scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Election 2024: क्यों राहुल गांधी के वायनाड से चुनाव लड़ने से कांग्रेस को उत्तर भारत में हो सकता है नुकसान?

गांधी परिवार के करीबी विश्वासपात्र माने जाने वाले सीपीआई (एम) महासचिव सीताराम येचुरी ने भी राहुल को वायनाड से चुनाव न लड़ने की सलाह दी है।
Written by: Coomi Kapoor
नई दिल्ली | March 10, 2024 13:20 IST
lok sabha election 2024  क्यों राहुल गांधी के वायनाड से चुनाव लड़ने से कांग्रेस को उत्तर भारत में हो सकता है नुकसान
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (PC _ FB)
Advertisement

लगभग पूरी कांग्रेस पार्टी का मानना है कि राहुल गांधी को केरल के वायनाड से दोबारा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। ऐसा करना नासमझी होगी। पिछली बार राहुल को वायनाड से 64 फीसदी वोट मिले थे।

राहुल गांधी की जीत उनके सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के समर्थन की वजह से हुई थी, क्योंकि वायनाड लोकसभा क्षेत्र में 29 प्रतिशत मतदाता मुस्लिम हैं।

Advertisement

वायनाड से क्यों चुनाव न लड़ें राहुल गांधी?

आशंका यह है कि केरल में राहुल गांधी को IUML का समर्थन उत्तर भारत में कांग्रेस के लिए उल्टा पड़ सकता है। यहां तक कि गांधी परिवार के करीबी विश्वासपात्र माने जाने वाले सीपीआई (एम) महासचिव सीताराम येचुरी ने भी राहुल को वायनाड से चुनाव न लड़ने की सलाह दी है।

केरल में कांग्रेस के प्रमुख विपक्ष एलडीएफ ने स्पष्ट कर दिया है कि वह वायनाड में कांग्रेस के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतारेगी, भले ही पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर इंडिया गठबंधन की सहयोगी हो।

अपने दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित करने के लिए वाम गठबंधन ने यह कहकर कांग्रेस की घोषणा को टाल दिया कि सीपीआई महासचिव डी राजा की पत्नी एनी राजा वायनाड से चुनाव लड़ेंगी।

Advertisement

व्यावहारिक रूप से वायनाड का समर्थन करने वाले एकमात्र व्यक्ति केसी वेणुगोपाल हैं, क्योंकि वह इस निर्वाचन क्षेत्र को संभालते हैं। पिछले कुछ समय से वेणुगोपाल पर राहुल की अत्यधिक निर्भरता की चर्चा है।

Advertisement

दक्षिण एक और सीट से ऑफर

राहुल गांधी को अगर दक्षिण भारत से ही लड़ना है तो उनके पास तेलंगाना का भी विकल्प है। पहले कर्नाटक पर भी विचार हुआ था, लेकिन पार्टी के सर्वे के आधार पर सुझाव दिया गया कि कोई भी सीट 100 प्रतिशत सुरक्षित नहीं है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी चाहते हैं कि राहुल उनकी पूर्व लोकसभा सीट मल्काजगिरी से खड़े हों। लेकिन वेणुगोपाल का दबदबा ऐसा है कि राहुल को उनके पुराने निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ना होगा।

चार महीने तक राहुल से मिलने की कोशिश करते रहे थे अशोक चव्हाण, मिला तीन शब्दों का मैसेज

कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपनी 'राजनीतिक शैली' के कारण पार्टी के भीतर अक्सर विवाद और तनाव का कारण रहे हैं। राज्यसभा उम्मीदवारों के चयन के बाद पार्टी की आंतरिक अशांति उजागर हुई है। राहुल गांधी की केसी वेणुगोपाल पर निर्भरता ने वरिष्ठ नेताओं में कांग्रेस के प्रति निराशा पैदा कर दी है।

अशोक चव्हाण ने राहुल गांधी से मिलने के लिए चार महीने तक प्रयास किए, लेकिन उन्हें केवल यही कहा गया कि केसी से बात कीजिए। निराश होकर, चव्हाण ने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया। (विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें)

Rahul Gandhi
केसी वेणुगोपाल पर राहुल गांधी की निर्भरता से वरिष्ठ नेताओं का कांग्रेस से मोहभंग हो रहा है। (PC- FB/Rahul Gandhi)
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो