scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Baharampur Lok Sabha Chunav: यहां है 52 प्रतिशत मुस्लिम आबादी लेकिन आज तक नहीं जीता कोई मुसलमान 

West Bengal TMC lok sabha candidates list 2024: बहरामपुर में क्या टीएमसी उम्मीदवार और क्रिकेटर यूसुफ पठान कांग्रेस प्रत्याशी अधीर रंजन चौधरी को हरा देंगे?
Written by: Pawan Upreti
नई दिल्ली | Updated: May 08, 2024 11:01 IST
baharampur lok sabha chunav  यहां है 52 प्रतिशत मुस्लिम आबादी लेकिन आज तक नहीं जीता कोई मुसलमान 
अधीर रंजन चौधरी और यूसुफ पठान। (Source-FB)
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 में पश्चिम बंगाल में एक सीट ऐसी है जहां पर 52% मुस्लिम आबादी है लेकिन हैरानी की बात यह है कि यहां से आज तक एक भी मुस्लिम सांसद चुनाव जीत कर लोकसभा में नहीं पहुंचा है। इस सीट का नाम है बहरामपुर। बहरामपुर से अधीर रंजन चौधरी 1999 से लगातार जीत हासिल करते आ रहे हैं।

अधीर रंजन चौधरी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में शुमार हैं और वह पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं।

Advertisement

BJP | TMC
उत्तरी दिनाजपुर जिले के हेमताबाद में चुनावी सभा को संबोधित करतीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी। (PTI Photo)

Baharampur Adhir Ranjan Chowdhury: अधीर के खिलाफ यूसुफ मैदान में

अधीर रंजन चौधरी के विजय रथ को रोकने के लिए पश्चिम बंगाल में सरकार चला रही तृणमूल कांग्रेस ने इस बार क्रिकेटर यूसुफ पठान को टिकट दिया है। टीएमसी को कभी भी बहरामपुर लोकसभा सीट पर जीत नहीं मिली है।

लोकसभा चुनाव 2019 में अधीर रंजन चौधरी की जीत का अंतर 81,000 वोटों का रहा था। यूसुफ पठान की जीत के लिए टीएमसी प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूरी ताकत लगा रही हैं। इसलिए इस बार चौधरी के लिए बहरामपुर में चुनावी मुकाबला आसान नहीं है।

Advertisement

अधीर रंजन चौधरी के सामने एक बड़ी मुश्किल यह है कि इस बार उन्हें एक मुस्लिम उम्मीदवार से चुनौती मिल रही है। जबकि पिछले पांच चुनावों में ऐसा नहीं था।

Advertisement

Baharampur Lok Sabha Election Result: बहरामपुर से कौन जीता चुनाव

बहरामपुर सीट पर अब तक हुए 17 लोकसभा चुनावों में से 11 बार रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी को जीत मिली है। जबकि छह बार कांग्रेस ने यहां से जीत हासिल की है। 1952 से लेकर 1980 तक यहां से एक ही उम्मीदवार लगातार चुनावी जीत हासिल करते रहे। इनका नाम त्रिदीब चौधरी था।

सालकौन जीताकिस दल को मिली जीत
1952त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1957त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1962त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1967त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1971त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1977त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1980त्रिदीब चौधरीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1984आतिश चंद्र सिन्हाकांग्रेस
1989नानी भट्टाचार्यरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1991नानी भट्टाचार्यरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1996प्रमोथेस मुखर्जीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1998प्रमोथेस मुखर्जीरिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी
1999अधीर रंजन चौधरीकांग्रेस
2004अधीर रंजन चौधरीकांग्रेस
2009अधीर रंजन चौधरीकांग्रेस
2014अधीर रंजन चौधरीकांग्रेस
2019अधीर रंजन चौधरीकांग्रेस

Baharampur Lok Sabha Election: अधीर को मिलने वाले वोट हुए 11% कम

2009 के लोकसभा चुनाव के बाद यहां अधीर रंजन चौधरी को मिले वोट में 11% की कमी आई है। 2009 के लोकसभा चुनाव में अधीर रंजन चौधरी को 56.91% वोट मिले थे जबकि 2019 में उन्होंने 45.47% वोट हासिल किए थे।

मुश्किल यहां यूसुफ पठान के लिए भी है क्योंकि उन्हें बांग्ला भाषा नहीं आती और वह हिंदी में ही लोगों को संबोधित करते हैं। इस वजह से यहां पर बाहरी उम्मीदवार का का मुद्दा भी हावी है।

Mamata banerjee
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी।

अधीर रंजन चौधरी को लेकर तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस के रिश्तों में खांसी तकरार देखने को मिल चुकी है। लोकसभा चुनाव के लिए जब पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और टीएमसी के बीच गठबंधन की चर्चा चल रही थी तब टीएमसी ने अधीर रंजन चौधरी के बयानों को लेकर खासी नाराजगी जताई थी।

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के साथ चुनावी गठबंधन से इनकार कर दिया था। पश्चिम बंगाल में टीएमसी अकेले चुनाव लड़ रही है जबकि कांग्रेस और वाम दल गठबंधन के तहत चुनाव मैदान में हैं।

West Bengal BJP : मुस्लिम मतों के बंटवारे से है उम्मीद

बीजेपी ने यहां से निर्मल साहा को टिकट दिया है। निर्मल साहा के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनावी जनसभा को संबोधित कर चुके हैं। बीजेपी यहां हिंदू मतों को एकजुट करना चाहती है और उसे उम्मीद है कि अगर कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के बीच मुस्लिम वोटों का बंटवारा हुआ तो उसे इसका फायदा मिल सकता है।

bengal politics| loksabha chunav| election 2024
बंगाल का राजनीतिक समीकरण (Source- PTI)

Baharampur Caste Equation: मुस्लिमों के बाद एससी मतदाता हैं ज्यादा

बहरामपुर में 52% मुस्लिम के अलावा 13.2% अनुसूचित जाति (एससी) और 0.9% अनुसूचित जनजाति (एसटी) के मतदाता हैं। ईसाई (0.25 %), जैन (0.04 %) और सिख (0.01 %) भी हैं।

बहरामपुर लोकसभा सीट में सात विधानसभा सीटें, बुरवान (एससी), कंडी, भरतपुर, रेजीनगर, बेलडांगा, बहरामपुर और नाओदा हैं। ये सभी सीटें मुर्शिदाबाद जिले में हैं। 2021 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी को सात में से छह सीटों पर जीत मिली थी और एक सीट बीजेपी के खाते में गई थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो