scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कहानी गठबंधन सरकारों की- जानिए नेहरू और मोरारजी ने झेली थीं कैसी परेशानियां, जब बिना वित्त मंत्री की मर्जी के चपरासी बहाल करना भी था मुश्किल

आजादी से पहले 1946 में जब देश में अंतरिम सरकार बनी थी तो यह भी और 1947 के बाद बनी सरकार भी गठबंधन सरकार ही थी। पढ़िए गठबंधन सरकारों पर चक्षु राय का लेख।
Written by: ईएनएस
Updated: June 09, 2024 15:56 IST
कहानी गठबंधन सरकारों की  जानिए नेहरू और मोरारजी ने झेली थीं कैसी परेशानियां  जब बिना वित्त मंत्री की मर्जी के चपरासी बहाल करना भी था मुश्किल
पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई और जवाहर लाल नेहरू।
Advertisement

लोकसभा चुनाव के नतीजों में मतदाताओं ने बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं दिया। बीजेपी को लोकसभा चुनाव में 240 सीटों पर जीत मिली है और अब वह एनडीए के सहयोगी दलों के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रही है।

Advertisement

राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन सरकारों का दौर 1977 में पहली बार लोगों के सामने तब आया जब मोरारजी देसाई ने केंद्र में पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनाई। उनकी सरकार में चौधरी चरण सिंह, लाल कृष्ण आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी, बीजू पटनायक, प्रकाश सिंह बादल, जॉर्ज फर्नाडीज और शांति भूषण जैसे नेताओं को मंत्री बनाया गया था।

Advertisement

महत्वाकांक्षाओं और राजनीतिक तिकड़मों और गुटबाजी ने मोरारजी देसाई सरकार के कामकाज में मुश्किलें खड़ी की। कानून मंत्री शांति भूषण ने एक बार बताया था कि सरकार के कार्यकाल के दौरान 1978 में किस तरह हालत खराब हो गए थे।

शांति भूषण ने लिखा था, वह ऐसा मानते थे कि प्रधानमंत्री अपनी सरकार के दो वरिष्ठ सहयोगियों की मौत का इंतजार कर रहे थे और उन में से एक प्रधानमंत्री की मौत का इंतजार कर रहा था और इस तरह की सरकार का आगे चल पाना असंभव था। मोरारजी देसाई की सरकार सिर्फ दो ही साल चली और 1979 में गिर गई थी।

Jawaharlal Nehru | jawaharlal nehru resignation letter
फरवरी 1958 में दे दिया था इस्तीफा (Source: Express Archives)

गठबंधन सरकारों में एक से ज्यादा राजनीतिक दल या एक से ज्यादा लोग मिलकर काम करते हैं और कई बार इनके विचार भी अलग-अलग होते हैं। अगर हम पीछे मुड़कर देखें तो 1977 ऐसा पहला मौका नहीं था, जब देश में राष्ट्रीय स्तर पर कोई गठबंधन बना हो।

Advertisement

1946 में बनी अंतरिम सरकार भी गठबंधन सरकार ही थी

आजादी से पहले 1946 में जब देश में अंतरिम सरकार बनी थी तो यह भी और 1947 के बाद बनी सरकार भी गठबंधन सरकार ही थी। 1946 में बनी अंतरिम सरकार के ही नेतृत्व में भारत आजादी की ओर आगे बढ़ा था। पंडित जवाहरलाल नेहरू इस सरकार के प्रमुख थे। इसमें कांग्रेस के दिग्गज नेता वल्लभ भाई पटेल के पास (गृह), राजेंद्र प्रसाद के पास (खाद्य और कृषि) और जगजीवन राम के पास श्रम मंत्रालय था।

इस सरकार में रक्षा मामलों के विशेषज्ञ के तौर पर अकाली दल से सरदार बलदेव सिंह और वित्त मामलों के विशेषज्ञ जॉन मथाई, मंत्री बनाए गए थे।

बैंकिंग और बीमा कंपनियों के कामकाज को समझने वाले पारसी व्यवसायी कुंवरजी होरमुसजी भाभा (कॉर्मर्स) के अनुभव का लाभ भी इस सरकार को मिला था।

हालांकि इन मंत्रियों के चुनाव को लेकर विवाद भी हुआ था। जैसे मौलाना आजाद और वल्लभभाई पटेल सरकार में भाभा को शामिल करने के फैसले से सहमत नहीं थे। आजाद का मानना था कि भाभा पारसी समुदाय के नेता नहीं हैं। जब मुस्लिम लीग ने सरकार में शामिल होने का फैसला किया तो मुस्लिम लीग को वित्त मंत्रालय की पेशकश वाले कांग्रेस के प्रस्ताव को लेकर वल्लभभाई पटेल और मौलाना आजाद की राय अलग-अलग थी।

feroze gandhi| raebareli| chunav special
पहले चुनाव में फीरोज गांधी कैसे बने रायबरेली से उम्‍मीदवार? (Source- Express Archive)

मुस्लिम लीग को मिला था वित्त मंत्रालय

मौलाना आजाद का मानना था कि इतने अहम मंत्रालय का कांग्रेस के पास ना होना सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी करेगा। मुस्लिम लीग ने इस पेशकश को स्वीकार कर लिया था और जॉन मथाई की जगह लियाकत अली खान ने वित्त मंत्रालय संभाला था।

मौलाना आजाद के मुताबिक, जब लियाकत ने यह मंत्रालय संभाला तो उनकी मर्जी के बिना एक चपरासी की नियुक्ति भी नहीं की जा सकती थी।

पहली मंत्री परिषद में गैर कांग्रेसी चेहरे भी आए

भारत में आजादी के बाद जो पहली मंत्री परिषद बनी, उसमें जवाहरलाल नेहरू ने गठबंधन के फार्मूले को ही लागू किया। नेहरू ने 1946 में बनी अंतरिम सरकार के आधे से ज्यादा मंत्रियों को नई सरकार में भी शामिल किया। इसके साथ ही कुछ नए मंत्रियों की भी नियुक्ति की गई।

इन मंत्रियों में राजकुमारी अमृत कौर को स्वास्थ्य और एन.वी.गाडगिल को (खान एवं बिजली) मंंत्रालय दिया गया था। इतिहासकार रामचंद्र गुहा लिखते हैं कि इन दोनों नेताओं को कैबिनेट में शामिल करने के मामले में नेहरू ने महात्मा गांधी की सलाह ली और कांग्रेस से अलग भी अलग-अलग राजनीतिक दलों के पढ़े-लिखे लोगों को सरकार में शामिल किया। इसका मतलब यह था कि कैबिनेट में शामिल होने के लिए कांग्रेस का सदस्य होना जरूरी नहीं था।

इस वजह से सरकार में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर (कानून मंत्रालय), कारोबारी आर के शनमुखम चेट्टी (वित्त मंत्रालय) और जनसंघ से आने वाले डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने (उद्योग और आपूर्ति) मंत्रालय संभाला। इस सरकार में जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री बने और उप प्रधानमंत्री की कुर्सी वल्लभ भाई पटेल ने संभाली।

1957 election| chunav 2024| loksabha election
1957 में एक रैली के दौरान पंडित नेहरू (Source- @IndiaHistorypic)

प्रोफेसर मॉरिस जोन्स अपनी किताब द गवर्नमेंट एंड पॉलिटिक्स ऑफ़ इंडिया में लिखते हैं कि 1947 की सरकार में कई ऐसे लोग शामिल थे जिनका कांग्रेस से कोई संबंध नहीं था। यह दो मायने में गठबंधन की सरकार थी। पहली यह कि इसमें समुदायों और क्षेत्र के प्रतिनिधियों का चुनाव बेहद सावधानीपूर्वक किया गया था।

दूसरी बात यह कि यह नीतिगत गठबंधन भी था हालांकि इसमें विचारों का संतुलन नहीं था। इस सरकार में गैर कांग्रेसी विचारों वाले नेताओं का प्रतिनिधित्व भी था।

आजादी के बाद बनी पहली कैबिनेट को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। कैबिनेट मंत्री भाभा ने शरणार्थियों की समस्या और कंपनी लॉ बनाने के मुद्दे पर जोर दिया। जॉन मथाई जिनके हाथ से वित्त मंत्रालय को संभालने के दो मौके निकल चुके थे, उन्हें 1948 में मंत्रालय का प्रभार मिला और ऐसे कठिन वक्त में उन्होंने अपना काम किया।

Hindu Nationalism। Gujarat Under Modi
पॉल‍िट‍िकल साइंट‍िस्‍ट क्र‍िस्‍टोफे जैफरलॉट की क‍िताब ‘गुजरात अंडर मोदी-द ब्‍लूप्र‍िंंट फॉर टुडेज इंड‍िया’ का कवर पेज।

तीन मंत्रियों ने दिया सरकार से इस्तीफा

गठबंधन की सरकार के दौरान कुछ मुश्किलें भी आई। पहले वित्त मंत्री बने आर के शनमुखम चेट्टी ने 1948 में इस्तीफा दे दिया। इसके बाद श्यामा प्रसाद मुखर्जी और भीमराव अंबेडकर ने भी नीतिगत मामलों में मतभेद की वजह से सरकार का साथ छोड़ दिया।

श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने इसलिए इस्तीफा दिया क्योंकि पाकिस्तान में विशेषकर पूर्वी बंगाल में रह रहे हिंदुओं को लेकर सरकार का जो रवैया था, वह उससे सहमत नहीं थे।

लेखक पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च में हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो