scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Bihar Lok Sabha Election 2024: क्या नीतीश का साथ छोड़ रहे कुशवाहा वोटर्स, NDA के बजाय INDIA का देंगे साथ?

लगभग 2.75 लाख कुशवाहा मतदाताओं के साथ उजियारपुर कुशवाहा (ओबीसी) की सबसे अधिक आबादी वाले निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है।
Written by: संतोष सिंह | Edited By: shruti srivastava
नई दिल्ली | Updated: May 13, 2024 15:34 IST
bihar lok sabha election 2024  क्या नीतीश का साथ छोड़ रहे कुशवाहा वोटर्स  nda के बजाय india का देंगे साथ
मुंगेर में एक जनसभा के दौरान नीतीश कुमार (Source- ANI)
Advertisement

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में आज बिहार की पांच सीटों पर मतदान हो रहा है, उजियारपुर उनमें से एक है। यहां दो बार के मौजूदा सांसद नित्यानंद राय और पूर्व मंत्री आलोक कुमार मेहता के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा देखी जा रही है। आलोक प्रमुख कुशवाहा नेताओं में से एक हैं। आलोक के मैदान में उतरने से नीतीश कुमार के कोर सपोर्टर्स माने जाने वाले कुशवाहा वोटर्स के उजियारपुर सीट पर बंटने की आशंका है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस बार आलोक राय के उतरने से इस परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि वह 7% लव-कुश वोट माने जाने वाले कुर्मी और कोइरी (कुशवाहा) पर अपनी पकड़ बरकरार रखने की कोशिश कर रहे हैं। कुर्मी और कोइरी (कुशवाहा) समुदायों को बिहार में लव-कुश कहा जाता है। 1990 के दशक से नीतीश ने राजद के मुस्लिम-यादव (एम-वाई) वोट बैंक का मुकाबला करने के लिए इस निर्वाचन क्षेत्र पर काफी ध्यान दिया है। पिछले साल के जाति सर्वेक्षण के अनुसार, बिहार की आबादी का 4.21% इसमें शामिल है।

Advertisement

उजियारपुर कुशवाहा की सबसे अधिक आबादी वाले निर्वाचन क्षेत्रों में से एक

लगभग 2.75 लाख कुशवाहा मतदाताओं के साथ उजियारपुर कुशवाहा (ओबीसी) की सबसे अधिक आबादी वाले निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से 15 पर 1.5 से 3 लाख के बीच कुशवाहा मतदाता हैं जो उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कर सकते हैं। ये सीटें हैं उजियारपुर, समस्तीपुर, काराकाट, औरंगाबाद, नवादा, नालंदा, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, खगड़िया, वाल्मिकी नगर, आरा, सीतामढी, पूर्णिया, जमुई और पटना साहेब।

चौथे चरण में आज उजियारपुर, समस्तीपुर, दरभंगा, मुंगेर और बेगूसराय में मतदान हो रहा है। वहीं, पांचवें चरण के बाद जिन निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान होगा उनमें सीतामढ़ी, वाल्मिकी नगर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, काराकाट, नालंदा, आरा और पटना साहेब शामिल हैं।

बिहार में कुशवाहा वोटों में विभाजन

कुर्मी वोट (लगभग 3%) काफी हद तक राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के पक्ष में दिखता है। वहीं, कुशवाहा वोटों में विभाजन दिखाई दे रहा है, जिनमें से कुछ राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन की ओर बढ़ रहे हैं। एक तरफ जहां विपक्ष ने छह कुशवाहा उम्मीदवारों को मैदान में उतारकर जद (यू) पर बढ़त बना ली है।

Advertisement

नवादा में श्रवण कुशवाहा, औरंगाबाद में अभय कुशवाहा और उजियारपुर में आलोक कुमार मेहता आरजेडी से चुनाव मैदान में हैं। वहीं, पटना साहेब में कांग्रेस के अंशुल अविजित, काराकाट में सीपीआई (एमएल) के राजाराम सिंह, सीपीआई (एम) के खगड़िया उम्मीदवार संजय कुमार और पूर्वी चंपारण में विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के उम्मीदवार राजेश कुशवाहा ये सभी भी कुशवाहा वोटर्स का विभाजन करेंगे। वहीं, दूसरी ओर जेडीयू ने केवल दो कुशवाहों- पूर्णिया में संतोष कुमार और वाल्मिकी नगर में सुनील कुमार को मैदान में उतारा है और भाजपा ने किसी भी कुशवाहा कैंडीडेट को मैदान में नहीं उतारा है।

बिहार की इन 15 सीटों पर कुशवाहा वोटर्स हैं प्रभावी

क्या कह रहे कुशवाहा वोटर्स?

एक तरफ जहां नीतीश कुमार के बार-बार सत्ता बदलने के कारण उनका कद प्रभावित हो रहा है। वहीं, दूसरी ओर उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के उपेन्द्र कुशवाहा खुद को पूरे बिहार के कुशवाहा नेता के रूप में स्थापित करने में विफल रहे हैं। स्थानीय कारकों और महागठबंधन के उम्मीदवारों चुनाव ने भी जद (यू) और एनडीए के लिए समुदाय के समर्थन को बांटने में एक भूमिका निभाई है।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान उजियारपुर के गावपुर गांव में किसान अजय कुमार ने कहा, '2019 के चुनाव में जहां पुलवामा फैक्टर था, वहीं इस चुनाव में स्थानीय फैक्टर हावी है। आलोक कुमार मेहता एक स्थानीय नेता हैं और बहुत मृदुभाषी और सुलभ व्यक्ति हैं। वह हमारे समुदाय से है। हमारे लिए कोई मोदी फैक्टर नहीं है।” एक और उजियारपुर निवासी नवीन सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “जहां राजद ने तीन कुशवाहों को टिकट दिया, वहीं भाजपा ने किसी को भी टिकट नहीं दिया। काराकाट में उपेंद्र कुशवाहा का मुकाबला बीजेपी के बागी और भोजपुरी गायक पवन सिंह से है। अमित शाह ने पवन सिंह को रेस से हटने के लिए क्यों नहीं कहा?”

नरेंद्र मोदी के नाम पर एनडीए को वोट देंगे कई मतदाता

नीतीश की खराब छवि को भी कुछ लोगों ने विपक्ष को समर्थन देने का कारण बताया। एक किसान संतोष कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “हम लालटेन मतदाता हैं। हमें नीतीश कुमार पसंद थे लेकिन अब वह खुद की छाया बन गए हैं। न तो सम्राट और न ही उपेन्द्र हमारे नेता बन सके।”

हालांकि, सभी कुशवाहा वोटर्स जेडीयू से नाराज नहीं हैं। विद्यापति नगर के कुशवाहा मोहल्ले में कुछ लोगों ने कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रहेंगे। बिहार जीविका कार्यकर्ता पंकज कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कहा, "जाति कारक इस चुनाव के प्रमुख विषयों में से एक होने के बावजूद अधिकांश युवा और महिलाएं अभी भी मोदी के साथ हैं।"

समस्तीपुर में, जहां राज्य में सबसे अधिक कुशवाह मतदाता (लगभग 3.5 लाख) हैं, फल विक्रेता भगवान कुशवाह ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कहा, “हालांकि हम में से अधिकांश लोग लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) का समर्थन करेंगे, फिर भी 30% से अधिक वोट कांग्रेस को जा सकते हैं। सम्राट चौधरी को हमारे पास आना चाहिए था चूंकि हम उपेक्षित महसूस करते हैं इसलिए हम जिसे चाहेंगे उसे वोट देंगे।”

बीजेपी पदाधिकारी को भी दो सीटों पर जीत में संशय

भाजपा के एक नेता ने कहा कि महागठबंधन ने सात कुशवाहा उम्मीदवारों को मैदान में उतारकर सही किया है और नवादा और औरंगाबाद में मुकाबला, जहां 19 अप्रैल को पहले चरण में मतदान हुआ था, करीबी मुकाबले होंगे। बीजेपी पदाधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “हमारे नवादा के उम्मीदवार विवेक ठाकुर अपनी जीत के बारे में आश्वस्त नहीं हो सकते क्योंकि श्रवण कुशवाहा को उनके समुदाय से भारी समर्थन मिला है। औरंगाबाद में हमारे उम्मीदवार सुशील कुमार सिंह को भी अभय कुशवाहा से कड़ी टक्कर मिली। हमें अभी भी यकीन नहीं है कि हम ये दोनों सीटें जीत रहे हैं या नहीं।''

स्थानीय लोगों के अनुसार, सीपीआई (एम) के संजय कुमार और एलजेपी के राजेश कुशवाहा के बीच भी मुकाबला करीबी होने की उम्मीद है। एक शिक्षक सतीश कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, "आमतौर पर यह माना जाता है कि यादव और कुशवाहा आपस में लड़ने वाली जातियां हैं और आम तौर पर एक साथ वोट नहीं करते हैं, लेकिन इस चुनाव क्षेत्र में यादवों की आक्रामकता कम हो गई है और यादव और कुशवाह एक साथ आ रहे हैं।"

एनडीए के प्रति कुशवाहा वोटर्स की नाराजगी

एनडीए के प्रति कुशवाहा की कुछ नाराजगी जमुई में भी दिखाई दे रही है, इस सीट का प्रतिनिधित्व पिछले दो बार एलजेपी (रामविलास) प्रमुख चिराग पासवान ने किया था। हालांकि सम्राट चौधरी का गृह क्षेत्र तारापुर निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है लेकिन कुछ कुशवाहों को उनसे शिकायत थी। तारापुर के पास एक गांव में रहने वाले सेवानिवृत्त शिक्षक राकेश कुशवाह ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कहा, "सम्राट चौधरी का महत्व इसलिए बढ़ गया क्योंकि वह एक कुशवाहा नेता हैं और उनमें लव-कुश नेतृत्व के खालीपन को भरने की क्षमता है, जो नीतीश कुमार के राजनीतिक करियर के अंत की ओर बढ़ने के साथ दिखाई दे रहा है। लेकिन, उन्होंने शायद ही पूरे राज्य में यात्रा की हो, खासकर कुशवाहा बहुल क्षेत्रों में। ''

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो