसान व्यक्ति के बारे में जुनूनी हो जाता है।
  • जिस व्यक्ति से वो प्यार करता है उसे असुरक्षित महसूत करता है और उसकी हिफाज़त करने की कोशिश करता है।
  • उस पर अपना अधिकार समझता है और उसके लिए सोचता है।
  • दूसरे संबंधों से नफरत करता है।
  • आत्म सम्मान की भावना कम होती है।

बॉडी में दिखने हैं ये साइड इफेक्ट

  • भूख में बदलाव
  • ड्राई माउथ
  • थकान
  • सिर दर्द
  • अनिद्रा
  • कामेच्छा में कमी
  • जी मिचलाना
  • भार बढ़ना इस बीमारी के बिगड़े लक्षण हैं।

लव ब्रेन की इस बीमारी का इलाज कैसे करें

इस बीमारी का इलाज दवा और मनोचिकित्सा दोनों के कॉम्बिनेशन से किया जाता है। ब्रेन केमिकल को एडजस्ट करने के लिए दवाओं का उपयोग किया जा सकता है जिससे इस बीमारी के लक्षण कम होते हैं। इस बीमारी का इलाज करने के लिए डिप्रेशन और एंग्जायटी को कम करने वाली दवा से इलाज किया जाता है। इस बीमारी का इलाज करने में समय लग सकता है।

Tags :
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो