scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Fact Check: हरियाणा की घटना का वीडियो अयोध्या के नाम पर वायरल

Lighthouse Journalism: वायरल वीडियो अयोध्या का नहीं, बल्कि हरियाणा के फरीदाबाद का है।
Written by: जनसत्ता ऑनलाइन
नई दिल्ली | January 02, 2024 15:08 IST
fact check  हरियाणा की घटना का वीडियो अयोध्या के नाम पर वायरल
वायरल दावा फर्जी है। (PC- FB)
Advertisement
अंकिता देशकर

लाइटहाउस जर्नलिज्म को सोशल मीडिया पर एक पोस्ट मिली। पोस्ट के साथ दावा किया गया जा रहा कि एक लड़का अयोध्या में जुलूस पर फूल फेंक रहा था तभी आयोजकों ने उसकी पिटाई कर दी। हमारी पड़लात में पता चला कि वायरल वीडियो का अयोध्या से कोई संबंध नहीं है। वीडियो हरियाणा के फरीदाबाद की एक घटना का है।

Advertisement

क्या वायरल हो रहा है?

ट्विटर यूजर Shazia Nuzar official ने वायरल वीडियो को अपनी प्रोफाइल पर शेयर कते हुए लिखा है, "आयोध्या में राम मंदिर के कार्यक्रम के दौरान स्कूली बच्चे फूल फेंकने पर दलित युवक, जिसका नाम विष्णु पासवान बताया जा रहा है आयोजकों ने जमकर पिटाई किया। क्या यही वह सर्वश्रेष्ठ पांच हजार वर्ष पूरानी संस्कृति है जिसके बारे में कट्टर हिन्दू हमेशा बात करते रहते हैं।"

Advertisement

https://www.facebook.com/watch/?v=7037114089699573

कई अन्य यूजर भी इसी दावे के साथ वीडियो को शेयर किया है।

https://www.facebook.com/100091540688540/videos/7037114089699573/

कैसे हुई पड़ताल?

हमने InVid टूल में वीडियो अपलोड कर। इससे हमें वीडियो के कई स्क्रीनग्रैब मिल गए। स्क्रीनग्रैब को रिवर्स इमेज सर्च में डालने पर हमें जय प्रकाश शर्मा का एक ट्वीट मिला।

ट्वीट में बताया गया है कि यह घटना गीता महोत्सव के दौरान फ़रीदाबाद की है।

Advertisement

फिर हमने इसे जुड़े कीवर्ड को गूगल पर सर्च किया। हमें इसके बारे में कई रिपोर्ट्स मिलीं।

Advertisement

Screenshot
स्क्रीनशॉट

रिपोर्ट में बताया गया है: घटना फ़रीदाबाद की है। आरोप है कि एक सरकारी स्कूल के कार्यक्रम के दौरान दो शिक्षकों ने 15 वर्षीय छात्र की जमकर पिटाई की। घटना की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। छात्र के पिता की शिकायत पर शिक्षकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

विवाद तब शुरू हुआ जब एक शिक्षक पर फूल फेंका गया। शिक्षक का गुस्सा भड़क गया। शरारत के लिए 15 वर्षीय छात्र को ज़िम्मेदार मानते हुए, शिक्षक ने उसकी छाती और पेट पर लात मारना शुरू कर दिया।

हमें घटना की एक वीडियो रिपोर्ट भी मिली।

हमें अयोध्या पुलिस का एक ट्वीट भी मिला जिसमें कहा गया है कि दावा गलत है और अयोध्या में ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।

निष्कर्ष: वायरल दावा झूठा है। स्कूली लड़के की पिटाई अयोध्या में जुलूस पर फूल फेंकने के कारण आयोजकों द्वारा नहीं की गई है। वीडियो अयोध्या का नहीं है। वीडियो फरीदाबाद का है, जहां स्कूली छात्र की पिटाई के आरोप में दो शिक्षकों पर मामला दर्ज किया गया है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो