scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कट्टर या अंधविश्वासी नहीं वैज्ञानिक विचारों वाले बुद्धिजीवी थे शिवाजी, इतिहासकार से जानिए मराठा शासक की अनोखी बातें

इतिहासकार श्रीमंत कोकाटे ने अपनी किताब 'छत्रपति शिवाजी महाराज (सचित्र)' में बताया है कि शिवाजी के शासन में भेदभावपूर्ण प्रथाओं के लिए कोई जगह नहीं थी। उन्होंने सभी जातियों और धर्मों के लोगों को महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया था।
Written by: स्पेशल डेस्क | Edited By: Ankit Raj
नई दिल्ली | Updated: February 19, 2024 18:23 IST
कट्टर या अंधविश्वासी नहीं वैज्ञानिक विचारों वाले बुद्धिजीवी थे शिवाजी  इतिहासकार से जानिए मराठा शासक की अनोखी बातें
शिवाजी का जन्म 19 फरवरी, 1630 को हुआ था। (PC- Freepik)
Advertisement

मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी की जयंती 19 फरवरी को मनाई जाती है। शिवाजी की जन्मतिथि को लेकर विवाद है। लेकिन महाराष्ट्र सरकार मानती है कि 'मराठा शासक' का जन्म 393 साल पहले 19 फरवरी, 1630 को महाराष्ट्र के शिवनेरी किले में हुआ था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर एक वीडियो शेयर करते हुए शिवाजी के साहस और सुशासन को याद किया है। अपने एक भाषण में भी शिवाजी को श्रद्धांजलि देते हुए पीएम ने कहा है, "आज छत्रपति शिवाजी महाराज की जन्म-जयंती भी है। ये दिन इसलिए और भी पवित्र और प्रेरणादायक हो जाता है। आज हम देश में जो सांस्कृतिक पुनरोदय देख रहे हैं, अपनी पहचान पर गर्व कर रहे हैं, ये प्रेरणा हमें छत्रपति शिवाजी महाराज से ही मिलती है। मैं इस अवसर पर छत्रपति शिवाजी महाराज के चरणों में श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं।"

Advertisement

शिवाजी की तारीफ करते हुए अक्सर उनके योद्धा रूप को जरूर रेखांकित किया जाता है। जबकि उनके शासन के कई ऐसा पहलू हैं, जिस पर बहुत कम बात हुई है। लोकप्रिय मराठी लेखक और इतिहासकार श्रीमंत कोकाटे ने 'छत्रपति शिवाजी महाराज (सचित्र)' नाम से एक किताब लिखी है, जिसमें उनके अलग रूप का वर्णन मिलता है।

किसानों के मसीहा थे शिवाजी!

इतिहासकार श्रीमंत कोकाटे की किताब का अंग्रेजी संस्करण पिछले साल मार्च में आया था, तब उन्होंने द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा था, "छत्रपति शिवाजी महाराज को एक महान राजा के रूप में जाना जाता है। केवल महाराष्ट्र या भारत नहीं, बल्कि दुनिया भर के लोग उनका सम्मान करते हैं। उनकी उपलब्धियां समाज के लिए एक बड़ी प्रेरणा हैं। ऐसे में उनकी जीवन यात्रा को तथ्यों के आधार पर प्रस्तुत करना आवश्यक हो जाता है। मैंने महान राजा के प्रामाणिक इतिहास को सामने लाने के लिए गंभीर प्रयास किए हैं।"

किताब इस बात पर प्रकाश डालती है कि कैसे मराठा शासक ने अपनी प्रजा के हितों का ध्यान रखते थे। कोकाटे बताते हैं, "शिवाजी महाराज ने अपने शासन में यह सुनिश्चित किया था कि अनाज पैदा कर लोगों का पेट भरने वाले किसान हमेशा खुश रहें। उनका आदेश दिया था कि किसानों के घास के ढेर तक को भी हाथ न लगाया जाए। शिवाजी ने सूखा प्रभावित किसानों को बैल और अनाज उपलब्ध कराया था। साथ ही ब्याज मुक्त वित्तीय सहायता दी थी।"

Advertisement

पुस्तक से पता चलता है कि कैसे शिवाजी शासन के दौरान भेदभावपूर्ण प्रथाओं के लिए कोई जगह नहीं थी। उन्होंने सभी जातियों और धर्मों के लोगों को महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया था।

Advertisement

गौरतलब है कि वर्तमान में देश के किसानों का एक वर्ग मौजूदा सरकार की नीतियों से खुश नहीं है। आलम यह है कि आम चुनावों की संभावित घोषणा से कुछ सप्ताह पहले किसानों का एक बड़ा समूह दिल्ली में विरोध प्रदर्शन के लिए आना चाहता है, जिसे सरकार ने अपनी तमाम मिशनरियों के इस्तेमाल से पंजाब-हरियाणा की सीमा शंभू बॉर्डर पर रोक रखा है। किसानों के प्रतिनिधियों और सरकार के बीच रविवार (18 फरवरी) को हुई चौथे दौर की बैठक भी बेनतीजा रही है।

वैज्ञानिक विचारधारा वाले बुद्धिजीवी थे शिवाजी

कोकाटे बताते हैं कि "शिवाजी के शासनकाल के दौरान महिलाओं को सम्मान दिया जाता था, उन्हें पुरुषों के बराबर माना जाता था। शिवाजीराजे धार्मिक थे, लेकिन कट्टर या अंधविश्वासी नहीं थे। ...शिवाजी महाराज एक वैज्ञानिक विचारधारा वाले बुद्धिजीवी थे। उन्होंने कभी भी शुभ समय या मुहूर्त पर विश्वास नहीं किया। उनके कई युद्ध अमावस्या की रात को हुए थे। वह स्वर्ग, नरक, पुनर्जन्म में विश्वास नहीं करते थे… वह अपने काम में विश्वास करते थे और अपनी प्रजा की रक्षा करने, उनका कल्याण सुनिश्चित करने और संकट में उनकी मदद करने की पूरी कोशिश करते थे। मैंने शिवराजे के वैज्ञानिक दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला है और प्रामाणिक संदर्भ प्रस्तुत किए हैं।"

गुलामी प्रथा के खिलाफ थे शिवाजी

शिवाजी गुलामी के ख़िलाफ़ थे। किताब में बताया गया है कि जब यूरोप ने पूंजीवाद का अनुसरण किया, तो शिवाजी ने उन्हें मानवतावाद सिखाया। जब यूरोप में पुरुषों और महिलाओं को गुलामों के रूप में खरीदा और बेचा जाता था, तो मराठा राजा ने गुलामी पर प्रतिबंध लगा दिया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो