scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जो इतने मार्क्‍स भी नहीं ला सकता वो कैसा वकील बनेगा! सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई ने खार‍िज की अर्जी

एआईबीई की परीक्षा बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया के द्वारा एलएलबी की डिग्री ले चुके लॉ ग्रेजुएट्स के लिए कराई जाती है।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: July 11, 2024 14:33 IST
जो इतने मार्क्‍स भी नहीं ला सकता वो कैसा वकील बनेगा  सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई ने खार‍िज की अर्जी
सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़। (Source-PTI)
Advertisement

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को एक मामले की सुनवाई के दौरान बड़ा दिलचस्प वाकया सामने आया। सुप्रीम कोर्ट एक याचिका पर सुनवाई कर रहा था जिसमें ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन (एआईबीई) के मार्क्स में कट ऑफ की मांग की गई थी। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच इस मामले की सुनवाई कर रही थी।

Advertisement

एआईबीई की परीक्षा बार काउंसिल ऑफ़ इंडिया के द्वारा एलएलबी की डिग्री ले चुके लॉ ग्रेजुएट्स के लिए कराई जाती है। परीक्षा इस बात को सुनिश्चित करती है कि लॉ ग्रेजुएट्स को भारत में वकालत करने के लिए जरूरी कानून के नियमों की समझ हो।

Advertisement

कट ऑफ कम करने की याचिका पर सुनवाई के दौरान चंद्रचूड़ ने इस बात को महसूस किया कि अगर एआईबीई की परीक्षा में कट ऑफ को कम कर दिया जाता है तो बार को इससे अच्छे वकील मिलने में मुश्किल आएगी।

सीजेआई ने कहा कि एआईबीई की परीक्षाओं में पहले से ही सामान्य वर्ग के लिए कट ऑफ 45 और एससी-एसटी के लिए 40 है। अगर कोई इतने अंक भी नहीं ला सकता तो वह किस तरह का वकील बनेगा और आप कह रहे हैं कि इसे 40 से घटकर 35 कर दिया जाना चाहिए।

सीजेआई ने याचिका को खारिज करते हुए हल्के-फुल्के अंदाज में याचिकाकर्ता से कहा कि- पढ़ो भाई।

Advertisement

इस साल मई में एक आरटीआई के हवाले से जानकारी मिली थी कि एआईबीई की पिछले साल हुई परीक्षाओं में 50% से ज्यादा उम्मीदवार फेल हो गए थे। शिबू बाबू नाम के शख्स की ओर से यह आरटीआई लगाई गई थी और इससे जानकारी मिली थी कि एआईबीई की परीक्षा के लिए कुल 1,48,781 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था, जिनमें से 74,368 छात्र फेल हो गए और 4,700 से अधिक गैर हाजिर रहे।

Advertisement

Abhishek Manu Singhvi
अभिषेक मनु सिंघवी। (Source-PTI)

NEET UG मामले में 11 जुलाई को होगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने NEET UG मामले में सुनवाई करते हुए सोमवार को कहा था कि इस परीक्षा में पेपर लीक हुआ है और इसे खारिज नहीं किया जा सकता। अदालत ने कहा था कि वह जानना चाहती है कि पेपर लीक से कितने लोगों को फायदा हुआ है और उनके खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है।

सीजेआई चंद्रचूड़, जस्टिस मनोज मिश्रा और जस्टिस जेबी पारदीवाला की बेंच ने इस मामले में सुनवाई करने के बाद सुनवाई की अगली तारीख 11 जुलाई तय की है। शीर्ष अदालत में कई छात्रों और कोचिंग संस्थानों की ओर से NEET UG के नतीजों के खिलाफ याचिका दायर की गई है। अदालत में दायर याचिकाओं में मांग की गई थी कि 5 मई को हुई NEET UG परीक्षा को रद्द कर दिया जाए।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार, एनटीए और सीबीआई से कहा था कि वे 10 जुलाई शाम 5 बजे तक अपना हलफनामा दाखिल करें और इसे याचिकाकर्ताओं के साथ भी साझा करें।

अदालत में इससे पहले हुई सुनवाइयों के दौरान केंद्र सरकार ने कहा था कि NEET UG 2024 की परीक्षा को पूरी तरह से रद्द करने से लाखों ईमानदार उम्मीदवारों के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो जाएगी और ऐसा करना ठीक नहीं होगा।

NEET UG की परीक्षाओं को लेकर चल रहे जबरदस्त घमासान के बीच भारत सरकार ने पिछले महीने नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के महानिदेशक सुबोध सिंह को इसके महानिदेशक पद से हटा दिया था और रिटायर्ड आईएएस प्रदीप सिंह खरोला को इस पद की जिम्मेदारी सौंपी थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो