scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Rajouri : मिलिए उस दुकानदार से जिससे डरकर भागे आतंकी, 24 साल बाद उठाई थी राइफल

Terrorism: सरपंच दर्शन शर्मा ने कहा, “बाल कृष्ण के गोली चलाने के बाद आतंकवादी जंगलों में भाग गए। इससे ग्रामीणों को अपने घरों से बाहर निकलने और घायलों की देखभाल करने में मदद मिली।”
Written by: arun sharma | Edited By: संजय दुबे
Updated: January 04, 2023 11:08 IST
rajouri   मिलिए उस दुकानदार से जिससे डरकर भागे आतंकी  24 साल बाद उठाई थी राइफल
उग्रवादियों से मुकाबला करने वाले बालकृष्ण।
Advertisement

Jammu Kashmir: पहली जनवरी की शाम 42 वर्षीय बाल कृष्ण (Bal Krishna) अपनी कपड़े की दुकान से घर लौटे ही थे कि उन्होंने गोलियों की आवाज सुनी। राजौरी (Rajouri) शहर के पास एक गांव डांगरी के चौक पर कपड़े की दुकान के मालिक बाल कृष्ण बताते हैं, "मैंने अपनी राइफल उठाई और बाहर निकल गया। मैंने दो बंदूकधारियों को पड़ोस में घूमते देखा। वे मेरे घर के बहुत करीब थे। मैंने दो राउंड फायरिंग की और उग्रवादी घबरा गए और पास के जंगलों में भाग गए।”

सरपंच ने कहा, "अगर वह त्वरित फैसला नहीं लेते, तो हताहतों की संख्या कहीं अधिक होती"

इससे पहले कि वे ग्राम रक्षा समिति (VDC) के एक पूर्व सदस्य बाल कृष्ण से टकराते, उग्रवादी हत्या की फिराक में थे, और कम से कम चार घरों को निशाना बनाए थे, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई थी और छह अन्य घायल हो गए थे। पुलिस और ऊपरी डांगरी पंचायत के सरपंच दर्शन शर्मा का कहना है कि अगर वह तुरंत फैसला नहीं लेते, तो हताहतों की संख्या कहीं अधिक होती।

Advertisement

शर्मा ने कहा, “बाल कृष्ण के गोली चलाने के बाद आतंकवादी जंगलों में भाग गए। इससे ग्रामीणों को अपने घरों से बाहर निकलने और घायलों की देखभाल करने में मदद मिली।” यह दूसरा मौका था जब बाल कृष्ण अपनी बंदूक का इस्तेमाल कर रहे थे - एक बिना लाइसेंस वाली .303 राइफल। पहली बार 1998-99 में सेना द्वारा आयोजित एक शस्त्र प्रशिक्षण शिविर में उन्हें और वीडीसी के अन्य सदस्यों को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बंदूकें दी थीं।

उन्होंने कहा, “फिर हमें प्रत्येक को 100 राउंड कारतूस दिए गए। हमने आर्मी ट्रेनिंग कैंप में 10 राउंड का इस्तेमाल किया, जिसके बाद मेरे पास 90 गोलियां बचीं। बालकृष्ण कहते हैं कि लाइसेंस नहीं होने और इसके मिलने की बहुत कम उम्मीद होने से यह घर में पिछले 24 साल से एक "डंडा" के सिवाय कुछ नहीं था।

Advertisement

Rajouri case.
राजौरी के डांगरी गांव में रविवार शाम को मारे गए छह लोगों का मंगलवार को अंतिम संस्कार करते ग्रामीण। (पीटीआई)

1990 के दशक के मध्य में, जब जम्मू-कश्मीर में उग्रवाद चरम सीमा पर था, जम्मू के 10 जिलों में क्षेत्र के लिए सुरक्षा के तौर वीडीसी स्थापित किए गए थे। 2002 के बाद से लगातार सभी सरकारों में हाथापाई और हथियारों के दुरुपयोग के आरोपों में वीडीसी धीरे-धीरे अपना दबदबा खो दिए। इस दौरान वीडीसी को भंग करने की योजना से इनकार करते हुए सदस्यों को अपने हथियार वापस करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

Advertisement

डांगरी में भी, शांति कायम रहने पर, कुछ साल पहले, जिला प्रशासन ने घोषणा की कि 60 से ऊपर के लोगों को अपने हथियार वापस करने होंगे।
वे कहते हैं, बाल किशन कहते हैं कि चूंकि उनकी उम्र 60 वर्ष से कम थी, इसलिए पुलिस ने उन्हें राजौरी पुलिस स्टेशन में एक पासपोर्ट फोटो जमा करने के लिए कहा, ताकि उन्हें अपनी बंदूक का लाइसेंस जारी किया जा सके।

Crime
घायलों में से एक को राजौरी के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। (एएनआई/फाइल)

उनका कहना है कि उन्हें अभी तक अपना लाइसेंस नहीं मिला है, वे कहते हैं, “लगभग 8-9 महीने पहले, राजौरी पुलिस ने मुझे अपने हथियार के साथ पुलिस स्टेशन आने के लिए कहा था। इसकी जांच करने के बाद, अधिकारी ने इसे साफ रखने के निर्देश के साथ मुझे बंदूक वापस कर दी।” बताया, उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि इससे उन्हें जान बचाने में मदद मिलेगी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो