scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

सियासी उथल-पुथल के बीच निशिकांत दुबे का ट्वीट- जय श्रीराम आखिर झारखंड में हो गया काम

माना जा रहा कि अगर चुनाव आयोग हेमंत सोरेन के खिलाफ फैसला सुनाता है तो वह अपनी पत्नी को मुख्यमंत्री बना सकते हैं।
Written by: जनसत्ता ऑनलाइन | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: August 22, 2022 11:27 IST
सियासी उथल पुथल के बीच निशिकांत दुबे का ट्वीट  जय श्रीराम आखिर झारखंड में हो गया काम
बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे (file photo)
Advertisement

झारखंड में सियासी उथल-पुथल के बीच बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे का एक ट्वीट खूब वायरल हो रहा है। रविवार रात झारखंड से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने ट्वीट करते हुए लिखा, "जोहर, जय श्री राम आखिर झारखंड में हो गया काम?" निशिकांत दुबे ने अपने ट्वीट के माध्यम से कुछ स्पष्ट नहीं किया है, लेकिन इससे सियासी हलचल जरूर मच गई है।

बता दें कि पत्थर खनन आवंटन मामले में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को अयोग्य घोषित करने की मांग की गई है। यदि चुनाव आयोग का फैसला सीएम हेमंत सोरेन के खिलाफ आता है तो उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ेगा। ऐसे में झारखंड में गठबंधन सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। वहीं ये भी कयास लगाए जा रहे हैं कि ऐसी स्थिति में हेमंत सोरेन अपनी पत्नी को सीएम बना सकते हैं।

Advertisement

निशिकांत दुबे के ट्वीट पर सोशल मीडिया पर भी लोग चर्चा कर रहे हैं। सुनील करमाली नाम के ट्विटर यूजर ने ट्वीट कर लिखा, "आपलोगों को हेमन्त से दिक्कत नहीं है, हेमन्त आदिवासी मुख्यमंत्री है इस बात का दिक्कत है। वैसे भी बीजेपी स्वच्छ राजनीति अब नहीं करती, सिर्फ अब सरकार बनाने की राजनीति करती है। ताकि सभी राज्यों की खनिज सम्पदा को लूट सके और बीजेपी अपने खजाना में भर सके।"

बता दें कि गठबंधन के विधायकों की शनिवार को सीएम आवास पर बैठक हुई थी और इस बैठक में 49 में से 41 विधायक पहुंचे थे। 8 विधायक बैठक में नहीं आये थे। लेकिन कहा गया कि जो विधायक नहीं आये थे, उन्होंने इसकी सूचना पहले से ही दे दी थी और राज्य में गठबंधन पूरी तरह से मजबूत है। झारखण्ड के तीन निलंबित कांग्रेस विधायक बंगाल में हैं और पुलिस ने कुछ दिन पहले इन्हें कैश के साथ पकड़ा था। फिर इन्हें जेल में भेज दिया गया था।

Advertisement

तीनों ही विधायकों को पार्टी ने निलंबित कर दिया है और जमानत के बाद अगले तीन महीने तक तीनों को बंगाल में ही रहना होगा। तीनों विधायकों को पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए बुलाये जाने पर तुरंत पेश होना पड़ेगा। बता दें कि विपक्ष आरोप लगाता रहता है कि बीजेपी झारखंड में 'ऑपरेशन लोटस' चलाना चाहती है और सरकार गिराकर बीजेपी की सरकार बनाना चाहती है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो