scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लोगों की सेहत पर लगातार घट रहा मोदी सरकार का खर्च, नए स्वास्थ्य मंत्री नड्डा देंगे ध्यान?

केंद्र को जितना पैसा खर्च करना चाहिए था उसने नहीं किया लेकिन राज्यों ने जितना खर्च करना था उससे ज्यादा खर्च किया है।
Written by: Pawan Upreti
नई दिल्ली | Updated: June 22, 2024 21:00 IST
लोगों की सेहत पर लगातार घट रहा मोदी सरकार का खर्च  नए स्वास्थ्य मंत्री नड्डा देंगे ध्यान
स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा। (Source- JagatPrakashNadda/FB)
Advertisement

2017 में लाई गई नेशनल हेल्थ पॉलिसी में सिफारिश की गई थी कि 2025 तक सार्वजनिक स्वास्थ्य पर जीडीपी का 2.5% खर्च किया जाएगा। इसके बाद 2018 में केंद्र और राज्यों द्वारा अगले सात सालों में स्वास्थ्य पर सार्वजनिक खर्च को जीडीपी के 1.4% से 2.5% तक धीरे-धीरे बढ़ाने का रोडमैप भी दिया गया।

Advertisement

इस तरह भारत सरकार को स्वास्थ्य (साफ पानी और सफाई को मिलाकर) पर साल 2024-25 तक जीडीपी का 2.5% तक खर्च करना था, सरकार इस लक्ष्य तक पहुंचती भी दिख रही है लेकिन केंद्र सरकार को जो पैसा खर्च करना था, वह जीडीपी के 0.8% तक भी नहीं पहुंच सका।

Advertisement

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के द्वारा की गई रिसर्च से पता चलता है कि स्वास्थ्य को लेकर केंद्र को जितना पैसा खर्च करना चाहिए था उसने नहीं किया लेकिन राज्यों ने जितना खर्च करना था उससे ज्यादा खर्च किया है। राज्य स्वास्थ्य (चिकित्सा और सार्वजनिक स्वास्थ्य, परिवार कल्याण और जल आपूर्ति और स्वच्छता) पर अपना खर्च बढ़ा रहे हैं।

Ayushman Bharat yojana | Private hospitals | South India |
आयुष्मान भारत मोदी सरकार की प्रमुख स्वास्थ्य बीमा योजना है।

2023-24 तक राज्यों के द्वारा स्वास्थ्य के लिए दिया गया धन जीडीपी के 1.25% से बढ़कर 1.58% हो गया। राज्यों के कुल खर्च में स्वास्थ्य पर होने वाला खर्च 2018-19 में 7.5% से बढ़कर 2023-24 में 8.8% हो गया है, जो नेशनल हेल्थ पॉलिसी 2017 में राज्यों के लिए तय किए गए 8% के लक्ष्य से अधिक है और इसी के जरिये स्वास्थ्य पर खर्च वाले जीडीपी के 2.5% के लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है।

Advertisement

केंद्र सरकार ने कितना कम खर्च किया

सालजीडीपी का कितना खर्च करना था (प्रतिशत में)अगर खर्च किया होता तोकितना खर्च कियाकितना बचा
2018-190.4992,60974,64717,961
2019-200.4998,36784,30614,061
2020-210.551,09,49998,78810,711
2021-220.621,45,3601,53,081-7,721
2022-230.691,86,7611,37,83548,926
2023-240.782,28,3581,60,45067,908
8,60,9547,09,1081,51,846
कई सालों के बजट दस्तावेजों के मुताबिक।

राज्यों ने कितना ज्यादा खर्च किया

सालजीडीपी का कितना खर्च करना था (प्रतिशत में)इतना खर्च करना थाकितना खर्च कियाकितना ज्यादा खर्च किया
2018-190.911,71,9862,35,56863,581
2019-200.911,82,6812,34,94052,529
2020-211.032,03,3552,73,30669,950
2021-221.142,69,9543,40,80170,847
2022-231.293,46,8424,11,58064,738
2023-241.444,24,0924,65,16041,066
15,98,91319,61,3553,62,442

सरकार के मुताबिक, स्वास्थ्य पर होने वाले खर्च में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, स्वास्थ्य अनुसंधान, आयुष और जल आपूर्ति और स्वच्छता के लिए दिया गया पैसा शामिल है। इसके अनुसार, स्वास्थ्य के लिए केंद्र ने 2023-24 में जीडीपी का सिर्फ 0.55% धन आवंटित किया था और इसमें से भी 48% जल आपूर्ति और स्वच्छता के लिए था।

Advertisement

केंद्र के बजट में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के लिए आवंटित धन का हिस्सा घटकर जीडीपी का 0.26% हो गया है, जो 2018-19 में आवंटित धन (0.28%) से भी कम है।

2014 के बाद से अब तक केंद्र में बने स्वास्थ्य मंत्री

स्वास्थ्य मंत्री का नामकब सेकब तक
हर्ष वर्धन26 मई, 20149 नवंबर, 2014
जगत प्रकाश नड्डा9 नवंबर, 201428 मई, 2019
हर्ष वर्धन31 मई, 20197 जुलाई, 2021
मनसुख मंडाविया8 जुलाई, 2021मई, 2024
जगत प्रकाश नड्डा11 जून, 2024

आयुष्मान भारत योजना

योजना का भारत सरकार ने पिछले कुछ सालों में काफी प्रचार किया है। केंद्र सरकार द्वारा हेल्थ केयर पर कम खर्च करने के कारण शुरुआत में इस योजना के कार्यान्वयन में दिक्कत आयी थी। सीएजी ने बताया था कि आयुष्मान भारत के लगभग 7.5 लाख लाभार्थी एक ही सेलफोन नंबर – 9999999999 से जुड़े हुए हैं।

BJP, Congress
पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे के मास्क से लेकर यूएसबी मोबाइल चार्जर तक - गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने भाजपा के राज्य प्रमुख सी आर पाटिल के साथ मंगलवार (23 अप्रैल) को गांधीनगर में पार्टी मुख्यालय में लोकसभा चुनाव से पहले कई प्रचार सामग्री लॉन्च की। (Express photo by Nirmal Harindran)

आयुष्मान भारत योजना का विस्तार करने पर फोकस

नड्डा ने स्वास्थ्य मंत्रालय संभालने के बाद अपनी पहली बैठक में कहा था कि आयुष्मान भारत योजना का विस्तार करना, नेशनल हेल्थ क्लेम्स एक्सचेंज को लॉन्च करने के साथ ही युवाओं में बढ़ रहे तंबाकू के नशे के खिलाफ विशेष अभियान चलाना स्वास्थ्य मंत्रालय के टॉप एजेंडे में है। नड्डा ने पहली बैठक में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के विस्तार पर भी जोर दिया था।

बीते दिनों जब गर्मी और हीटवेव के कारण देश भर में बड़ी संख्या में लोगों के मरने की खबर आई तो स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने सभी अस्पतालों और मेडिकल संस्थानों को निर्देश दिया कि हीट वेव से प्रभावित लोगों का प्राथमिकता से इलाज किया जाना चाहिए। उन्होंने केंद्र सरकार के अंदर आने वाले अस्पतालों में विशेष स्पेशल हीट वेव यूनिट को शुरू करने का भी निर्देश दिया था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो