scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बड़े व‍िद्रोह का नतीजा क्‍या? 30 साल बाद बादल परिवार के बाहर जाएगी अकाली दल की कमान?

जालंधर में हुई बैठक के बाद बागी नेताओं ने ऐलान किया कि 1 जुलाई से शिरोमणि अकाली दल बचाओ आंदोलन की शुरुआत की जाएगी।
Written by: Pawan Upreti
नई दिल्ली | Updated: June 26, 2024 12:10 IST
बड़े व‍िद्रोह का नतीजा क्‍या  30 साल बाद बादल परिवार के बाहर जाएगी अकाली दल की कमान
पार्टी को फिर से खड़ा कर पाएंगे सुखबीर बादल? (Source- PTI)
Advertisement

क्या करीब 30 साल बाद शिरोमणि अकाली दल की कमान बादल परिवार से बाहर किसी दूसरे नेता के हाथों में जा सकती है? यह सवाल पंजाब में हुए एक बड़े सियासी घटनाक्रम के बाद उठा है। घटनाक्रम यह है कि शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल के खिलाफ खुली बगावत हुई है।

Advertisement

अकाली दल के पुराने पदाधिकारियों ने सुखबीर बादल से इस्तीफा देने की मांग की है और इस संबंध में बाकायदा प्रस्ताव भी पारित किया गया है।

Advertisement

इसके पीछे वजह लोकसभा चुनाव में अकाली दल के खराब प्रदर्शन को बताया गया है। अकाली दल इस लोकसभा चुनाव में सिर्फ एक सीट पर जीत हासिल कर सका है।

लोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद से ही अकाली दल के अंदर लगातार बवाल चल रहा है।

Sukhbir Singh Badal
अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल। (Source- SukhbirSinghBadal/FB)

विधायक दल के नेता मनप्रीत सिंह अयाली ने चुनाव नतीजों के बाद बागी तेवर दिखाए थे और कहा था कि जब तक पार्टी इकबाल सिंह झुंडा कमेटी की सिफारिशों को लागू नहीं करती तब तक वह पार्टी के कार्यक्रमों में भाग नहीं लेंगे। झुंडा कमेटी ने पार्टी में सुधार के लिए कुछ सिफारिशें दी थी लेकिन इन पर अमल नहीं किया गया।

Advertisement

इधर सुखबीर उधर बागी नेता जुटे

मंगलवार को अकाली दल के अंदर दो बैठकें हुईं। अकाली दल के बागी नेताओं ने जालंधर में बैठक की और इस बैठक में पार्टी के कुछ जिलों के प्रधान भी शामिल हुए। जबकि दूसरी बैठक चंडीगढ़ में पार्टी के प्रधान सुखबीर सिंह बादल की अध्यक्षता में हुई। यह बैठक लोकसभा चुनाव में अकाली दल के प्रदर्शन की समीक्षा को लेकर रखी गई थी।

शिरोमणि अकाली दल बचाओ आंदोलन की होगी शुरुआत

जालंधर में हुई बैठक के बाद बागी नेताओं ने ऐलान किया कि 1 जुलाई से शिरोमणि अकाली दल बचाओ आंदोलन की शुरुआत की जाएगी। जालंधर के गांव वडाला में आयोजित बागी नेताओं की इस बैठक में पूर्व सांसद प्रेम सिंह चंदूमाजरा, एसजीपीसी की पूर्व अध्यक्ष बीबी जगीर कौर, पूर्व मंत्री परमिंदर सिंह ढींडसा, पूर्व विधायक सिकंदर सिंह मलूका और सुरजीत सिंह रखड़ा जैसे बड़े नेता मौजूद रहे।

बागी नेताओं ने मांग की कि पार्टी के प्रधान सुखबीर सिंह बादल को पार्टी के कार्यकर्ताओं की भावनाओं को समझते हुए त्याग की भावना दिखानी चाहिए और किसी ऐसे नेता के हाथ में पार्टी की कमान सौंपनी चाहिए जो अकाली दल को मजबूत कर सके और धर्म और राजनीति के बीच संतुलन भी कायम कर सके।

अकाली दल के बागी नेताओं की बैठक में पार्टी का प्रधान पद संत समाज से जुड़े किसी बड़े चेहरे को देने पर भी विचार किया गया है।

Ravneet singh bittu Amritpal singh sarabjit singh khalsa
सरबजीत सिंह खालसा और अमृतपाल सिंह निर्दलीय ही चुनाव जीत गए हैं।

शिअद बोला- बीजेपी के द्वारा प्रायोजित हैं बागी नेता

दूसरी ओर, चंडीगढ़ में हुई शिअद की बैठक में पार्टी के प्रधान सुखबीर सिंह बादल के नेतृत्व में भरोसा जताया गया। अकाली दल ने कहा है कि यह सभी बागी नेता निराश हैं और बीजेपी के द्वारा प्रायोजित हैं। पार्टी ने कहा कि वे अकाली दल को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। सुखबीर सिंह बादल ने बैठक में कहा कि उन्होंने सभी को सम्मान दिया और पार्टी के हित से ऊपर उनके लिए कुछ भी नहीं है उनका अपना परिवार भी पार्टी के बाद है।

कब बना अकाली दल

14 दिसंबर, 1920 को एक शिअद का गठन किया गया था। इसके पीछे उद्देश्य यह बताया गया था कि गुरुद्वारों को ब्रिटिश सरकार द्वारा नियुक्त महंतों (पुजारियों) के नियंत्रण से मुक्त कराया जाएगा। शिअद के गठन से एक महीना पहले 15 नवंबर को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) का गठन हुआ था।

एसजीपीसी के पूर्व सचिव दलमेघ सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था कि ननकाना साहिब में मत्था टेकते समय एक डिप्टी कमिश्नर की बेटी के साथ छेड़छाड़ की घटना हुई थी और इस वजह से लोगों में गुस्सा था। तब यह मांग उठी थी कि गुरुद्वारों को महंतों से मुक्त कराया जाना चाहिए।

शिअद ने इसके खिलाफ संघर्ष छेड़ा और यह चार साल तक चला। इस दौरान महंतों और ब्रिटिश प्रशासन के हमलों में 4,000 लोगों की मौत हुई थी। आखिरकार सिख गुरुद्वारा एक्ट 1925 बनाया गया और सभी गुरुद्वारे एसजीपीसी के नियंत्रण में आ गए।

अकाली दल ने देश की आजादी से पहले कांग्रेस के साथ भी गठबंधन किया था। पूर्व अकाली नेता मास्टर तारा सिंह की पोती किरनजोत कौर ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था कि शिअद के नेता मास्टर तारा सिंह की वजह से ही बंटवारे के दौरान पंजाब के आधे हिस्से को पाकिस्तान में जाने से रोका गया था।

RAHUL GANDHI NAREDNRA MODI
फिर होगी जोरदार सियासी लड़ाई। (Source-PTI)

पंजाबी सूबा आंदोलन

दिसंबर, 1953 में जब भारत सरकार द्वारा राज्य पुनर्गठन आयोग बनाया गया तो अकाली दल ने अलग पंजाबी सूबा बनाने की मांग उठाई। 1956 में संत फतेह सिंह के नेतृत्व में अकाली दल ने पंजाबी सूबा आंदोलन शुरू किया, जिसमें हजारों कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी।

अकाली दल ने 1962 और 1965 की लड़ाई के दौरान पंजाबी सूबा आंदोलन को रोक दिया था और युद्ध में भाग लिया था। एक लंबे संघर्ष के बाद केंद्र की गुलजारी लाल नंदा सरकार को झुकना पड़ा और 1 नवंबर, 1966 को पंजाब अलग राज्य बना।

अकाली दल को टूट का शिकार भी होना पड़ा और 90 के दशक में प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व में नरमपंथी विचारधारा वाले कई नेता एक तरफ आ गए जबकि कट्टरपंथी नेताओं ने अकाली दल (अमृतसर) नाम का दल बना लिया।

Charanjit Singh Channi Bhagwant Mann
उपचुनाव पर है मुख्यमंत्री भगंवत मान का फोकस। (Source-FB)

1995 में सरदार प्रकाश सिंह बादल अकाली दल के प्रधान बने और 2008 तक उन्होंने ही यह पद संभाला। 2008 से उनके बेटे सुखबीर सिंह बादल अकाली दल के प्रधान का पद संभाल रहे हैं।

अकाली दल के अब तक रहे अध्यक्ष

अध्यक्ष का नाम
1सरमुख सिंह झबल
2खड़क सिंह
3मास्टर तारा सिंह
4गोपाल सिंह कौमी
5तारा सिंह ठेठर
6तेजा सिंह अकरपुरी
7बाबू लाभ सिंह
8उधम सिंह नागोके
9ज्ञानी करतार सिंह
10प्रीतम सिंह गोजराँ (गुजराँ संगरूर)
11हुकम सिंह
12फ़तेह सिंह
13अचर सिंह
14भूपिंदर सिंह
15मोहन सिंह तूर
16जगदेव सिंह तलवंडी
17हरचंद सिंह लोंगोवाल
18सुरजीत सिंह बरनाला
19प्रकाश सिंह बादल
20सुखबीर सिंह बादल

अकेला रह गया अकाली दल

पंजाब में 1996 से लेकर 2019 तक शिअद और भाजपा मिलकर विधानसभा के चुनाव लड़ते रहे। इन दोनों दलों ने 2007 से 2017 तक पंजाब में मिलकर सरकार भी चलाई लेकिन कृषि कानूनों के मुद्दे पर शिअद ने बीजेपी से नाता तोड़ लिया। इसके बाद शिअद ने 2022 के विधानसभा चुनाव में बसपा के साथ गठबंधन किया लेकिन उसे इसका कोई फायदा नहीं मिला। जबकि 2019 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले बीजेपी का वोट शेयर दोगुना हो गया है।

गिरता गया अकाली दल का वोट शेयर

सालअकाली दल को मिले वोट (प्रतिशत में)
2012 विधानसभा चुनाव34.73%
2014 लोकसभा चुनाव26.4%
2017 विधानसभा चुनाव25.4%
2019 लोकसभा चुनाव27.45%
2022 विधानसभा चुनाव18.38%
2024 लोकसभा चुनाव13.42%

बीजेपी का वोट शेयर हुआ दोगुना

सालबीजेपी को मिले वोट (प्रतिशत में)
2019 लोकसभा चुनाव9.63%
2022 विधानसभा चुनाव6.60%
2024 लोकसभा चुनाव18.56%

अकाली दल ने इस बार लोकसभा चुनाव सभी 13 सीटों पर पूरी ताकत के साथ लड़ा। लेकिन उसे सिर्फ बठिंडा सीट पर ही जीत मिली। बठिंडा सीट से सुखबीर सिंह बादल की पत्नी और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल चुनाव जीती हैं। लेकिन यहां पर भी अकाली दल का वोट शेयर लगातार गिरता जा रहा है।

akali dal
बठिंडा में अकाली दल का वोट शेयर।

सुखबीर के साथ खड़ी है पार्टी: हरसिमरत 

अकाली दल में शुरू हुए इस विद्रोह को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल का कहना है कि पार्टी पूरी तरह एकजुट है और सुखबीर सिंह बादल के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के कुछ पिट्ठू अकाली दल को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं और वे वैसा ही करना चाहते हैं जैसा उन्होंने महाराष्ट्र में किया था।" उन्होंने कहा कि 117 नेताओं में से केवल 5 नेता सुखबीर बादल के खिलाफ हैं जबकि 112 नेता पार्टी और सुखबीर बादल के साथ खड़े हैं।

सुखबीर बादल के सामने चुनौतियों का अंबार

पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में जिस तरह का प्रदर्शन अकाली दल का रहा है उसके बाद निश्चित रूप से सुखबीर बादल के सामने बड़ा सवाल यह है कि क्या वह फिर पार्टी को खड़ा कर पाएंगे।

इस लोकसभा चुनाव में सुखबीर सिंह बादल ने पूरी ताकत लगाई लेकिन 2019 में वह जिस फिरोजपुर सीट से चुनाव जीते थे, वहां भी इस बार अकाली दल को जीत नहीं दिला सके। ऐसे वक्त में जब अकाली दल बेहद खराब दौर से गुजर रहा है और पार्टी के बड़े नेताओं ने खुलकर बगावत कर दी है तो देखना होगा कि सुखबीर सिंह बादल इन चुनौतियों से किस तरह निपटेंगे?

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो