scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

UP BJP: भाजपा नेता बोले- लोकसभा चुनाव में हम सपा से नहीं अपनों से लड़ रहे थे

बीजेपी ने 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में फिर से सरकार बनाने के बाद राज्य की सभी 80 लोकसभा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा था। लेकिन पार्टी इस लक्ष्य से काफी पीछे रह गई।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: July 06, 2024 18:27 IST
up bjp  भाजपा नेता बोले  लोकसभा चुनाव में हम सपा से नहीं अपनों से लड़ रहे थे
खराब नतीजों के बाद सामने आ रही कार्यकर्ताओं की नाराजगी। (Source-PTI)
Advertisement

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में बेहद खराब प्रदर्शन के बाद बीजेपी के नेताओं की नाराजगी और दर्द रह-रहकर सामने आ रहा है। उत्तर प्रदेश में प्रयागराज में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में यमुनापार के अध्यक्ष विनोद प्रजापति ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कार्यकर्ताओं ने पूरे मनोयोग से बूथों पर अपना काम नहीं किया।

Advertisement

वह यह कहने से भी नहीं चूके कि हम लोग समाजवादी पार्टी से नहीं अपनों से ही चुनाव लड़ रहे थे। बीजेपी के नेताओं और पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि पुलिस कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित कर रही है।

Advertisement

इलाहाबाद की लोकसभा सीट पर बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है। यहां से इंडिया गठबंधन के उम्मीदवार उज्जवल रमण सिंह ने लगभग 59 हजार वोटों के अंतर से बीजेपी के उम्मीदवार नीरज त्रिपाठी को हराया है।

उत्तर प्रदेश से लेकर झारखंड, मणिपुर, पुडुचेरी, बिहार, और महाराष्ट्र तक में बीजेपी और एनडीए के भीतर विरोधी सुर सामने आ रहे हैं।पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी नेताओं की अंतरकलह सामने आई थी।

कुछ दिन पहले केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने एससी, एसटी और ओबीसी के अभ्यर्थियों को सरकारी नौकरी नहीं मिलने और उत्तर प्रदेश में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती का मुद्दा उठाया था।

Advertisement

बीजेपी ने 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में फिर से सरकार बनाने के बाद राज्य की सभी 80 लोकसभा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई और राष्ट्रीय नेतृत्व का फोकस भी इस राज्य पर ही था।

Advertisement

pm modi| cm yogi| up bjp
नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ (Source- PTI)

बीजेपी के पूरी ताकत झोंकने और पूरब से लेकर पश्चिम तक सहयोगियों को जोड़कर चुनाव मैदान में उतरने के बाद भी पार्टी का प्रदर्शन बेहद खराब रहा।

यूपी में 29 सीटों का हुआ नुकसान

राज्य2019 में मिली सीटेंगंवाई सीटें
उत्तर प्रदेश6229
महाराष्ट्र2314
पश्चिम बंगाल186
राजस्थान2511
बिहार175
कर्नाटक258
हरियाणा105
nda dispute| BJP| shivsena| NCP
NDA में तकरार (Source- PTI)

केंद्र के सात, यूपी के दो मंत्री हारे चुनाव

उत्तर प्रदेश के नतीजे बीजेपी के लिए बेहद खराब रहे हैं। इसका पता इससे चलता है कि यहां पार्टी के सात केंद्रीय मंत्री और योगी सरकार के दो मंत्रियों को भी चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है।

चुनाव हारने वाले केंद्रीय मंत्री

लोकसभा सीटहारे हुए पूर्व मंत्री का नामहार का अंतर
अमेठीस्मृति ईरानी1.67 लाख
चंदौलीमहेंद्र नाथ पांडे21,565
मुजफ्फरनगरसंजीव बालियान24,672
लखीमपुर खीरीअजय मिश्रा टेनी34,329
फतेहपुरसाध्वी निरंजन ज्योति33,199
जालौन (एससी)भानु प्रताप सिंह वर्मा53,898
मोहनलालगंज (एससी)कौशल किशोर70,292

यूपी सरकार के मंत्री हारे

लोकसभा सीटहारे हुए पूर्व मंत्री का नामहार का अंतर
मैनपुरीडिंपल यादव 2.21 लाख
रायबरेलीदिनेश प्रताप सिंह3.90 लाख

मोदी और राजनाथ की जीत का अंतर घटा

हालात इतने खराब रहे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की जीत का अंतर भी 2019 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले काफी गिर गया।

लोकसभा सीटउम्मीदवार का नाम2019 में जीत का अंतर2024 में जीत का अंतर
वाराणसीनरेंद्र मोदी4.79 लाख1.52 लाख
लखनऊराजनाथ सिंह3.47 लाख1.3 लाख

यूपी में इन जगहों पर भी सामने आई लड़ाई

पश्चिम उत्तर प्रदेश की मुजफ्फरनगर सीट पर हार के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान और पूर्व विधायक संगीत सोम के बीच जुबानी जंग हुई। सलेमपुर सीट से चुनाव हारे रविंद्र कुशवाहा ने राज्यमंत्री विजयलक्ष्मी गौतम और सहयोगी दल सुभाषपा के अध्यक्ष और योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर पर निशाना साधा था।

narendra modi
बीजेपी में नहीं थम रही रार। (Source-PTI)

झारखंड की दुमका लोकसभा सीट से बीजेपी की प्रत्याशी रहीं सीता सोरेन ने अपनी हार के लिए पार्टी संगठन के नेताओं को खुलकर जिम्मेदार ठहराया था।

Yogi Adityanath Akhilesh Yadav
सपा प्रमुख अखिलेश यादव और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

अब 10 सीटों पर होनी है टक्कर

लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद उत्तर प्रदेश में एनडीए और इंडिया गठबंधन के बीच जोरदार टक्कर होनी है। राज्य में अगले कुछ महीनों के भीतर 10 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं।

लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही बीजेपी में कई राज्यों से चुनाव नतीजों को लेकर आवाज उठ रही है। कई जगहों पर लोकसभा चुनाव में हारे हुए प्रत्याशियों ने अपनी हार के लिए पार्टी के नेताओं को ही दोषी ठहराया है।

puducherry| BJP| puducherry govt
पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन रंगासामी (Source- Facebook)

किरोड़ी लाल मीणा का इस्तीफा

ऐसा सिर्फ उत्तर प्रदेश में ही नहीं हुआ है बल्कि झारखंड सहित अन्य प्रदेशों से भी हुआ है। राजस्थान में पार्टी के वरिष्ठ नेता और कैबिनेट मंत्री डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। किरोड़ी लाल मीणा कई बार मंत्री और विधायक रहे हैं और उनके इस्तीफा देने के बाद से ही राजस्थान बीजेपी के अंदर वरिष्ठ नेताओं की सरकार से नाराजगी को लेकर खबरें जोर-शोर से चल रही हैं।

किरोड़ी लाल मीणा की नाराजगी को देखते हुए उन्हें दिल्ली बुलाया गया और यहां पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उनसे इस्तीफा देने की वजह के बारे में पूछा है। हालांकि किरोड़ी लाल मीणा पहले भी तीन बार इस्तीफा दे चुके हैं। पार्टी उन्हें मनाने की कोशिश कर रही है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो