scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

चुनावी किस्सा: कांग्रेस अध्‍यक्ष के चुनाव में रिकॉर्ड बनाने के ल‍िए क‍िसने रची थी घपले की साज‍िश?

जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद ने अपनी क‍िताब 'आजाद' में वह किस्सा बताया है जब उन्‍होंने सीताराम केसरी की एक गलत मदद करने के बदले में पद देने की पेशकश ठुकरा दी थी।
Written by: shrutisrivastva
नई दिल्ली | May 02, 2024 08:37 IST
चुनावी किस्सा  कांग्रेस अध्‍यक्ष के चुनाव में रिकॉर्ड बनाने के ल‍िए क‍िसने रची थी घपले की साज‍िश
गुलाम नबी आजाद ने अपनी क‍िताब 'आजाद' में वह वाकया बयां क‍िया है जब उन्‍होंने सीता राम केसरी की गलत रूप से मदद करने के एवज में पद देने की पेशकश ठुकरा दी थी।
Advertisement

कांग्रेस के पूर्व नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने अपनी आत्मकथा 'आजाद' में अपने निजी और राजनीतिक जीवन से जुड़े कई रोचक किस्सों का वर्णन किया है। ऐसा ही एक किस्सा सीताराम केसरी के उस सपने का है जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने गुलाम नबी को भी एक ऑफर दिया था।

Advertisement

गुलाम नबी लिखते हैं, "एक शाम जब मैं अपने AICC कार्यालय में था सीताराम केसरी चाय के लिए मेरे पास आये। मैंने कहा कि उन्हें मुझे अपने रूम रूम में बुला लेना चाहिए था। उन्होंने जवाब दिया कि हम सब सहकर्मी हैं।"

Advertisement

कौन सा मुद्दा लेकर गुलाम नबी के पास आए थे केसरी?

पूर्व कांग्रेस नेता आगे लिखते हैं, "करीब 10 मिनट तक इधर-उधर की बात करने के बाद केसरी मुद्दे पर आये। उन्होंने मुझसे उन सदस्यों को बहाल करने के लिए कहा जिन्हें मैंने फर्जी और अमान्य घोषित कर दिया था। मैं हैरान था क्योंकि मुझे उनसे ऐसे निर्देश की उम्मीद नहीं थी। वह कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अब तक हुए चुनाव के इतिहास में सबसे अधिक मतों से विजयी होना चाहते थे। इसके लिए उन्हें यूपी से अधिकतम संख्या में अपने लोगों को एआईसीसी और पीसीसी सदस्य बनाने की आवश्यकता होगी, क्योंकि उस राज्य में जनसंख्या के आधार पर अन्य राज्यों की तुलना में एआईसीसी/पीसीसी सदस्यों की संख्या सबसे अधिक थी।"

जीत का रिकॉर्ड बनाना चाहते थे सीताराम केसरी

गुलाम नबी किताब में लिखते हैं, "अपने सपने को मेरे साथ साझा करते हुए उन्होंने कहा कि अगर मैंने इस काम में उनकी मदद की तो उनकी पसंद के पीसीसी सदस्य चुने जाएंगे और बदले में मुझे पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया जाएगा। मैं स्तब्ध, आहत और क्रोधित था।"

नबी लिखते हैं, "मैं चिल्लाया, लानत है उस दिन पर जिस दिन मैंने आप को गांधीवादी समझ कर आप का नाम सीडब्ल्यूसी में अध्यक्ष के लिए प्रस्तावित किया था। मेरा मानना ​​था कि गांधीवादी होने के नाते आप पर्सनल और प्रोफेशनल ईमानदारी बरकरार रखेंगे लेकिन आप रिकॉर्ड अंतर से जीत हासिल करने के लिए गलत तरीकों का इस्तेमाल करना चाहते हैं। ताकि जीत का मार्जिन नेहरू, पटेल, मौलाना आजाद और इंदिरा जी जैसों द्वारा हासिल की गई जीत से भी ज्यादा हो। जब आपकी जीत निश्चित है तो ऐसी चालाकी की जरूरत कहां है?"

Advertisement

गुलाम नबी का गुस्सा देख कमरा छोड़कर चले गए केसरी

आत्मकथा में गुलाम नबी लिखते हैं, "वह मेरे उत्तर से अचंभित रह गए। मैंने कहा कि आपने पार्टी में ऊंचे पद का लालच देकर मुझे रिश्वत देने का दुस्साहस किया है। केसरी चिंतित थे कि गलियारे में बाहर के लोग शोर सुनेंगे। उन्होंने मुझे शांत करने की कोशिश की और कमरे से बाहर चले गये। पीछे मुड़कर देखता हूं तो सोचता हूं कि मुझे अपना आपा नहीं खोना चाहिए था और केसरी जैसे बुजुर्ग व्यक्ति के साथ इतना अभद्र व्यवहार नहीं करना चाहिए था, जिनके साथ मुझे स्नेह और सम्मान था और जिसने हमेशा दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार किया।"

जब तूफान में फंसी थी गुलाम नबी की फ्लाइट

गुलाम नबी बताते हैं, "कुछ दिनों बाद मुझे एक पार्टी कार्यक्रम के लिए अहमदाबाद जाना पड़ा। दिल्ली वापस लौटते समय मेरी फ्लाइट तूफान में फंस गयी और तेजी से नीचे गिरने लगी। मुझे लगा कि अंत आ गया है, ऐसा लग रहा था जैसे मैं मौत को करीब से देख रहा हूं। मैं मौत से नहीं डरता था लेकिन मेरे मन में बुरे विचार आने लगे।"

यह भयानक किस्सा साझा करते हुए नबी लिखते हैं, "मैं स्पॉन्डिलाइटिस और स्लिप्ड डिस्क की समस्या से जूझ रहा था। हालांकि, पायलटों ने बहुत अच्छा काम किया और हम अंततः दिल्ली में सुरक्षित उतर गए। उड़ान के दौरान 50 से अधिक यात्रियों और फ्लाइट क्रू को चोटें आईं। घर वापस आकर मेरी हालत बहुत खराब हो गई, डॉक्टरों ने कुछ दिनों तक पूरी तरह आराम करने की सलाह दी।"

AICC अध्यक्ष का चुनाव

इस बीच एआईसीसी अध्यक्ष के चुनाव के लिए नामांकन की तारीख की घोषणा की गई। सीताराम केसरी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार थे, मैं घर पर बिस्तर पर पड़ा हुआ था। मैंने मीडिया को आमंत्रित किया और सभी एआईसीसी और पीसीसी सदस्यों से अपनी अंतरात्मा की आवाज पर मतदान करने की अपील जारी की। मैंने उनसे केसरी को वोट देने के लिए नहीं कहा। हमारे झगड़े के बाद से हम संपर्क में नहीं थे, न ही हम बातचीत कर रहे थे। हमने एक दूसरे के घर भी आना जाना बंद कर दिया था। जब केसरी को पार्टी अध्यक्ष चुना गया तो मैंने उन्हें बधाई तक नहीं दी। मैं अभी भी गुस्से से उबल रहा था।

सीताराम केसरी और गुलाम नबी के बीच की दूरी

आजाद में गुलाम नबी लिखते हैं, "पार्टी अध्यक्ष के रूप में सीताराम केसरी के चुनाव के कुछ महीने बाद, अगस्त 1997 को एआईसीसी का पूर्ण सत्र कोलकाता शहर से लगभग 20 किमी दूर एक स्टेडियम में आयोजित किया गया था। केसरी सहित सीडब्ल्यूसी सदस्यों और एआईसीसी पदाधिकारियों के लिए सत्र स्थल की लेकिन मुझे पार्टी अध्यक्ष के आसपास रहने की कोई इच्छा नहीं थी।"

एआईसीसी सत्र के पहले दिन मैं केसरी के बगल में बैठा था, केसरी को मंच पर पार्टी के कुछ लोगों से मिलने के लिए अपने कमरे में जाना था। हमने एक दूसरे से बात नहीं की। कार्यवाही के दौरान उन्होंने अपनी अनुपस्थिति में अध्यक्षता करने के अनुरोध के साथ मुझे एक कागज़ की पर्ची दी जिसका मैंने अनुपालन किया।

गुलाम नबी को वोट न देने की केसरी की अपील

गुलाम नबी लिखते हैं, "पहले दिन की कार्यवाही समाप्त करते हुए केसरी ने अपने भाषण में कहा कि सीडब्ल्यूसी के लिए चुनाव अगले दिन होंगे जबकि सत्र जारी रहेगा। उन्होंने एआईसीसी सदस्यों से स्पष्ट रूप से कहा कि वे उन लोगों को वोट न दें जो 'होटलों में रह रहे हैं'। यह टिप्पणी मुझ पर थी क्योंकि मैं होटल में रहने वाला अकेला व्यक्ति था। उनके भाषण से परेशान और क्रोधित होकर, मैंने सीडब्ल्यूसी के लिए चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया। मुझे लगा कि अगर मेरे पार्टी प्रमुख की मेरे बारे में यह राय है और उन्होंने खुलेआम मेरे खिलाफ प्रचार किया है, तो मेरे लिए चुनाव से दूर रहना ही बेहतर होगा।"

जब दोस्तों ने जबरदस्ती भरा गुलाम नबी के नाम का फॉर्म

पूर्व सीएम आगे बताते हैं, " उस शाम, चुनाव लड़ने के इच्छुक लोगों को नामांकन फॉर्म उपलब्ध कराए गए। उम्मीदवार के फॉर्म पर उम्मीदवार के हस्ताक्षर होने चाहिए और नामांकन पत्र पर 10 एआईसीसी सदस्यों का समर्थन होना जरूरी है। मेरे कुछ दोस्तों और समर्थकों जैसे इमरान किदवई, जो एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता और करीबी पारिवारिक मित्र हैं, ने पूछा कि क्या मैंने नामांकन फॉर्म भरा है। यह सुनने पर कि मेरी चुनाव लड़ने की कोई इच्छा नहीं है, उन्होंने मेरे फैसले को मानने से इनकार कर दिया और मेरे लिए भरे गए नामांकन फॉर्म पर मुझसे हस्ताक्षर करवाए और समर्थकों के रूप में 10 एआईसीसी सदस्यों के हस्ताक्षर और नाम जोड़ दिए। औपचारिकताएं पूरी होने के बाद, उन्होंने मेरा फॉर्म पीठासीन अधिकारी को सौंप दिया।"

अपनी हार पर आश्वस्त थे गुलाम नबी

पूर्व कांग्रेस नेता लिखते हैं, "मैं शहर में अपने होटल में वापस चला गया, यह तय करके कि अगले दिन कार्यक्रम स्थल पर वापस नहीं लौटूंगा। मुझे यकीन था कि केसरी की अपील के बाद और उनके निर्देश पर उनके समर्थक मुझे हराने के लिए काम कर रहे थे। मुझे अपनी हार पर शर्मिंदा होने की कोई इच्छा नहीं थी। मैंने होटल स्टाफ से आधा दर्जन हिंदी फिल्मों के वीडियो कैसेट मांगे। अगले दिन, जब सीडब्ल्यूसी सदस्यों के लिए चुनाव चल रहा था, मैंने अपने कमरे में कम से कम तीन फिल्में देखीं, खाना खाया, आराम किया और सो गया।"

सीताराम केसरी ने दी जीत की बधाई

गुलाम लिखते हैं, "मुझे शाम करीब साढ़े छह बजे सीडब्ल्यूसी से फोन आया। किदवई ने मुझे बधाई दी और कहा कि मैं CWC के लिए चुना गया हूं। उन्होंने कहा कि केसरी मुझसे बात करना चाहते थे। केसरी लाइन पर आये। नमस्ते कहने के बाद वह चिल्लाये तुम जीत गए और मैं हार गया। बधाई हो। मैं अवाक था और गहराई से प्रभावित हुआ। यहां एक व्यक्ति था जिसके खिलाफ इतनी उग्रता से बात की थी और उसने भी मेरे खिलाफ खुले तौर पर अभियान चलाया था और फिर भी वह मुझे बधाई दे रहा था और विनम्रतापूर्वक उसकी हार स्वीकार कर रहा था।

केसरी ने मुझसे उस रात अपने निजी विमान से दिल्ली लौटने के लिए कहा लेकिन मैंने विनम्रता से मना कर दिया और उनसे कहा कि मुझे कल राज्य के पीसीसी प्रमुख द्वारा आयोजित लंच मीटिंग में भाग लेना है।

ऐसे मिटी दोनों के बीच की दूरी

पूर्व कांग्रेस नेता लिखते हैं, "उस रात मेरी पत्नी ने दिल्ली से फोन किया और कहा कि सीताराम केसरी बधाई देने के लिए एयरपोर्ट से सीधे हमारे घर आए हैं। वह अक्सर हमारे यहां चिकन सूप पीने आते थे। उस रात जब वह सीधे एयर पोर्ट से आये थे तो उन्होंने अपनी मनपसंद डिश की मांग की थी, जिसे मेरी पत्नी ने झट से तैयार कर दिया था। सूप के एक गर्म कटोरे ने केसरी और मेरे बीच की दीवार को तोड़ दिया था।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो