scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बिहार लोकसभा चुनाव 2024: दूसरे चरण में इसी एक सीट पर क्‍यों है सबकी नजर?

पप्‍पू यादव के नाम से मशहूर राजेश रंजन ने पूर्णिया का मुकाबला दिलचस्प बना दिया है। पिछले 20 साल से पूर्णिया एनडीए के खाते में रहा है- 10 साल पप्पू सिंह (भाजपा) और 10 साल संतोष कुशवाहा (जदयू) सांसद रहे हैं।
Written by: Ankit Raj
नई दिल्ली | Updated: April 25, 2024 19:12 IST
बिहार लोकसभा चुनाव 2024  दूसरे चरण में इसी एक सीट पर क्‍यों है सबकी नजर
पूर्णिया में चुनावी जनसभा को संबोधित करते भाजपा नेता और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Screengrab/Narendra modi Youtube channel)
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024: दूसरे चरण में बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर मतदान है। तीन सीटों पर मुकाबला आमने-सामने का बताया जा रहा है। वहीं दो संसदीय क्षेत्र में लड़ाई त्रिकोणीय है। चुनावी मैदान में उतरे कुल 50 प्रत्याशियों का फैसला कुल 93,96,298 मतदाता करने वाले हैं। 26 अप्रैल को दूसरे चरण के लिए मतदान है।

सीटप्रत्याशियों की संख्याआमने-सामने की टक्‍कर की संभावना
कटिहार9दुलालचंद गोस्वामी (जदयू) बनाम तारीक अनवर (कांग्रेस)
भागलपुर12अजय कुमार मंडल (जदयू) बनाम अजीत शर्मा (कांग्रेस)
बांका10गिरधारी यादव (जदयू) बनाम जय प्रकाश नारायण यादव (राजद)
तीनों सीट पर कुल 31 उम्मीदवार
सीटप्रत्याशियों की संख्यात्रिकोणीय मुकाबला की संभावना
किशनगंज12मो. मुजाहिद आलम (जदयू) बनाम डॉ. मोहम्मद जावेद (कांग्रेस) बनाम अख्तरुल ईमान (AIMIM)
पूर्णिया7संतोष कुशवाहा (जदयू) बनाम बीमा भारती (राजद) पप्पू यादव (निर्दलीय)
दोनों सीट पर कुल 19 उम्मीदवार

पप्पू यादव की उम्मीदवारी ने पूर्णिया का मुकाबला बनाया दिलचस्प

पप्‍पू यादव के नाम से मशहूर राजेश रंजन ने इंडिया गठबंधन में सीट बंटवारा होने से पहले अपनी पार्टी का विलय कांग्रेस में किया था। वह पूर्णिया से टिकट चाह रहे थे। लेकिन सीट बंटवारे में पूर्णिया राजद के खाते में चला गया, जिसके बाद उन्होंने निर्दलीय मैदान में उतरने का फैसला किया।

Advertisement

पप्पू यादव के लिए निर्दलीय लड़ना नया नहीं है। वह पहली बार पूर्णिया से ही सांसद बने थे, वो भी निर्दलीय। लेकिन इस बार यादव को कड़ी चुनौती मिल सकती है। वर्तमान में सीट जदयू के कब्जे में है। जदयू ने अपने मौजूदा सांसद संतोष कुशवाहा को ही टिकट दिया है। राजद ने जदयू की बागी बीमा भारती को उतारा है।

मुकाबला त्रिकोणीय होने की संभावना है। पप्पू यादव को लगता है कि पूर्णिया में उनका जनाधार है। वह पांच बार सांसद रहे हैं, जिसमें से तीन बार पूर्णिया से चुने गए हैं। इस बार पप्यू यादव की एंट्री ने जहां, राजद के पहली बार सीट जीतने के प्रयासों को खतरे में डाल दिया है। वहीं जदयू की भी चिंता बढ़ा दी है। पिछले दो बार से ये सीट जदयू जीत रही है।

कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद पप्पू यादव (PC- X)

1990 के दशक की शुरुआत में पूर्णिया में अपना राजनीतिक करियर शुरू करने वाले पूर्व सांसद के लिए, यह उस स्थान पर अपनी राजनीतिक प्रासंगिकता हासिल करने का प्रयास है जहां उन्होंने तीन दशक पहले चुनावी सफलता की ऊंचाइयों को छुआ था।

Advertisement

पप्पू यादव को हराने के लिए तेजस्वी ने क्या कहा?

राजद इस सीट के लिए पूरी ताकत लगा रही है। राजद के कई नेता पूर्णिया में डेरा डाले हुए हैं। तेजस्वी यादव ने धुंआधार प्रचार किया है। राजद की कोशिश है कि वह यादव-मुस्लिम समीकरण को साध ले, जो क्षेत्र में करीब छह लाख हैं। लेकिन संकट यही है। ऐसा माना जाता है कि अपने समुदाय में पप्पू यादव का भी जनाधार है।

Advertisement

मुस्लिम और यादव समुदाय को राजद का कोर वोट माना जाता है, लेकिन इस चुनाव में राजद ने मुसलमानों को टिकट देने में कंजूसी दिखाई है। राजद ने सिर्फ दो मुसलमानों को अपना उम्मीदवार बनाया है। विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

RJD
23 अप्रैल, 2022 को आयोजित इफ्तार पार्टी में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव। (Source-PTI)

पप्पू यादव और लालू परिवार में तनाव नया नहीं है। इसका अपना इतिहास है। उसकी झलक इस चुनाव में भी दिख रही है। तेजस्वी यादव ने पूर्णिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए साफ कर दिया था कि इंडिया को नहीं चुन सकते तो एनडीए को चुन लीजिए।

उन्होंने कहा था, "आप लोग किसी धोखे में नहीं आइए। यह चुनाव किसी एक व्यक्ति का चुनाव नहीं है। यह एनडीए और इंडिया गठबंधन की लड़ाई है। या तो इंडिया को चुनिए, बीमा भारती को वोट करिए और अगर इंडिया को नहीं चुन सकते, बीमा भारती को वोट नहीं दे सकते तो फिर एनडीए को चुन लीजिए। साफ बात है।"

गंगोटा समुदाय (EBC) से आने वाली रूपौली विधायक बीमा भारती को उम्मीद है कि पार्टी अध्यक्ष लालू प्रसाद की लोकप्रियता उन्हें मुकाबले में आगे बढ़ाएगी। सोमवार को एक चुनावी सभा में उन्होंने कहा, “हमारे मतदाता धर्मनिरपेक्ष भारत के विचार के प्रति प्रतिबद्ध हैं। कुछ अफवाह फैलाने वाले हैं लेकिन जीत हमारी होगी।''

भारती के लिए पप्पू यादव सबसे बड़ी चुनौती पेश करते हैं। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में पूर्णिया हाट के निवासी रविकांत रवि कहते हैं, “बीमा भारती की मुख्य चिंता यह है कि पप्पू यादव तेजी से राजद के मुस्लिम-यादव आधार और ईबीसी में सेंध लगाने की धमकी दे रहे हैं, उनके वो अपने गंगोटा समुदाय को छोड़कर, आगे बढ़ने की नहीं सोच रही हैं। हालांकि गंगोटा समुदाय के वोटर भी उनके साथ तालमेल नहीं बिठा रहे हैं।"

पिछले 20 साल से पूर्णिया में एनडीए

अच्छी संख्या में मुस्लिम और यादव आबादी होने के बावजूद पिछले 20 साल से पूर्णिया एनडीए के खाते में रहा है- 10 साल पप्पू सिंह और 10 साल संतोष कुशवाहा। जदयू को कुशवाह, बनिया, गैर-गंगोटा ईबीसी, दलित और गैर-यादव ओबीसी वोटों के अलावा एनडीए की वजह उच्च जातियों, खासकर राजपूतों और ब्राह्मणों का वोट मिलता रहा है।

किशनगंज में भी त्रिकोणीय मुकाबला

किशनगंज में जदयू, कांग्रेस और ओवैसी की AIMIM के बीच मुकाबला बताया जा रहा है। इस लोकसभा क्षेत्र में 68% मुसलमान हैं। 1967 के बाद से इस सीट पर कोई ह‍िंंदू उम्‍मीदवार नहीं जीत पाया है। किशनगंज में हिंदू उम्मीदवारों को भी मुसलमानों के मुद्दे पर वोट मांगना पड़ता है। विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

दूसरे चरण में बिहार की पांच सीटों पर मतदान है। पांच में से चार सीटों पर जदयू के का कब्जा है। लेकिन इस बार एनडीए के तीन सांसदों को कांटे की टक्‍कर मिल रही है। पांचों लोकसभा सीट का समीकरण जानने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

बांका से आरजेडी उम्मीदवार जय प्रकाश (PC- X @JPNYadav)

यूपी में मेरठ पर सबकी नजर

जिस तरह बिहार में दूसरे चरण में सबकी नजर पूर्णिया पर है। उसी तरह उत्तर प्रदेश में सबकी नजर मेरठ पर है। 26 अप्रैल को मेरठ सहित यूपी की आठ सीटों पर मतदान है। भाजपा ने 'टीवी के राम' अरुण गोविल को चुनाव लड़ाने के लिए अपने तीन बार के सांसद राजेंद्र अग्रवाल का टिकट काट दिया है। गोविल खुले आम राम के नाम पर वोट मांग रहे हैं। लेकिन आरएसएस के अधिकारी सीट पर धार्मिक ध्रुवीकरण की संभावना न होने से चिंता में हैं। दरअसल, पिछले 25 साल में पहली बार ऐसा हुआ है कि जब किसी भी बड़े दल ने मुस्लिम नेता को अपना उम्मीदवार न बनाया हो। विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

मेरठ से भाजपा प्रत्याशी अरुण गोविल (PC- FB)

ये भी पढ़ें- ओबीसी के पास 39 फीसदी सोना, मुस्‍ल‍िमों के पास 9 प्रत‍िशत- जान‍िए क‍िस समुदाय के पास क‍ितनी संपत्‍त‍ि

विस्तार से पढ़ने के लिए फोटो पर क्लिक करें:

मुस्‍ल‍िमों के पास 9 प्रत‍िशत सोना (Source- Express Illustration by Manali Ghosh)

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 टी20 tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो