scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Jharkhand Lok Sabha Chunav 2024: बीजेपी का गढ़ है ये सीट लेकिन 2019 में हारते-हारते बचे थे मोदी सरकार के मंत्री

Bihar BJP lok sabha candidates list 2024: 2024 के लोकसभा चुनाव में खूंटी में क्या अर्जुन मुंडा फिर से जीत जाएंगे?
Written by: deepak
नई दिल्ली | Updated: May 10, 2024 17:55 IST
jharkhand lok sabha chunav 2024  बीजेपी का गढ़ है ये सीट लेकिन 2019 में हारते हारते बचे थे मोदी सरकार के मंत्री
केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा। (Source-arjunmunda/FB)
Advertisement

झारखंड में एक ऐसी सीट है, जिसे बीजेपी का गढ़ कहा जाता है। गढ़ कहने के पीछे वजह यह है कि पिछले 9 लोकसभा चुनाव में यहां 8 बार बीजेपी को जीत मिली है। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में यहां से मोदी सरकार के एक मंत्री हारते-हारते बचे थे। उन्हें सिर्फ 1445 मतों के अंतर से जीत मिली थी।

अनुसूचित जनजाति समुदाय के लिए आरक्षित इस सीट का नाम खूंटी है और मामूली अंतर से जीत हासिल करने वाले केंद्रीय मंत्री का नाम अर्जुन मुंडा है।

Advertisement

Arjun Munda Khunti: दो मुंडा नेताओं में है मुकाबला

2019 की ही तरह खूंटी सीट से एक बार फिर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं तो कांग्रेस ने भी पिछले चुनाव में उम्मीदवार रहे कालीचरण मुंडा को ही टिकट दिया है। कालीचरण मुंडा के भाई नीलकंठ सिंह मुंडा बीजेपी के स्थानीय विधायक हैं।

jharkhand| loksabha chunav| election 2024
हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी से इंडिया गठबंधन के लिए सहानुभूति (Source- PTI)

अर्जुन मुंडा के पास केंद्र सरकार में जनजाति मंत्रालय का प्रभार है और उनकी एक बड़े आदिवासी नेता के रूप में पहचान है। वह झारखंड के मुख्यमंत्री भी रहे हैं। अर्जुन मुंडा और कालीचरण मुंडा के अलावा यहां से झारखंड पार्टी की अपर्णा हंस चुनाव लड़ रही हैं। झारखंड पार्टी भी यहां से तीन बार लोकसभा का चुनाव जीत चुकी है।

Advertisement

खूंटी सीट पर जिस तरह बीजेपी लगातार चुनावी जीत हासिल करती रही है, उससे यह कहा जा सकता है कि यह सीट बीजेपी के लिए सबसे सुरक्षित सीटों में से एक है। लेकिन 2019 में जीत का अंतर सिर्फ 1445 मतों का रह गया था, उससे इस बार निश्चित रूप से चुनावी मुकाबला मुश्किल माना जा रहा है। झारखंड पार्टी भी यहां मुकाबले को त्रिकोणीय बना रही है। 2014 के लोकसभा चुनाव में झारखंड पार्टी के उम्मीदवार एनोस एक्का दूसरे नंबर पर रहे थे।

Advertisement

खूंटी लोकसभा क्षेत्र में 6 विधानसभा सीटें आती हैं। इनके नाम खरसावां, तमाड़, तोरपा, खूंटी, सिमडेगा और कोलेबिरा हैं। यह सभी सीटें अनुसूचित जनजाति समुदाय के लिए आरक्षित हैं।

Nityanand Rai
केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय। (Source- FB)

Khunti Caste Equation: अनुसूचित जनजाति समुदाय के मतदाता निर्णायक

इस सीट पर अनुसूचित जनजाति समुदाय के मतदाता ही निर्णायक हैं। यहां उनकी आबादी 65% है। खूंटी सीट पर ईसाई समुदाय की आबादी 27% के आसपास है। इस सीट पर 7.02% मुस्लिम और 6.4% दलित मतदाता भी हैं।

Jharkhand India Alliance: एनडीए और इंडिया गठबंधन में है मुकाबला

झारखंड में एनडीए गठबंधन में बीजेपी और आजसू शामिल है जबकि इंडिया गठबंधन में राज्य में सरकार की अगुवाई कर रही झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस, राजद और वामदल शामिल हैं। राज्य की 14 लोकसभा सीटों में से बीजेपी 13 पर तो आजसू 1 सीट पर चुनाव लड़ रही है।

इंडिया गठबंधन की ओर से सात सीटों पर कांग्रेस, पांच पर झामुमो, एक-एक सीट पर माले और आरजेडी के उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

Hemant Soren Arrest: हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी को बनाया मुद्दा

यहां याद दिलाना होगा कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भ्रष्टाचार के एक मामले में जेल में हैं। इंडिया गठबंधन ने उनकी गिरफ्तारी को राज्य में बड़ा चुनावी मुद्दा बनाया हुआ है। इंडिया गठबंधन का कहना है कि एनडीए सरकार विपक्षी नेताओं के खिलाफ जांच एजेंसियों का बेजा इस्तेमाल कर रही है और वह संविधान और आरक्षण को खत्म करना चाहती है।

जबकि एनडीए मोदी सरकार के कामकाज और हेमंत सोरेन सरकार पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाकर मतदाताओं से वोट मांग रहा है।

nitish kumar
बाएं से अशोक चौधरी, नीतीश कुमार और महेश्वर हजारी। (Source- FB)

Kariya Munda Khunti: 12 बार चुनाव लड़े, 8 बार जीते करिया मुंडा

खूंटी सीट को बीजेपी के वरिष्ठ नेता करिया मुंडा के नाम से जाना जाता है। करिया मुंडा ने अपने जीवन में 12 बार लोकसभा का चुनाव लड़ा और इसमें उन्हें आठ बार जीत मिली। करिया मुंडा ने अपना पहला चुनाव 1977 में जनता पार्टी के टिकट पर जीता था लेकिन उसके बाद वह बीजेपी में शामिल हो गए थे। 1989 से लेकर 1999 तक वह लगातार यहां से चुनाव जीते रहे। 2004 में हार के बाद वह 2009 और 2014 में फिर यहां से चुनाव जीते थे।

करिया मुंडा मोरारजी देसाई और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रहे। वह जनसंघ से बीजेपी में आए थे और झारखंड के पहले मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में थे लेकिन तब बीजेपी ने बाबूलाल मरांडी को तरजीह दी थी।

400 Paar BJP | Lok Sabha Election 2024 | Narendra Modi | BJP Opinion Poll
संजय बारू का तर्क है क‍ि मोदी को 370 सीटें आ गईं तो आगे चल कर बीजेपी का वही हश्र होगा जो इंद‍िरा गांधी या राजीव गांधी को प्रचंड बहुमत म‍िलने के बाद कांग्रेस का हुआ था। (फोटो सोर्स: रॉयटर्स)
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो