scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

WB उपचुनाव: बीजेपी ने जीती थीं चार में से तीन सीटें, पर नहीं रहे उसके एक भी व‍िधायक, टीएमसी के सामने भाजपा को हराने की चुनौती

बीजेपी से आए तीनों विधायकों को टीएमसी ने लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाया था लेकिन इन सभी को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा।
Written by: स्पेशल डेस्क
नई दिल्ली | Updated: July 08, 2024 18:43 IST
wb उपचुनाव  बीजेपी ने जीती थीं चार में से तीन सीटें  पर नहीं रहे उसके एक भी व‍िधायक  टीएमसी के सामने भाजपा को हराने की चुनौती
लोकसभा चुनाव में बीजेपी से बहुत आगे रही है टीएमसी। (Source-PTI)
Advertisement

पश्चिम बंगाल में आने वाली 10 जुलाई को एक बार फिर बीजेपी और टीएमसी के बीच चार विधानसभा सीटों पर बड़ी चुनावी लड़ाई होनी है। इन विधानसभा सीटों के नाम- रायगंज, राणाघाट-दक्षिण, मानिकताला और बगदा हैं। इनमें से तीन सीटों- रायगंज, राणाघाट दक्षिण और बगदा में 2021 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को जीत मिली थी। लेकिन लोकसभा चुनाव से पहले उसके विधायक टीएमसी में चले गए थे।

Advertisement

बीजेपी से आए तीनों विधायकों को टीएमसी ने लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाया था लेकिन इन सभी को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा।

Advertisement

तीन सीटें- रायगंज, राणाघाट-दक्षिण और बगदा जीते विधायकों के इस्तीफा देने की वजह से जबकि मानिकतला की सीट टीएमसी के विधायक साधन पांडे के निधन से खाली हुई है। बीजेपी और टीएमसी इन सीटों को जीतकर 2026 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सियासी लीड लेना चाहती हैं।

पश्चिम बंगाल के लोकसभा चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन उसकी उम्मीदों के मुताबिक नहीं रहा है। ऐसे में पार्टी को उम्मीद है कि अगर वह इस उपचुनाव में इन तीनों सीटों को फिर से जीत जाती है तो इससे उसके कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा।

Mamata Banerjee
चुनाव नतीजों का विश्लेषण करेगी टीएमसी। (Source-PTI)

लोकसभा चुनाव के नतीजों में भले ही टीएमसी को ज्यादा सीटें मिली हों लेकिन राज्य के शहरी स्थानीय निकायों में बीजेपी उससे आगे रही है। बंगाल के 125 नगर निगम और नगर पालिका परिषदों में 60% ऐसे स्थानीय निकाय हैं, जहां लोकसभा चुनाव में टीएमसी बीजेपी से पीछे रही है।

Advertisement

पिछले तीन लोकसभा चुनावों में बीजेपी और टीएमसी को मिली सीटें

लोकसभा चुनाव 2014लोकसभा चुनाव 2019लोकसभा चुनाव 2024
बीजेपी को मिली सीटें21812
टीएमसी को मिली सीटें342229

पिछले तीन चुनावों में बीजेपी और टीएमसी का वोट शेयर

लोकसभा चुनाव 2014लोकसभा चुनाव 2019लोकसभा चुनाव 2024
बीजेपी को मिले वोट (प्रतिशत में)16.8440.2538.73
टीएमसी को मिले वोट (प्रतिशत में)39.3543.2845.76

चार में से तीन सीटों पर आगे रही बीजेपी

लोकसभा चुनाव में बगदा सीट से बीजेपी को 20 हजार से ज्यादा वोटों की लीड मिली थी जबकि राणाघाट दक्षिण से 36,000 और रायगंज में उसकी लीड 46,000 से अधिक वोटों की थी। जबकि टीएमसी मानिकताला सीट पर आगे थी लेकिन उसकी जीत का अंतर सिर्फ 3,500 वोटों का था।

Mamata Banerjee
फिर आमने-सामने होंगे बीजेपी और टीएमसी। (Source-MamataBanerjeeOfficial/FB)

टीएमसी ने सोच-समझकर दिए टिकट 

टीएमसी को उम्मीद है कि वह लोकसभा चुनाव में मिली कामयाबी को बरकरार रखेगी और सभी विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करेगी। पार्टी ने बेहद सोच-समझकर उम्मीदवारों का चयन किया है। मानिकताला से साधन पांडे की पत्नी सुप्ति पांडे को टिकट दिया गया है जबकि बगदा से राज्यसभा सांसद ममता बाला ठाकुर की बेटी मधुपर्णा को मैदान में उतारा गया है।

मधुपर्णा केंद्रीय मंत्री शांतनु ठाकुर की चचेरी बहन हैं। कृष्णा कल्याणी को लोकसभा चुनाव में हार मिलने के बाद भी टीएमसी ने रायगंज विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है। राणाघाट में भी टीएमसी ने पिछला चुनाव बीजेपी के टिकट पर जीते मुकुट मणि अधिकारी को मैदान में उतारा है।

किन सीटों से कौन हैं उम्मीदवार

विधानसभा सीटबीजेपी उम्मीदवार का नामटीएमसी उम्मीदवार का नाम
रायगंजमानस कुमार घोषकृष्णा कल्याणी
राणाघाट-दक्षिणमनोज कुमार बिस्वासमुकुट मणि अधिकारी
मानिकतलाकल्याण चौबे भट्टाचार्यसुप्ति पांडे
बगदाबिनय कुमार बिस्वासमधुपर्णा ठाकुर

कांग्रेस-वाम दल मिलकर लड़ रहे चुनाव 

कांग्रेस के साथ गठबंधन करके वामपंथी दल भी चारों विधानसभा सीटों पर उपचुनाव लड़ रहे हैं। सीपीआई (एम) ने क्रमशः राणाघाट दक्षिण और मानिकतला में अरिंदम विश्वास और राजीब मजूमदार को मैदान में उतारा है, जबकि वाम मोर्चा के घटक दल ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक ने बगदा से गौरादित्य विश्वास को टिकट दिया है। कांग्रेस ने पूर्व विधायक मोहित सेनगुप्ता को रायगंज से मैदान में उतारा है।

बीजेपी के लिए नेता विपक्ष शुभेंदु अधिकारी और बंगाल बीजेपी की पूरी इकाई ने उपचुनाव में जमकर प्रचार किया तो टीएमसी के उम्मीदवारों के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और पार्टी के अन्य नेताओं ने पसीना बहाया।

Mamata Banerjee
भबानीपुर से 2011 से विधायक हैं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। (Source-FB/MamataBanerjeeOfficial)

बगदा में मतुआ वोटों पर कब्जे की है लड़ाई

बगदा विधानसभा सीट बोगांव लोकसभा सीट में आती है। इस लोकसभा सीट पर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के नेता शांतनु ठाकुर और टीएमसी की राज्यसभा सांसद ममता बाला ठाकुर के बीच राजनीतिक लड़ाई है। इस विधानसभा सीट में मतुआ वोटों की संख्या ज्यादा है और 2024 के लोकसभा चुनाव में शांतनु ठाकुर यहां पर 73 हजार से ज्यादा वोटों के अंतर से चुनाव जीते हैं।

इस सीट से उम्मीदवार बनाए गए बिश्वजीत दास को लोकसभा चुनाव में टीएमसी ने बोंगांव सीट से उतारा था लेकिन वह शांतनु ठाकुर से हार गए थे।

टीएमसी ने बीजेपी के एक और विधायक मुकुट मणि अधिकारी को राणाघाट लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया था लेकिन उन्हें भाजपा के मौजूदा सांसद जगन्नाथ सरकार के हाथों हार मिली है। यह सीट नदिया जिले में है और अनुसूचित जाति समुदाय के लिए आरक्षित है। इस सीट पर भी मतुआ समुदाय के लोगों की अच्छी-खासी आबादी है।

रायगंज

बीजेपी छोड़कर टीएमसी में जाने के बाद कृष्णा कल्याणी को टीएमसी ने रायगंज से लोकसभा चुनाव लड़ाया था लेकिन वह बीजेपी उम्मीदवार कार्तिक पॉल से चुनाव हार गए थे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो