scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

चुनाव पाक-साफ लगे, इसके ल‍िए चुनाव आयुक्‍तों की न‍ियुक्‍ति‍ भी पारदर्शी लगनी चाह‍िए

चुनाव आयुक्त अरुण गोयल के त्यागपत्र का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। गोयल की नियुक्ति के समय से ही विवाद था। सुप्रीम कोर्ट में भी उनकी नियुक्ति का मामला पहुंचाया था।
Written by: निशिकांत ठाकुर
नई दिल्ली | Updated: March 22, 2024 17:06 IST
चुनाव पाक साफ लगे  इसके ल‍िए चुनाव आयुक्‍तों की न‍ियुक्‍ति‍ भी पारदर्शी लगनी चाह‍िए
नवनियुक्त चुनाव आयुक्त सुखबीर सिंह संधु (बाएं) और ज्ञानेश कुमार (दाएं) के साथ मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार (बीच में) (PC - ANI)
Advertisement

प्रधानमंत्री की अध्‍यक्षता वाली सम‍ित‍ि ने दो रिटायर्ड आइएएस ज्ञानेश कुमार और सुखबीर स‍िंंह संधु को चुनाव आयुक्‍त चुन ल‍िया है। दोनों ने अपना पद भी संभाल ल‍िया है। लेक‍िन पारदर्श‍िता का सवाल अब भी वैसे ही बना हुआ है जैसे अचानक इस्‍तीफा देने वाले अरुण गोयल की न‍ियुक्‍त‍ि के समय बनी थी। अरुण गोयल के चुनाव आयुक्त बनने पर सारा देश यह सोच कर दांतों तले अंगुली दबाने लगा था कि ऐसा कैसे हो सकता है क‍ि वीआरएस लेने के अगले ही द‍िन क‍िसी अफसर को चुनाव आयुक्‍त बना द‍िया जाए। अब जो दो नए चुनाव आयुक्‍त बनाए गए हैं, उनकी न‍ियुक्‍त‍ि प्रक्र‍िया को लेकर भी कांग्रेस ने सवाल उठाया है।

ऐसे सवाल पारदर्श‍िता कम ही करते हैं। लोकसभा चुनावों से ऐन पहले चंडीगढ़ मेयर के चुनाव में जनता ने जो धांधली देखी उससे उसका व‍िश्‍वास पहले ही ह‍िला हुआ है। यह लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण तो रहा ही है, भाजपा की सरकारों को भी जनता के सामने शर्मसार करने वाला रहा। यह अलग बात है कि सुप्रीम कोर्ट की तल्‍ख टिप्पणी व कड़ी कार्रवाई और सरेआम चुनावी धांधली पकड़े जाने के बावजूद प्रधानमंत्री ने उसी प्रकार एक बार भी मुंह नहीं खोला, जैसे उन्होंने मणिपुर प्रकरण में चुप्पी का उदाहरण पेश किया था।

Advertisement

वर्ष 1947 में देश आजाद हुआ और इसके दो साल बाद एक चुनाव आयोग का गठन कर दिया गया। उसके अगले ही महीने जनप्रतिनिधि कानून संसद में पारित कर दिया गया। इस कानून को संसद में पेश करते हुए प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उम्मीद जताई थी कि साल 1951 के बसंत तक चुनाव करवा लिए जाएंगे।

तत्कालीन संसाधानविहीन भारत में चुनाव कराने का जिम्मा 1899 में जन्मे और प्रेसीडेंसी कॉलेज और लंदन यूनिवर्सिटी से गोल्ड मेडल पाए तथा 1921 बैच के आईसीएस सुकुमार सेन के कंधे पर वर्ष 1950 में इस दायित्व के निर्वहन का भार डाला गया। बतौर न्यायाधीश कई जिलों में उनकी नियुक्ति की गई। बाद में सुकुमार सेन पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव भी बने, जहां से उन्हें प्रतिनियुक्ति पर मुख्य चुनाव आयुक्त बनाकर भेज दिया गया।

इतिहास बताता है कि उस समय मतदाताओं की कुल संख्या 17 करोड़ 60 लाख थी, जिनकी उम्र 21 या उससे ऊपर थी और जिनमें 85 फीसदी न लिख सकते थे, न पढ़ सकते थे। उन सबकी पहचान करनी थी, उनका नाम लिखना और उन्हें पंजीकृत करना था। मतदाताओं का निबंधन तो बस पहला कदम था, क्योंकि समस्या यह थी कि अधिकांश अशिक्षित मतदाताओं के लिए पार्टी प्रतीक चिह्न, मतदान पत्र और मतपेटी किस तरह बनाई जाए?

Advertisement

इसके बाद चुनाव के लिए मतदान केंद्र का भी चयन किया जाना था। साथ ही ईमानदार और सक्षम अधिकारी की भी नियुक्ति करनी थी। इसके अतिरिक्त आम चुनाव के साथ ही राज्यों की विधानसभा के लिए भी चुनाव होने थे। इस काम में सुकुमार सेन के साथ विभिन्न राज्यों में चुनाव अधिकारी भी काम कर रहे थे, जिनमें से अमूमन अधिकांश आईसीएस अधिकारी ही थे। वर्ष 1951 में चुनाव आयोग सालभर लोगों को फिल्म और रेडियो के माध्यम से लोकतंत्र की इस महान कवायद के बारे में जागरूक करता रहा। इन्हीं सूझबूझ से आजादी के बाद कराया गया चुनाव सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ।

देश तो संविधान से चलता है, किसी व्यक्ति विशेष के कारण नहीं। हमारे संविधान विशेषज्ञ उद्भट विद्वान थे और उन्होंने संविधान का निर्माण उस काल में किया था, जब एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाना बेहद दुरूह होता था, जब एक—दूसरे की बोली समझ में नहीं आती थी, जब आज की तरह हजारों किलोमीटर चलने वाली रेलगाड़ी नहीं थी, जहां हर घंटे एक स्थान से दूसरे स्थान जाने आने के लिए दिन—रात हवाई सेवा नहीं थी, जहां टेलीफोन, मोबाइल या वीडियो कान्फ्रेन्सिंग की सोच ही नहीं थी, जहां अकाल, प्लेग और हैजे से गांव गांव, शहर शहर श्मशान में बदल जाते थे, उस संसाधानविहीन् देश का संविधान उस काल में निर्माण किया जा रहा था।