scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पैसों की थी तंगी, साहिर लुधियानवी ने गज़लकार को वेतन के बदले दे दिया था अपना गर्म कोट

Sahir Ludhianvi Birth Anniversary: साहिर लुधियानवी का जन्म 8 मार्च, 1921 को एक जागीरदार परिवार में हुआ था।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: March 08, 2024 18:06 IST
पैसों की थी तंगी  साहिर लुधियानवी ने गज़लकार को वेतन के बदले दे दिया था अपना गर्म कोट
गैर-बराबरी के खिलाफ साहिर के व्यक्तित्व और कृतित्व में कोई भेद न था। (Express archive photo)
Advertisement

इश्क और इंकलाब के शायर साहिर लुधियानवी न सिर्फ अधिकारों की बात करते थे, बल्कि अधिकारों की रक्षा के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश भी करते थे।

साल 1946 में लाहौर में रहने के दौरान साहिर ने साहित्यिक क्षेत्र में बहुत नाम कर लिया था। साहिर "साकी" नाम से एक उर्दू पत्रिका प्रकाशित करते थे। लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति बहुत ख़राब थी। इस कारण पत्रिका घाटे में चल रही थी। फिर भी, साहिर यह सुनिश्चित करते थे कि पत्रिका में प्रकाशित होने वाले सभी रचनाओं के रचनाकारों को को उनका उचित मेहनताना समय से मिल जाए।

Advertisement

आउटलुक हिंदी ने मनीष पाण्डेय ने साहिर से जुड़ा एक किस्सा लिखा है, जिसके मुताबिक साहिर ने एक रचनाकार को पैसों के बदले अपना कोट दे दिया था।

यह बात उन दिनों की है, जब साहिर पत्रिका के लिए लिखने वाले गजलकार शमा लाहौरी को समय पर मेहनताना नहीं भेज सके थे। शमा लाहौरी को पैसों की सख्त जरूरत थी। वह ठंड की एक शाम कांपते हुए साहिर के दरवाजे पर पहुंच गए। साहिर ने उन्हें अंदर बुलाया और चाय पिलाई।

तब लाहौरी को ठंड लगनी थोड़ी कम हुई तो उन्होंने पैसों की बात की। साहिर के पास तो पैसे थे। वह कुछ देर चुप बैठे रहे। फिर उठे और खूंटी पर टंगा अपना गर्म कोट उठा लाए। यह कोट उनके एक फैन उन्हें कुछ दिन पहले ही दी थी।

Advertisement

मनीष पाण्डेय के लेख मुताबिक, साहिर ने लाहौरी को कोट देते हुए कहा, ठमेरे भाई बुरा न मानना, इस बार नक़द देने के लिए मेरे पास कुछ नहीं है, यही है जो मैं आपको दे सकता हूं।" साहिर की बात सुनकर लाहौरी भावुक हो गए और उनकी आंखों से आंसू छलक गए।

Advertisement

कैफी आज़मी की साहिर से पहली मुलाकात

साहिर के दोस्त और कवि कैफी आजमी ने उन्हें याद करते हुए कहा था, "साहिर से मेरी पहली मुलाकात हैदराबाद स्टेशन पर हुई थी। बातचीत के बाद मुझे एहसास हुआ कि साहिर की जिंदगी ज्यादा अलग नहीं थी। साहिर अभी किशोरावस्था में ही थे जब उनके माता-पिता का रिश्ता टूट गया। साहिर की शिक्षा का ख्याल उनकी मां और मामू ने उठाया था। ऐसा लगता है मानो साहिर ने शायरी के हर पहलू को आत्मसात कर लिया हो। बम्बई में साहिर ने अपने लिए नहीं बल्कि अपने दोस्तों के लिए पैसा कमाया। साहिर ने कभी शादी नहीं की। विवाह के लिए संतुलन की आवश्यकता होती है। उनके जीवन में तीन-चार ऐसी मौके आए जब शादी की बात चल रही थी लेकिन वे हर बार बच निकले।"

साहिर का बचपन

साहिर लुधियानवी का जन्म 8 मार्च, 1921 को एक जागीरदार परिवार में हुआ था। वह चौधरी फ़जल मुहम्मद की ग्यारहवीं पत्नी बीवी सरदार बेगम की की पहली संतान थे। हालांकि, चौधरी फजल मुहम्मद ने बीवी सरदार बेगम को सार्वजनिक रूप से अपनी पत्नी स्वीकार नहीं किया था।

साहिर के जन्म के बाद उनकी मां चाहती थीं कि चौधरी उनके रिश्ते को औपचारिक रूप दें ताकि भविष्य में विरासत को लेकर कोई विवाद पैदा न हो। लेकिन साहिर के पिता तैयार नहीं हुए। ऐसे में बीवी सरदार बेगम अलग हो गईं। साहिर किसके पास रहेंगे इसे लेकर मुकदमा चला। साहिर का बचपन ननिहाल में गुजरा।

कॉलेज फंक्शन में मंच से अंग्रेज अफसरों को ललकारा, इंकलाबी साहिर को कांग्रेस नेता की बेटी से हुआ प्यार तो लिखने लगे इश्क के नगमे

विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

Sahir Ludhianvi | AISf
बाएं से- साहिर लुधियानवी और अमृता प्रीतम (Express archive photo)
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो