scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मोतीलाल नेहरू की बेटी ने मुस्लिम लड़के से कर ली थी गुपचुप शादी, महात्मा गांधी ने करवाया था अलग

सैयद हुसैन को लेकर मोतीलाल नेहरू और उनकी बेटी में तनाव इतना बढ़ गया था कि स्वरूप रानी को महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम भेजना पड़ा था।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: February 06, 2024 18:51 IST
मोतीलाल नेहरू की बेटी ने मुस्लिम लड़के से कर ली थी गुपचुप शादी  महात्मा गांधी ने करवाया था अलग
बाएं से- मोतीलाल नेहरू, सैयद हुसैन और विजयलक्ष्मी पंडित
Advertisement

Motilal Nehru Death Anniversary 2024: अपने ज़माने में देश के सबसे अमीर और सबसे सफल वकीलों में से एक मोतीलाल नेहरू कथित तौर पर रूढ़िवादी हिंदू परंपरा में विश्वास नहीं करते थे। जैसे- उन्हें किसी भी मुस्लिम दोस्त के घर खाना खाने या उनके गिलास से पानी पीने में कोई परेशानी नहीं थी। जबकि उस वक्त रूढ़िवादी हिंदू अपने मुस्लिम मित्रों के यहां का पान तक स्वीकार नहीं करते थे, जब तक कि वह पान किसी हिंदू नौकर के हाथों पेश न किया गया हो।

मोतीलाल नेहरू का पालन-पोषण एक रूढ़िवादी कश्मीरी ब्राह्मण के रूप में हुआ था। उन्होंने अपने ही समुदाय की एक रूढ़िवादी महिला से शादी की थी। लेकिन बाद में उन्होंने प्रतिशोध की भावना से आधुनिक जीवनशैली अपना ली। इलाहाबाद में उनका विशाल घर 'आनंद भवन' भारतीय और पश्चिमी भागों में विभाजित था। आनंद भवन को एक एंग्लो-इंडियन हाउसकीपर द्वारा चलाया जाता था, जिसकी सहायता ईसाई और मुस्लिम नौकर करते थे।

Advertisement

बेटियों को अंग्रेजी तौर-तरीके से पाला

बदलते समय को ध्यान में रखते हुए मोतीलाल नेहरू ने अपनी दोनों बेटियों (कृष्णा नेहरू और विजयलक्ष्मी पंडित) के लिए एक अंग्रेजी गवर्नेस (एक तरह की केयर टेकर या दाई, जिसका काम दोनों लड़कियों को पढ़ाना और ख्याल रखना था) को काम पर रखा। मोतीलाल नेहरू अपनी बेटियों को गर्मियों में तीन या चार महीनों के लिए 'हिल स्टेशनों' पर ले गए थे, जहां लड़कियों ने अंग्रेजी शैली के रिसॉर्ट्स की सुविधाओं का आनंद लिया, घुड़सवारी की। वहां मोतीलाल नेहरू उन्हें मेहमानों के साथ घुलने-मिलने के लिए कहते। तब नेहरू के पिता उन लोगों पर हंसते थे, जिन्होंने भविष्यवाणी की थी कि बेटियों को 'अंग्रेजों के असभ्य तरीके से' बड़ा करने पर उनका भविष्य बुरा होगा।

मोतीलाल नेहरू हमेशा से ही भव्य पैमाने पर मनोरंजन करने का शौक रखते थे, लेकिन जब उनके बच्चे छोटे थे, तब उन्होंने राजनीति की ओर रुख कर लिया था और 'आनंद भवन' राष्ट्रीय राजनीति का केंद्र बन गया था। घर में ज्यादातर राजनीतिक मेहमान यानी नेता ही आने-जाने लगे। उनमें से एक ऐसा भी था जो कमोबेश आनंद भवन में स्थायी रूप से रहा, नाम था- सैयद हुसैन। वह नव स्थापित अखबार 'इंडिपेंडेंट' के संपादक थे।

नेहरू ने चालू किया नया अखबार, संपादक को घर में दी जगह

जिन्ना और उनकी पत्नी पर किताब (मिस्टर और मिसेज़ जिन्ना) लिखने वाली शीला रेड्डी लाइव मिंट के एक आर्टिकल में लिखती हैं, "सैयद हुसैन उन 'उग्र प्रगतिवादियों' में से एक थे, जिनका रूटी (जिन्ना की पत्नी) और उनके दोस्त अक्सर उल्लेख करते थे। ऑक्सफोर्ड से पढ़े हुसैन कमाल की अंग्रेजी बोलते थे। वे न केवल मुसलमानों की पुरानी शैली (लंबी दाढ़ी और टोपी) और धार्मिक कट्टरता से शर्मिंदा थे, बल्कि उग्र राष्ट्रवादी भी थे। यह हुसैन की देशभक्ति की भावना ही थी जिसने सबसे पहले मोतीलाल का ध्यान खींचा, जब वह अपने अखबार को लॉन्च करने के लिए एक संपादक की तलाश कर रहे थे। नेहरू ने अपने मित्र बीजी हॉर्निमन, जो भारत समर्थक अंग्रेज और बॉम्बे क्रॉनिकल के संस्थापक संपादक थे, की मदद से सैयद हुसैन को चुना था।" इंग्लैंड में सात साल रहने बाद भारत लौटे सैयद हुसैन बॉम्बे क्रॉनिकल में उप संपादक थे।  

Advertisement

अलीगढ़ विश्वविद्यालय में पढ़ाई के बाद सैयद लॉ पढ़ने इंग्लैंड गए थे। सबको लगा बैरिस्टर बनकर लौटेंगे, लेकिन पत्रकार बनकर वापस आए। उनका कद 5 फीट 10 इंच लंबा था। वह साफ-सुथरे और अच्छे कपड़े पहनने के शौकीन थे। नेहरू के अखबार का दफ्तर आनंद भवन में ही था। नौकरी मिलने के बाद उन्हें इलाहाबाद में एक बैचलर की तरह रहना था। लेकिन नाजुक ढंग से पले-बढ़े होने के कारण सैयद हुसैन का इस तरह रहना मुश्किल हो गया। वह बीमारी से जूझने लगे। ऐसे में मोतीलाल नेहरू ने उन्हें आनंद भवन में ही रहने के लिए आमंत्रित कर लिया।

Advertisement

बड़ी बेटी को मुस्लिम संपादक से हुआ प्यार

यह कल्पना करना कठिन है कि मोतीलाल जैसा चतुर व्यक्ति और एक ऐसा पिता जिसने अपने युवा बेटे (जवाहरलाल नेहरू) को विदेश में पढ़ाई के दौरान किसी भी अंग्रेज लड़की के साथ संबंध न बनाने की चेतावनी थी, उसने इतनी लापरवाही से एक जवान और आकर्षक लड़के को अपनी बेटी के आप-पास कैसे रहने दिया।

तब नेहरू की बड़ी बेटी स्वरूप रानी (शादी के बाद उनका नाम विजयलक्ष्मी पंडित हो गया) 19 साल की थीं। खूबसूरत किशोरी को घर में सब नान कहकर बुलाते थे। आनंद भवन में रहने के कारण सैयद को नेहरू परिवार से घुलने-मिलने का मौका मिला। इसी दौरान नान उनकी तरफ खींची चली गईं। वह नान से 12 साल बड़े थे। लेकिन उम्र का अंतर दोनों के प्रेम में बाधा न बन सका।  

अलग-अलग दस्तावेजों से इस बात की पुष्टि होती है कि दोनों ने गुपचुप तरीके से मुस्लिम रीति-रिवाज से शादी कर ली थी। जब तक मोतीलाल को पता चला कि उसकी अपनी छत के नीचे क्या चल रहा है, तब तक वे पहले ही गुप्त रूप से शादी कर चुके थे, जैसा कि सैयद हुसैन ने बाद में अपनी अच्छी दोस्त और एकमात्र हमदर्द सरोजनी नायडू के सामने कबूल किया।

दोनों को अलग करने के लिए मोतीलाल नेहरू ने गांधी की ली मदद

मोतीलाल ने इस 'संकट' की घड़ी में महात्मा गांधी को याद किया, जिनकी मदद से कुछ ही दिनों में सैयद हुसैन इलाहाबाद से और कुछ ही हफ्तों में देश से बाहर हो गए। उन्हें यूरोप में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल के सदस्य के रूप में विदेश भेज दिया गया। विदेश दौरा पहले से तय था लेकिन गांधी ने इस मौके का फायदा उठाते हुए सैयद से अनुरोध किया कि वह मामला ठंडा पड़ने तक इंग्लैंड में ही रहें।

सैयद और स्वरूप रानी को कम से कम शोर-शराबे में अलग होने के लिए मना लिया गया। बाद में मोतीलाल नेहरू की बड़ी बेटी ने याद किया, "एक ऐसे युग में जब हिंदू-मुस्लिम एकता के नारे लगाए जाते थे, और मैं एक ऐसे परिवार से संबंधित थी जिसके करीबी मुस्लिम दोस्त थे, मैंने सोचा होगा कि अपने धर्म के बाहर शादी करना बिल्कुल स्वाभाविक होगा। लेकिन शादी जैसे मामलों में वह समय बेहद पारंपरिक था।"

गांधी के यहां भेजी गईं स्वरूप रानी

विजयलक्ष्मी पंडित की छोटी बहन कृष्णा नेहरू ने एक पत्र में लिखा था कि "उनके पिता को वह लड़का लायक नहीं लगा।" पिता और बेटी में तनाव इतना बढ़ गया कि नान को महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम भेज दिया गया। कृष्णा नेहरू के मुताबिक, "गांधीजी के प्रयासों के बाद छह महीनों में नान और पिताजी के बीच संबंध सामान्य हो पाए थे।"

नान के लिए आश्रम का अनुभव बहुत अच्छा नहीं था। शीला रेड्डी लिखती हैं, "पांच साल की उम्र से एक अंग्रेजीदां गवर्नेस द्वारा पाली गई लड़की के लिए पहला सबक आश्रम ही था। आश्रम में जीवन वैसा नहीं था जिसकी वह आदी थी। भोजन उनकी लाइफस्टाइल से अलग था - कोई चाय या कॉफी नहीं, दिन में केवल दो बार भोजन और भोजन में सब्जी और चावल।"

विजयलक्ष्मी पंडित ने लिखा है, "बगीचे में उगाई गई कई सब्जियों को एक साथ स्टीम कुकर में बिना नमक, मसाले या मक्खन के डाला जाता था और उसके साथ घर की बनी चपाती या बिना पॉलिश किया हुआ चावल खाया जाता था। इस सब का एक मात्र उद्देश्य 'किसी की भोजन की इच्छा को मारना' प्रतीत होता है।"

विजयलक्ष्मी पंडित ने लिखा है, "जब मैंने पहली बार उस जगह को देखा तो मेरा दिल टूट गया। सब कुछ नीरस और देखने में अप्रिय था। मुझे आश्चर्य हुआ कि मैं वहां कितने समय तक जीवित रह सकती हूं। सुबह 4 बजे प्रार्थना के लिए उठकर, हम दिन के कामों में लग जाते थे, जिसमें हमारे रहने के क्वार्टर में झाड़ू लगाना और साफ-सफाई करना, नदी में अपने कपड़े धोना शामिल था। …डेयरी में काम करना होता था और रोजाना कताई करनी होती थी।" हर तरह की विलासिता की आदी लड़की को दी जाने वाली एक मात्र रियायत में शौचालयों की सफाई से छूट थी।

शाम 6 बजे प्रार्थना के एक और दौर के बाद जल्दी सो जाना होता था क्योंकि आश्रम में केवल लालटेन थे, और उनकी टिमटिमाती बत्तियों की रोशनी में पढ़ना आसान नहीं था। गांधी, नेहरू की बेटी से हिंदू संस्कृति के बारे में बात करते और उन्हें गीता और रामायण पढ़कर उनके औपचारिक धार्मिक प्रशिक्षण में कमियों को भरने की कोशिश करते थे।

गांधी अक्सर नेहरू की बेटी को व्याख्यान देते। गांधी के ऐसे कई व्याख्यानों को विजयलक्ष्मी पंडित ने दर्ज किया है। एक बार गांधी ने उन्हें मुसलमानों को भाई की नजर से देखने की सलाह देते हुए कहा था, "स्वरूप, अगर मैं आपकी जगह होता तो खुद को सैयद हुसैन के प्रति मित्रता के अलावा किसी भी तरह की भावना रखने की अनुमति कभी नहीं देता। फिर, अगर सैयद ने कभी मेरे प्रति प्रशंसा दिखाने की कोशिश की होती या मेरे प्रति प्रेम का इज़हार किया होता, तो मैंने उससे धीरे से लेकिन बहुत दृढ़ता से कहा होता- सैयद, आप जो कह रहे हैं वह सही नहीं है। आप मुसलमान हो और मैं हिंदू हूं। हमारे बीच कुछ भी हो ये ठीक नहीं है। तुम मेरे भाई बनोगे, लेकिन एक पति के रूप में मैं तुम्हारी ओर कभी आंख उठा कर भी नहीं देख सकती।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो