scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Fact Check: इंडियन आर्मी के 37 कमांडो को नहीं जलाया गया जिंदा, मणिपुर हिंसा का वीडियो फर्जी दावे के साथ वायरल

लाइटहाउस जर्नलिज्म के साथ फोन पर हुई बातचीत में मणिपुर स्थित उखरुल टाइम्स के संपादक रोन्नेरी खथिंग ने बताया कि हाल में या पहले ऐसी कोई घटना नहीं हुई है, जिसमें भारतीय सेना के 37 कमांडो को जिंदा जला दिया गया हो।
Written by: जनसत्ता ऑनलाइन
नई दिल्ली | February 08, 2024 16:22 IST
fact check  इंडियन आर्मी के 37 कमांडो को नहीं जलाया गया जिंदा  मणिपुर हिंसा का वीडियो फर्जी दावे के साथ वायरल
वायरल दावा फर्जी है। (PC- AP/प्रतीकात्मक तस्वीर)
Advertisement
अंकिता देशकर

लाइटहाउस जर्नलिज्म को सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा एक वीडियो मिला। वीडियो के साथ भारतीय सेना के 37 कमांडो को जिंदा जलाने का दावा किया जा रहा है। जांच के बाद पता चला कि वायरल दावा भ्रामक है। घटना 30 जनवरी 2024 की है, जब कांगपोकपी और इंफाल पश्चिम जिले के सीमावर्ती इलाके में हथियारबंद बदमाशों के बीच गोलीबारी के दौरान 2 लोगों की मौत हो गई थी।

क्या वायरल हो रहा है?

एक्स यूजर @ImrankhanISP1 ने वायरल वीडियो को भ्रामक दावे के साथ शेयर किया है।

Advertisement

अन्य यूजर्स भी वीडियो को इसी दावे के साथ शेयर कर रहे हैं।

कैसे हुई पड़ताल?

हमने InVid टूल पर वीडियो अपलोड करके अपनी जांच शुरू की। InVid टूल की मदद से हमें वीडियो के कई फ्रेम मिल गए। फ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च में डालने पर ईस्ट मोजो द्वारा अपलोड किया गया एक वीडियो मिला।

ये वीडियो, वायरल हो रहे वीडियो जैसा है। वीडियो 31 जनवरी, 2024 को अपलोड किया गया था। विवरण के मुताबिक: पुलिस के अनुसार, मंगलवार को कांगपोकपी और इंफाल पश्चिम जिले के सीमावर्ती इलाके में हथियार से लैस उग्रवादियों के बीच ताजा गोलीबारी के दौरान कम से कम दो लोग मारे गए, और तीन अन्य घायल हो गए।

Advertisement

गूगल पर सर्च करने पर हमें घटना संबंधित कई खबरें मिलीं:

Advertisement

हमें मणिपुर पुलिस द्वारा किया हुआ ट्वीट भी मिला।

जांच के अगले चरण में हमने मणिपुर स्थित उखरुल टाइम्स के संपादक रोन्नेरी खथिंग से फोन पर बात की। उन्होंने लाइटहाउस जर्नलिज्म को बताया कि हाल में या पहले ऐसी कोई घटना नहीं हुई है, जिसमें भारतीय सेना के 37 कमांडो को जिंदा जला दिया गया हो। उन्होंने यह भी कहा कि ये वीडियो हाल ही में सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इस वीडियो में कुकी-ज़ोमी समूह एवं मैतेई समूह में हुई झड़प को देखा जा सकता है। रोन्नेरी खथिंग ने उखरुल टाइम्स में आई इस घटना की खबर भी हमारे साथ साझा की।

निष्कर्ष: मणिपुर में भारतीय सेना के 37 कमांडो को जिंदा नहीं जलाया गया, वायरल दावा भ्रामक है। पोस्ट के साथ शेयर किया जा रहा वीडियो कांगपोकपी और इंफाल पश्चिम के सीमावर्ती इलाकों में हुई हिंसा की है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो