scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

आजाद भारत को संवारने के लिए करोड़ों रुपये देने वाला ग्वालियर रियासत किसके प्रभाव में बना था हिंदू महासभा का 'गढ़'?

House of Scindias: ग्वालियर रियासत के तत्कालीन शासक जीवाजीराव सिंधिया ने राष्ट्र निर्माण में कई तरह से सहयोग किया था।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: March 22, 2024 15:55 IST
आजाद भारत को संवारने के लिए करोड़ों रुपये देने वाला ग्वालियर रियासत किसके प्रभाव में बना था हिंदू महासभा का  गढ़
जीवाजीराव ने अपने व्यक्तिगत कोष से भारत को 17 करोड़ रुपये का दान दिया था। (PC-Jaivilaspalace.in)
Advertisement

आजादी के वक्त भारत कई रियासतों में बंटा हुआ था। कई ऐसी रियासतें भी थीं जिन्हें भारत के साथ मिलाने में बहुत जतन करना पड़ा था। इस मामले में ग्वालियर रियासत एक अपवाद के रूप में सामने आया।

ग्वालियर पहला ऐसा रियासत बना, जिसका सबसे आसानी से विलय संभव हो पाया। तत्कालीन गृह सचिव वी.पी. मेनन ने इसके लिए ग्वालियर रियासत की भरपूर तारीफ की थी।

Advertisement

जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व वाली भारत की नई सरकार ने जीवाजीराव को मध्य भारत का राज्य प्रमुख नियुक्त कर दिया। रहे। यह केवल नाम मात्र का पद था, जिस पर वह मई 1948 से अक्टूबर 1956 तक रहे।

राष्ट्र निर्माण में जीवाजीराव का सहयोग

ग्वालियर रियासत के तत्कालीन शासक जीवाजीराव सिंधिया ने राष्ट्र निर्माण में कई तरह से सहयोग किया था। पहले तो ग्वालियर के भारत में विलय के साथ ही रियासत के राजकोष से 3.09 करोड़ रुपये भारत के राजकोष में चला गया।

इसके बाद जीवाजीराव ने अपने व्यक्तिगत कोष से 17 करोड़ रुपये का दान दिया, जो आज के हिसाब से 20 हज़ार करोड़ रुपये के बराबर है। ग्वालियर के शासक का यह सहयोग नए-नए आजाद हुए भारत को संवारने के लिए था।

Advertisement

रियासत के सिंहासन को मुसलमान गद्दी क्यों कहते थे?

वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक टिप्पणीकार रशीद किदवई ने मंजुल प्रकाशन से छपी अपनी किताब ‘सिंधिया राजघराना: सत्ता, राजनीति और षडयंत्रों की महागाथा’ में ग्वालियर रियासत से जुड़ी एक दिलचस्प बात लिखी है।

वह लिखते हैं, "सिंधियाओं के पूर्वजों की हिंदू परम्पराओं में गहन आस्था थी, लेकिन उनका सिंहासन मुसलमान गद्दी या मुस्लिम तख्त कहलाता था, क्योंकि पूर्ववर्ती सिंधिया शासक 1858 तक मुगल साम्राज्य के नाम पर ही शासन करते थे। सिंधियाओं की 1930 के दशक तक मुस्लिमों के प्रति सद्भावना बनी रही। इसके बाद यह रियासत हिंदू महासभा के 'एक गढ़' में बदलती चली गई। इस बदलाव में अहम भूमिका सरदार चंद्रोजीराव आंग्रे ने निभाई थी, जो सरदार सम्भाजी आंग्रे के पिता थे। सम्भाजी आंग्रे ही बाद में विजया राजे के सलाहकार बने।"

गांधी हत्या का ग्वालियर कनेक्शन क्या है?

महात्मा गांधी की हत्या (30 जनवरी, 1948) में जो बंदूक इस्तेमाल हुआ था, उसे नाथूराम गोडसे ग्वालियर से ही खरीदकर लाया था। गांधी हत्या से तीन दिन पहले यानी 27 जनवरी को गोडसे और नारायण आप्टे ग्वालियर गए थे। रात में डॉ दत्तात्रेय परचुरे के घर ठहरे। 28 जनवरी को गोडसे और परचुरे बंदूक विक्रेता जगदीश प्रसाद गोयल से मिले और इटली की बनी ऑटोमैटिक बैरेटा माउज़र खरीदी।

दिलचस्प यह है कि इस बंदूक को ग्वालियर रेजिमेंट का एक कर्नल इथियोपिया से भारत लेकर आया था। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद इस अफसर को महाराजा जीवाजीराव का एसीडी भी बनाया गया था। विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

Gwalior
विजयाराजे सिंधिया (PC-Jaivilaspalace.in)
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो